liveLIVE NOW

Monsoon Session Live: पेगासस मुद्दे पर IT मिनिस्टर बोले- लोकतंत्र की छवि धूमिल करने की हुई कोशिश

केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान जंतर-मंतर पर भारी सुरक्षा के बीच एक आंदोलन शुरू करेंगे. यहां पढ़ें संसद के मानसून सत्र से जुड़े Live Updates

  • News18Hindi
  • | July 22, 2021, 14:43 IST
    facebookTwitterLinkedin
    LAST UPDATED 9 DAYS AGO

    AUTO-REFRESH

    15:33 (IST)

    राज्यसभा में जिस वक्त आईटी मंत्री अश्वनी वैष्णव कथित पेगासस जासूसी मामले पर बयान दे रहे थे, उस वक्त तृणमूल कांग्रेस सदस्यों विरोध में हंगामा करते हुए पन्ने फाड़े.

    14:45 (IST)

    इस बीच, अन्य सदस्यों ने अलग-अलग मुद्दों को लेकर हंगामा शुरू कर दिया. कुछ सदस्य अपने स्थान से आगे भी आ गए. नायडू ने सदस्यों से अपने स्थानों पर लौट जाने और सदन की कार्यवाही चलने देने की अपील की. हंगामे के बीच उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि कुछ सदस्य नहीं चाहते कि सदन में लोगों से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की जाए. सदन में व्यवस्था बनते न देख उन्होंने बैठक शुरू होने के महज दो मिनट के भीतर ही कार्यवाही दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

    14:45 (IST)

    इसके बाद भी सदस्यों का हंगामा जारी रहा. सदन में हंगामा थमते न देख, उपसभापति ने सदन की कार्यवाही दो बजे तक स्थगित कर दी. सुबह, सदन की बैठक शुरू होने पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने आवश्यक दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाए. इसी दौरान कांग्रेस सदस्य दिग्विजय सिंह ने मीडिया समूह दैनिक भास्कर के विभिन्न परिसरों पर आयकर विभाग के छापों का मुद्दा उठाने का प्रयास किया वहीं तृणमूल कांग्रेस सदस्यों ने कथित जासूसी से जुड़ा मुद्दा उठाने का प्रयास किया. लेकिन सभापति ने उन्हें इसकी अनुमति नहीं दी और कहा कि किसी भी मुद्दे को उठाने के लिए आसन की अनुमति की जरूरत होती है.

    14:45 (IST)

    इससे पहले दोपहर 12 बजे जैसे ही सदन की कार्यवाही आरंभ हुई उपसभापति हरिवंश ने प्रश्नकाल के लिए सदस्य का नाम पुकारा लेकिन विपक्षी सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया. उपसभापति ने कहा, ‘‘प्रश्नकाल सदस्यों के सवाल के लिए है...सवाल जवाब सदस्यों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है...आप सदन नहीं चलाना चाहते...आप अपने-अपने स्थान पर जाएं.’’

    14:45 (IST)

    वैष्णव ने बयान की शुरुआत की ही थी कि हंगामा और तेज हो गया. हंगामे के कारण उनकी बात नहीं सुनी जा सकी. उपसभापति ने विपक्षी दलों के रवैये को ‘‘असंसदीय’’ करार दिया और केंद्रीय मंत्री से बयान को सदन के पटल पर रखने का आग्रह किया. इसके बाद वैष्णव ने बयान सदन के पटल पर रख दिया. इसके बाद उपसभापति ने कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी. पेगासस सॉफ्टवेयर के जरिये भारतीयों की जासूसी करने संबंधी खबरों को सरकार ने पहले ही सिरे से खारिज कर दिया है. वैष्णव ने पिछले दिनों लोकसभा में कहा था कि संसद के मॉनसून सत्र से ठीक पहले लगाये गए ये आरोप भारतीय लोकतंत्र की छवि को धूमिल करने का प्रयास हैं.

    14:44 (IST)
    अलग-अलग मुद्दों पर विभिन्न दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण राज्यसभा की बैठक बृहस्पतिवार को दो बार के स्थगन के बाद अंतत: दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई. हंगामे के कारण सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ‘‘पेगासस विवाद’’ पर अपना बयान ढंग से नहीं दे सके. उन्हें इसे सदन के पटल पर रखना पड़ा. हंगामे की वजह से शून्यकाल और प्रश्नकाल भी नहीं चल सके. दो बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजे जैसे ही सदन की कार्यवाही आरंभ हुई उपसभापति हरिवंश ने बयान देने के लिए वैष्णव का नाम पुकारा. इसी दौरान विपक्षी सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया.

    14:43 (IST)

    आईटी मंत्री अश्वनी वैष्णव द्वारा कथित पेगासस जासूसी मामले पर बयान देने के दौरान तृणमूल कांग्रेस सदस्यों ने पन्ने फाड़े

    14:22 (IST)

    उन्होंने कहा, ‘‘देश का हर व्यक्ति जानता है कि ऑक्सीजन की कमी से बहुत सारे लोगों की मौत हुई. फिर एक मंत्री यह कहकर कैसे सदन को गुमराह कर सकती हैं कि ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई. यह विशेषाधिकार हनन का मामला है.’’कांग्रेस महासचिव ने बताया, ‘‘हमने सभापति से आग्रह किया है कि आगे की कार्रवाई के लिए इस नोटिस को विशेषाधिकार समिति के पास भेजा जाए.’’

    14:21 (IST)
    कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बृहस्पतिवार को कहा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से मौत नहीं होने संबंधी ‘गलत जानकारी’ देकर ‘राज्यसभा को गुमराह करने’ के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती पवार के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया गया है. वेणुगोपाल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ गलत जानकारी देकर राज्यसभा को गुमराह करने के लिए स्वास्थ्य राज्य मंत्री के खिलाफ मैंने विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया है.’’

    Monsoon Session Live Updates- नई दिल्ली. तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के मुद्दे पर कांग्रेस और कुछ अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण बृहस्पतिवार को लोकसभा की कार्यवाही दो बार के स्थगन के बाद अपराह्न चार बजे तक स्थगित कर दी गयी. सदन में आज भी प्रश्नकाल बाधित हुआ और हंगामे के बीच ही सरकार ने दो विधेयक पेश किये. संसद के मॉनसून सत्र के शुरुआती दो दिन भी विपक्षी सदस्यों के हंगामे के कारण निचले सदन में कामकाज नहीं हो सका.

    सुबह सदन की कार्यवाही आरंभ होने के साथ ही विपक्षी सदस्य नारेबाजी करते हुए आसन के निकट पहुंच गए. कांग्रेस सदस्यों ने ‘काले कानून वापस लो’ के नारे लगाए. उन्होंने तख्तियां हाथ में ले रखी थीं. इनमें से एक तख्ती पर ‘अन्नदाता का अपमान बंद करो, तीनों कृषि कानून रद्द करो’ लिखा था. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन में हंगामे के बीच प्रश्नकाल शुरू करवाया. इस दौरान जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने के पूरक प्रश्नों के उत्तर भी दिए.

    वहीं जंतर मंतर पर किसान यूनियन के नेता हन्नान मुल्ला ने कहा कि हमने अपनी मांगों को उठाने के लिए सभी सांसदों को पत्र लिखा है, लेकिन संसद में हमारे मुद्दे नहीं उठाए जा रहे हैं. वहीं आईटी मंत्री अश्वनी वैष्णव द्वारा कथित पेगासस जासूसी मामले पर बयान देने के दौरान तृणमूल कांग्रेस सदस्यों ने पन्ने फाड़ दिए.

    यहां पढ़ें संसद के मानसून सत्र से जुड़े Live Updates