Monsoon Session: कोरोना, राफेल और किसान आंदोलन समेत कई मुद्दों पर सरकार को घेरेगा विपक्ष

Monsoon Session 2021 का आगाज हो सकता है हंगामेदार (फाइल फोटो)

Monsoon Session 2021: विपक्ष संसद के इस मानसून सत्र में कोविड-19 की दूसरी लहर से निपटने के तरीके, ईंधन की कीमतों में वृद्धि और किसान आंदोलन के मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी कर रहा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. संसद के मानसून सत्र (Monsoon Session) का आगाज ही हंगामेदार हो सकता है. विपक्षी दल कई मुद्दों पर सरकार को घेरने की कोशिश में लगे हैं और रणनीति बनाई जा रही है. सरकार को घेरने की अपनी रणनीति के तहत कई विपक्षी दल किसानों के मुद्दे (Kisan Andolan) को लेकर सोमवार को संसद के दोनों सदनों में स्थगन प्रस्ताव लाने की तैयारी में हैं. रविवार को सर्वदलीय बैठक के बाद विपक्षी दलों ने एक बैठक की. इस बैठक के बाद आरएसपी नेता एनके. प्रेमचन्द्रन ने बताया कि विभिन्न विपक्षी पार्टियां किसानों के मुद्दे पर संसद के दोनों सदनों में स्थगन प्रस्ताव लाएंगी.

    विपक्षी दलों की बैठक में कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा), आईयूएमएल, आरएसपी, शिवसेना और आम आदमी पार्टी (आप) के नेताओं ने हिस्सा लिया.

    विपक्ष कोविड-19 महामारी (COVID-19) की दूसरी लहर के दौरान स्वास्थ्य सेवाओं की कथित कमी और राज्यों को टीके के वितरण के मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी कर रहा है. विपक्ष पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि को लेकर भी सरकार से जवाब मांगेगा. संसद का मानसून सत्र 13 अगस्त तक चलेगा. बुलेटिन में सूचीबद्ध वित्तीय विषयों में वर्ष 2021-22 के लिए अनपूरक मांग और अनुदान पर चर्चा एवं मतविभाजन शामिल है. उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने शनिवार को संसद सदस्यों से अपील की कि महामारी के बीच वे लोगों के साथ खड़े हों और सदन में जनता से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करें.

    इसके साथ ही संसद के दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा में पेगासस का मुद्दा भी उठाया जा सकता है. इसमें कथित तौर से नेताओं, जज और केंद्रीय मंत्रियों के फोन टैप करने का दावा किया गया है.

    किसान आंदोलन और कोरोना का मुद्दा संसद में प्रमुखता से उठाने को कहा
    कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रविवार को पार्टी के लोकसभा सांसदों की बैठक की अध्यक्षता की, जिसमें किसान आंदोलन, पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों तथा कोविड-19 के ‘खराब प्रबंधन’ जैसे मुद्दों को जोर शोर से संसद में उठाने का निर्णय लिया. सोमवार से शुरू हो रहे संसद के मॉनसून सत्र के पहले पार्टी नेताओं ने कहा कि पार्टी के सांसद इन मुद्दों पर चर्चा की मांग के लिए लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव पेश करेंगे. उन्होंने कहा कि राफेल सौदे में कथित भ्रष्टाचार और आर्थिक स्थिति जैसे मुद्दों पर भी दोनों सदनों में चर्चा की जाएगी.

    कांग्रेस प्रमुख ने लोकसभा सांसदों के साथ ऑनलाइन आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए इन मुद्दों को मजबूती के साथ उठाने और सरकार को संसद में घेरने की सदस्यों से अपील की. उन्होंने कहा कि ये मुद्दे आम आदमी से जुड़े हैं,जो सरकार की नीतियों के कारण परेशानियों का सामना कर रहे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.