liveLIVE NOW
  • Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Monsoon Session Live Updates: हंगामें की भेंट चढ़ी लोकसभा, राज्यसभा में बातचीत के बाद हुआ कामकाज

Monsoon Session Live Updates: हंगामें की भेंट चढ़ी लोकसभा, राज्यसभा में बातचीत के बाद हुआ कामकाज

Monsoon Session Live Updates: विपक्ष संसद के मानसून सत्र में सरकार को तीन कृषि कानूनों, पेगासस जासूसी मामला और महंगाई समेत विभिन्न विषयों पर घेरने का प्रयास कर रही है.

  • News18Hindi
  • | July 21, 2021, 06:46 IST
    facebookTwitterLinkedin
    LAST UPDATED 2 MONTHS AGO

    AUTO-REFRESH

    6:50 (IST)

    मंडाविया ने मंगलवार को राज्यसभा में क्या कहा? कोविड-19 की महामारी की संभावित तीसरी लहर से मुकाबले के लिए सरकार की पर्याप्त तैयारियां होने का भरोसा दिलाते हुए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को राज्यसभा में कहा कि कई भारतीय कंपनियां अपने कोविड-19 रोधी टीकों का उत्पादन बढ़ा रही हैं तथा देश की दो कंपनियां बच्चों के वास्ते टीके बनाने के लिए परीक्षण के विभिन्न चरण में हैं. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार इस बात का पूरा प्रयास कर रही है कि देश के सभी व्यस्क लोगों का यथाशीघ्र टीकाकरण पूरा कर लिया जाए.

    6:50 (IST)

    पुरी ने महामारी के प्रबंधन के सरकार के प्रयासों का बचाव किया और विपक्षी दलों पर स्वास्थ्य संकट का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया. मोदी ने एक ट्वीट में कहा, ‘ मनसुख मंडाविया के इस व्यापक भाषण में कोविड-19 से संबंधित कई पहलुओं को व्यावहारिक और संवेदनशील तरीके से शामिल किया गया है. मैं आप सभी से उनकी टिप्पणियों को सुनने का अनुरोध करता हूं.’

    6:50 (IST)
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को संसद में कोविड-19 मुद्दे पर स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया के भाषण की सराहना की और सभी से इसे सुनने का आग्रह किया. मोदी ने राज्यसभा में इस मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी के भाषण की भी प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने कई महत्वपूर्ण बिंदु बनाए और वैश्विक महामारी से संबंधित विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला को स्पष्ट रूप से समझाया. मंडाविया ने महामारी से निपटने के लिए मोदी के नेतृत्व वाली सरकार का कड़ा बचाव किया और कहा कि देश में टीकों का उत्पादन बढ़ रहा है और सभी वयस्कों को जल्द से जल्द टीका लगाने का प्रयास किया जा रहा है.

    6:44 (IST)

    एक दिन बाद, एसकेएम ने दिल्ली पुलिस पर संसद के बाहर उनके विरोध प्रदर्शन को 'संसद घेराव' बताते हुए इसके बारे में दुष्प्रचार करने का आरोप लगाया. एसकेएम ने एक बयान में कहा था कि एसकेएम ने पहले ही कहा है कि संसद के घेराव की कोई योजना नहीं है और विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण और अनुशासित होगा. एसकेएम ने पहले कहा था कि मानसून सत्र शुरू होने से दो दिन पहले, सभी विपक्षी सांसदों को सदन के अंदर कृषि कानूनों का विरोध करने के लिए एक "चेतावनी पत्र" जारी किया जाएगा.

    6:44 (IST)

    किसान नेता ने कहा, ‘पुलिस को सूचित किया गया कि विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण होगा. हम पूर्वाह्न 10 बजे से शाम 5 बजे तक जंतर-मंतर पर बैठेंगे. कोई भी संसद नहीं जाएगा और न ही हम किसी राजनीतिक व्यक्ति को विरोध प्रदर्शन में आने दिया जाएगा.’ रविवार को हुई एक बैठक के दौरान, दिल्ली पुलिस ने किसान यूनियनों से विरोध प्रदर्शन में शामिल होने वाले लोगों की संख्या कम करने के लिए कहा था, लेकिन किसान यूनियन के नेताओं ने इसे अस्वीकार कर दिया था.

    6:44 (IST)
     केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन की अगुवाई कर रहे 40 से अधिक किसान यूनियन के संयुक्त निकाय संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने योजना बनाई थी कि 22 जुलाई से हर दिन लगभग 200 किसान मानसून सत्र के दौरान संसद के बाहर विरोध प्रदर्शन करेंगे. संसद का मानसून सत्र सोमवार को शुरू हुआ और 13 अगस्त को समाप्त होगा. कक्का ने कहा, ‘हमने पुलिस को सूचित कर दिया है कि मानसून सत्र के दौरान हर दिन 200 किसान सिंघू सीमा से बसों में जंतर-मंतर जाएंगे. यह एक शांतिपूर्ण प्रदर्शन होगा और प्रदर्शनकारियों के पास पहचान का बैज होगा.’ उन्होंने कहा, ‘जब पुलिस ने हमें प्रदर्शनकारियों की संख्या कम करने के लिए कहा, तो हमने उन्हें कानून-व्यवस्था की स्थिति पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा और आश्वासन भी दिया कि विरोध शांतिपूर्ण होगा.’ उन्होंने बताया कि पुलिस की ओर से अभी तक कोई लिखित सूचना नहीं मिली है.

    6:43 (IST)
    किसान यूनियन के एक नेता ने मंगलवार को दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के साथ बैठक के बाद कहा कि किसान कृषि कानूनों को वापस लिये जाने की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करेंगे और कोई भी प्रदर्शनकारी संसद नहीं जाएगा जहां मानसून सत्र चल रहा है. राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिव कुमार कक्का ने पीटीआई-भाषा को बताया कि 22 जुलाई से प्रत्येक दिन 200 किसान पहचान पत्र लगाकर सिंघू सीमा से जंतर-मंतर पर धरना प्रदर्शन करने के लिए जाएंगे.

    Monsoon Session Live Updates: नई दिल्ली. लोकसभा (Loksabha) में विपक्षी सदस्यों ने महंगाई और पेगासस जासूसी (pegasus spyware) मामले समेत विभिन्न विषयों पर आसन के समीप आकर नारेबाजी की और उनके हंगामे के कारण सदन की बैठक दो बार के स्थगन के बाद दिनभर के लिए स्थगित कर दी गयी. विपक्ष संसद के मानसून सत्र में सरकार को तीन केंद्रीय कृषि कानूनों, पेगासस जासूसी मामला और महंगाई समेत विभिन्न विषयों पर घेरने का प्रयास कर रहा है. विपक्ष के शोर शराबे के कारण मानसून सत्र में निचले सदन में लगातार दूसरे दिन कामकाज नहीं हो सका . सुबह 11 बजे सदन की बैठक शुरू होने पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने प्रश्नकाल शुरू कराया. इस दौरान विपक्षी सदस्य हाथों में तख्तियां लेकर आसन के समीप आ गए और नारेबाजी करने लगे. हंगामे के बीच ही कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने भाजपा सदस्य जसकौर मीणा के पूरक प्रश्न का उत्तर दिया. उधर राज्यसभा (Rajyasabha) के सभापति एम वेंकैया नायडू ने मंगलवार को विभिन्न दलों के नेताओं के साथ बैठक की और उसके बाद मानसून सत्र के दूसरे दिन उच्च सदन में सुचारू रूप से कामकाज हुआ. सदन में कोविड महामारी मुद्दे पर चर्चा हुयी. सूत्रों ने कहा कि नायडू ने सदन के नेता पीयूष गोयल, विपक्षी नेताओं आनंद शर्मा, जयराम रमेश, डेरेक ओ ब्रायन, तिरुचि शिवा और कुछ अन्य से मुलाकात की. सदन में दोपहर एक बजे से चर्चा शुरू हुयी.

    यहां पढ़ें संसद के मानसून सत्र से जुड़े सभी लाइव अपडेट्स

    विज्ञापन

    विज्ञापन