कोरोना संकट के बीच संसद सत्र: शक्तिसिन्ह गोहिल बोले- प्रश्नकाल पर ना चले कैंची

कोरोना संकट के बीच संसद सत्र: शक्तिसिन्ह गोहिल बोले- प्रश्नकाल पर ना चले कैंची
कांग्रेस नेता शक्तिसिन्ह गोहिल ने प्रश्नकाल पर अपील की.

Monsoon Session 2020: लोकसभा(Loksabha) और राज्यसभा(Rajya Sabha) के सत्र की तैयारियां शुरू हो गई है. एक बयान के अनुसार दोनों सदनों को 500 मीटर के आप्टिक फाइबर तथा अन्य केबल से जोड़ा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 28, 2020, 1:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना संकट (Coronavirus In India) के बीच लोकसभा और राज्यसभा (Parliament Monsoon Session) के सत्र की तैयारियां शुरू हो गई है. इस बीच कांग्रेस नेता और राज्य सभा सांसद शक्ति सिन्ह गोहिल (Shakti Sinh Gohil) ने प्रश्नकाल के मुद्दे पर सरकार से अपील की है. उन्होंने कहा कि प्रश्नकाल होने दिया जाना चाहिए. गोहिल ने कहा कि 'संसद में प्रशनकाल बड़ा ही महत्व का अधिकार है. पुरानी रूलिंग में भी प्रशनकाल का बड़ा ही महत्व कहा गया है. किसी भी हालत में सिर्फ सरकार के बिज़नेस के लिए संसद नहीं मिलनी चाहिए लेकिन प्रशनकाल और सदस्यों को मिलते समय का भी सभापति जी ओर अध्यक्ष जी ख्याल रखेंगे यह उम्मीद है.'

बता दें मंत्रिमंडल की संसदीय मामलों की समिति ने आगामी मानसून सत्र 14 सितम्बर से आहूत करने की सिफारिश की है. सूत्रों के मुताबिक एक अक्टूबर तक चलने वाले इस सत्र के दौरान कुल 18 बैठकें प्रस्तावित हैं. इसे बारे में विस्तृत जानकारी जल्द ही जारी की जाएगी. मानसून सत्र को लेकर जोरदार तैयारियां चल रही है क्योंकि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर संसदीय इतिहास में बहुत कुछ पहली बार होने जा रहा है.

अधिकारियों के मुताबिक उचित दूरी का पालन करने के लिए नई व्यवस्थाएं बनाई जा रही हैं. मसलन, सदस्यों के बैठने के लिए दोनों सदन कक्षों और दीर्घाओं का इस्तेमाल किए जाने की संभावना है. राज्यसभा सचिवालय के मुताबिक सत्र की कार्यवाही के दौरान उच्च सदन के सदस्य दोनों सदन कक्षों और दीर्घाओं में बैठेंगे.

क सदन सुबह के समय बैठेगा और दूसरे की कार्यवाही शाम को

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज