liveLIVE NOW
  • Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Monsoon Session Live Updates: लोकसभा-राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित, कांग्रेस ने कहा- पेगासस पर हो चर्चा

Monsoon Session Live Updates: लोकसभा-राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित, कांग्रेस ने कहा- पेगासस पर हो चर्चा

कांग्रेस ने फैसला किया कि वह मानसून सत्र के दौरान आगे भी पेगासस जासूसी मुद्दे को लेकर पीछे नहीं हटेगी. यहां पढ़ें संसद के Monsoon Session से जुड़े Live Updates

  • News18Hindi
  • | July 30, 2021, 11:37 IST
    facebookTwitterLinkedin
    LAST UPDATED 2 MONTHS AGO

    AUTO-REFRESH

    15:04 (IST)
    विधेयक के उद्देश्यों में कहा गया है कि चूंकि संसद सत्र नहीं था और ऐसे विधान की तत्काल जरूरत थी, ऐसे में 28 अक्तूबर 2020 को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र एवं संलग्न क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिये आयोग अध्यादेश लाया गया. लेकिन उक्त अध्यादेश को प्रतिस्थापित करने के लिये संसद में पेश नहीं किया जा सका. परिणामस्वरूप इसकी मियाद 12 मार्च 2021 को समाप्त हो गई. इसके बाद भारत के राष्ट्रपति ने संविधान के अनुच्छेद 123 खंड 1 के तहत 13 अप्रैल 2021 को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र एवं संलग्न क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिये आयोग अध्यादेश को मंजूरी दी.

    15:04 (IST)
    इसमें खेत में फसल कट जाने के बाद ठूंठ या पराली जलाने, यातायात प्रदूषण, औद्योगिक उत्सर्जन, सड़क की धूल, जैव सामग्री जलाना जैसे विषय शामिल हैं. इसमें कहा गया है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और इसके आसपास के क्षेत्रों में वायु प्रदूषण से निपटने के लिये सहयोगी एवं भागीदारीपूर्ण स्थायी और समर्पित तंत्र की कमी है. उच्चतम न्यायालय ने भी कई अवसरों पर वायु प्रदूषण की समस्या के समाधान के लिये अभिनव उपायों एवं अनुसंधान पहलों में सुधार की बात कही है. विधेयक में कहा गया है कि ऐसे में वायु प्रदूषण से निपटने एवं स्थायी समाधान के लिये राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और इसके आसपास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंध आयोग स्थापित करना जरूरी समझा गया.

    15:04 (IST)
    इससे संबंधित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र एवं संलग्न क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिये आयोग अध्यादेश, 2021 का स्थान लेगा. विधेयक के उद्देश्यों एवं कारणों में कहा गया है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और निकटवर्ती क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता चिंता का मुख्य कारण बनी हुई है. वायु प्रदूषण के कारणों की निगरानी करने, उनका समाधान, उन्मूलन तथा वायु प्रदूषण को कम करने संबंधी उपायों की पहचान करने के लिये समेकित दृष्टिकोण विकसित एवं कार्यान्वित करने की जरूरत है.

    15:03 (IST)
    लोकसभा में शुक्रवार को ‘राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र एवं संलग्न क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिये आयोग विधेयक, 2021’ पेश किया गया. इसमें राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और उसके निकटवर्ती क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता सूचकांक से संबंधित समस्याओं को लेकर बेहतर समन्वय, अनुसंधान, पहचान और समाधान के लिये वायु गुणवत्ता प्रबंध आयोग गठित करने और उससे संबद्ध विषयों का उपबंध किया गया है. वन एवं पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेन्द्र यादव ने निचले सदन में विपक्षी सदस्यों के शोर-शराबे के बीच विधेयक पेश किया. 

    14:46 (IST)
    विभिन्न मुद्दों पर विपक्षी दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण शुक्रवार को राज्यसभा की बैठक दो बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजकर करीब 40 मिनट पर दिन भर के लिए स्थगित

    13:06 (IST)
    इसके बाद अग्रवाल ने विपक्षी सदस्यों से अपने स्थान पर जाने और कार्यवाही में हिस्सा लेने की अपील की. उन्होंने कहा कि कुछ महत्वपूर्ण विधेयक पेश किये गए हैं और कोविड मुद्दे पर भी चर्चा होनी है. कृपया चर्चा में हिस्सा लें. हालांकि, विपक्षी सदस्यों का शोर-शराबा जारी रहा. व्यवस्था बनते नहीं देख पीठासीन सभापति ने कार्यवाही एक बार के स्थगन के बाद करीब सवा 12 बजे दिनभर के लिये स्थगित कर दी. शनिवार और रविवार को अवकाश होने के कारण अब सदन की अगली बैठक सोमवार को होगी.

    13:05 (IST)
    इसके बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने विपक्षी सदस्यों के शोर-शराबे और नारेबाजी के बीच करीब आधे घंटे तक प्रश्नकाल चलाया. विपक्षी सदस्यों के हाथों में तख्तियां थीं, जिन पर तीन कृषि कानूनों को समाप्त करने एवं पेगासस मुद्दे की जांच कराने संबंधी मांगें लिखी हुई थीं. 12 बजे कार्यवाही शुरू होने पर भी स्थिति ज्यों की त्यों बनी रही. पीठासीन सभापति राजेन्द्र अग्रवाल ने शोर-शराबे के बीच ही आवश्यक कागजात सभापटल पर रखवाये. इस दौरान ‘साधारण बीमा कारोबार (राष्ट्रीयकरण) संशोधन विधेयक, 2021’ और ‘राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र एवं संलग्न क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिये आयोग विधेयक, 2021’ पेश किया गया.

    13:05 (IST)

    जोशी ने कहा कि संसद के दोनों सदनों में सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने विस्तृत बयान दिया है. लेकिन ये (विपक्ष) बहाना बनाकर पिछले 8 दिनों से सदन चलने नहीं दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि कार्य मंत्रणा समिति में जनता से जुड़े जो मुद्दे तय हुए हैं, उन पर हम काम करना चाहते हैं. सरकार नहीं चाहती कि कोई विधेयक बिना चर्चा के पारित हो. उन्होंने कहा कि प्रश्नकाल सदस्यों का अधिकार होता है, इसमें बाधा नहीं आनी चाहिए. संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि आप (लोकसभा अध्यक्ष) जिस तरह से काम करने को कहेंगे, हम इसके लिये तैयार हैं.

    13:04 (IST)
       प्रश्नकाल के दौरान शोर-शराबे के बीच ही महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी, आयुष मंत्री सर्वानंद सोनोवाल, वन एवं पर्यावरण मंत्री भूपेन्द्र यादव और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने अपने-अपने मंत्रालयों से जुड़े पूरक प्रश्नों के उत्तर भी दिये. कार्यवाही शुरू होने पर सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि हम पहले दिन से ही पेगासस जासूसी मामले पर चर्चा करने की मांग कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि इसके साथ ही किसानों से जुड़ा विषय और कोविड संबंधी मुद्दा भी है. चौधरी ने कहा कि लेकिन सरकार इस पर चर्चा नहीं करा रही है. पेगासस जासूसी मामले पर चर्चा की विपक्ष की मांग को लेकर संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा, ‘‘ यह कोई मुद्दा नहीं है.’’

    नई दिल्ली. पेगासस जासूसी मामले पर संसद में पिछले कई दिनों से चल रहे गतिरोध के बीच कांग्रेस ने  फैसला किया कि वह मानसून सत्र के दौरान आगे भी इस मुद्दे को लेकर पीछे नहीं हटेगी और चर्चा कराने एवं गृह मंत्री अमित शाह के जवाब की मांग पुरजोर ढंग से करती रहेगी. सूत्रों के मुताबिक, संसद भवन में पार्टी के संसदीय मामलों के रणनीतिक समूह की बैठक में यह फैसला किया गया. बैठक में राज्यसभा के नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और लोकसभा में पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी, वरिष्ठ नेता जयराम रमेश और कुछ अन्य नेता मौजूद थे. वहीं लोकसभा में सांसद एनके प्रेम चंद्रन और विनायक राउत, देश में कोरोना के हालात का मुद्दा उठाएंगे. राज्यसभा में मानसून सत्र (Monsoon Session 2021) के शुरूआत में ही चर्चा हो चुकी है.

    यहां पढ़ें संसद के Monsoon Session से जुड़े Live Updates

    विज्ञापन

    विज्ञापन