Home /News /nation /

नवंबर के आखिरी सप्ताह में शुरू हो सकता है शीतकालीन सत्र, क्रिसमस के पहले होगा खत्म : सूत्र

नवंबर के आखिरी सप्ताह में शुरू हो सकता है शीतकालीन सत्र, क्रिसमस के पहले होगा खत्म : सूत्र

नवंबर के आखिरी हफ्ते में शुरू होगा शीतकालीन सत्र. फाइल फोटो

नवंबर के आखिरी हफ्ते में शुरू होगा शीतकालीन सत्र. फाइल फोटो

Parliament Winter Session: अभी तक शीतकालीन सत्र के आयोजन पर कोई आधिकारिक फैसला नहीं किया गया है. सूत्रों का कहना है कि ये 29 नवंबर से शुरू होकर 23 दिसंबर तक चल रहा है.

    नई दिल्ली. संसद का शीतकालीन सत्र (Winter Session) नवंबर महीने के आखिरी सप्ताह (November Last week) से शुरू हो सकता है. समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि इस सत्र में करीब 20 बैठकें होंगी और इसे क्रिसमस (Christmas) से पहले खत्म कर दिया जाएगा. इस सत्र के दौरान भी कोविड-19 संबंधी सभी नियमों का पालन किया जाएगा.

    कोरोना महामारी के कारण बीते वर्ष संसद का शीतकालीन सत्र नहीं आयोजित हुआ था. इसके बाद बजट और मानसून सत्र भी कोरोना महामारी के कारण छोटे कर दिए गए थे. हालांकि अभी तक शीतकालीन सत्र के आयोजन पर कोई आधिकारिक फैसला नहीं किया गया है. सूत्रों का कहना है कि ये 29 नवंबर से शुरू होकर 23 दिसंबर तक चल रहा है.

    कोविड प्रोटोकॉल का पूरा खयाल रखा जाएगा
    हालांकि इस सत्र में लोकसभा और राज्यसभा के सदस्य साथ बैठेंगे लेकिन कोविड प्रोटोकॉल का पूरा खयाल रखा जाएगा. सभी सदस्यों की सीटों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का खयाल रखा जाएगा.

    एंट्री करने वालों को हर वक्त मास्क लगाए रखना होगा
    शीतकालीन सत्र के दौरान संसद परिसर में एंट्री करने वालों को हर वक्त मास्क लगाए रखना होगा. साथ ही सबका कोविड टेस्ट भी किया जा सकता है. इस शीतकालीन सत्र को बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि कुछ ही महीने के भीतर कई राज्यों में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं. इनमें उत्तर प्रदेश भी शामिल है. यूपी के चुनाव को 2024 लोकसभा चुनाव के सेमीफाइनल के तौर पर देखा जा रहा है.

    Tags: Indian Parliament, Winter season

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर