होम /न्यूज /राष्ट्र /

मॉनसून सत्र: अविश्वास प्रस्ताव पर सरकार का साथ दे सकती है शिवसेना

मॉनसून सत्र: अविश्वास प्रस्ताव पर सरकार का साथ दे सकती है शिवसेना

संसद का मॉनसून सत्र आज से शुरू हो गया. ये सत्र 18 जुलाई से 10 अगस्त तक चलेगा. इस दौरान लोकसभा में आठ पेंडिंग बिल और छह अध्यादेश पर चर्चा होगी. इसके अलावा राज्यसभा में भी 40 बिल पर चर्चा का इंतज़ार है.

  • News18Hindi
  • | July 18, 2018, 18:42 IST
    LAST UPDATED 4 YEARS AGO
    23:13 (IST)
    सदन की कार्यवाही सोमवार तक के लिए स्थगित

    23:13 (IST)

    अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के बाद सरकार के पक्ष  में पड़े 325 वोट.

    23:11 (IST)
    12 घंटे तक बहस के बाद लोकसभा में गिरा अविश्वास प्रस्ताव. अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में मात्र 126 वोट पड़े जबकि 325 सदस्यों ने इसके खिलाफ मतदान किया.

    23:07 (IST)
    बीजू जनता दल और शिवसेना ने अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग से वॉकआउट किया 

    23:03 (IST)
    लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिग शुरू 

    23:02 (IST)
    डेढ़ घण्टे तक मैं यह सोचता रहा कि मैं कोई ब्लॉकबस्टर फिल्म देख रहा हूं. मुझे इस बात पर कोई शक नहीं कि प्रधानमंत्री दुनिया के सबसे अच्छे बेहतरीन एक्टर हैं: टीडीपी सांसद केसिनेनि श्रीनिवास

    22:49 (IST)
    फिर सभी को 2024 में अविश्वास प्रस्ताव लाने का निमंत्रण देता हूं- प्रधानमंत्री मोदी.

    22:48 (IST)

    बदलते वैश्वकि परिदृश्य में सबको साथ मिलकर चलने की जरूरत- पीएम मोदी 

    संसद के मॉनसून सत्र की बुधवार को हंगामेदार शुरुआत हुई. ये सत्र 18 जुलाई से 10 अगस्त तक चलेगा. केंद्र सरकार के खिलाफ विपक्षी पार्टियों का अविश्वास प्रस्ताव लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मंजूर कर लिया है. वहीं इस संबंध में ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस ने अपने सांसदों को व्हिप जारी कर दिया है. वहीं शिवसेना से जुड़े सूत्रों ने कहा है कि पार्टी सदन में या तो निष्पक्ष रहेगी या फिर वह सरकार का समर्थन कर सकती है.

    20 जुलाई यानी शुक्रवार को संसद के दोनों सदनों में इसपर चर्चा की जाएगी. इससे पहले संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने लोकसभा अध्यक्ष को संबोधित करते हुए कहा कि कई विपक्षी पार्टियों ने अविश्वास प्रस्ताव मूव किया है. आप से अनुरोध है कि वह प्रस्ताव को स्वीकार कर लीजिए, आज दूध का दूध और पानी का पानी हो ही जाए. इस पर सुमित्रा महाजन ने कहा कि मैंने इसे स्वीकार कर लिया है, एक दो दिन में इस पर फैसला लिया जाएगा.

    बता दें कि मॉनसून सत्र में लोकसभा में आठ पेंडिंग बिल और छह अध्यादेश पर चर्चा होगी. इसके अलावा राज्यसभा में भी 40 बिल पर चर्चा का इंतज़ार है. बता दें कि आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा दिए जाने की मांग सहित कई अन्य मुद्दों पर अवरोधों और स्थगनों के कारण संसद के बजट सत्र में कोई काम नहीं हो सका था. मंगलवार को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने सभी राजनीतिक पार्टियों से अपील की थी कि वे सरकार को प्रभावी तरीके से संसद की कार्यवाही चलाने में मदद करें.

    पार्लियामेंट के मॉनसून सेशन से जुड़े सभी अपडेट्स के लिए पढ़ते रहें News18 Hindi...


     

     

    विज्ञापन