महिलाओं के लिए ज्यादा घातक साबित हो रही है कोरोना की दूसरी लहर, जानें क्यों

आंकड़ों के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर में महिलाओं में संक्रमण बढ़ा है.(AP Photo/सांकेतिक तस्वीर)

आंकड़ों में यह बात सामने आई है कि दूसरी लहर (2nd Covid Wave) में महिलाएं पहली लहर के मुकाबले ज्यादा संक्रमित हो रही हैं. हैदराबाद के हेल्थ डिपार्टमेंट के आंकड़ों के मुताबिक दूसरी लहर में कुल संक्रमित मरीजों में महिलाओं का प्रतिशत, 38.5 प्रतिशत है जो बीते साल जुलाई में 34 प्रतिशत ही था.

  • Share this:
    हैदराबाद. कोरोना महामारी की दूसरी लहर (2nd Covid Wave) ने देश को इस वक्त बुरी गिरफ्त में ले रखा है. इस बीच आंकड़ों में यह बात सामने आई है कि दूसरी लहर में महिलाएं पहली लहर के मुकाबले ज्यादा संक्रमित हो रही हैं. तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के हेल्थ डिपार्टमेंट के आंकड़ों के मुताबिक दूसरी लहर में कुल संक्रमित मरीजों में महिलाओं का प्रतिशत, 38.5 प्रतिशत है जो बीते साल जुलाई में 34 प्रतिशत ही था.

    अगर पूरे देश के आंकड़ों की बात की जाए तो महिलाएं 35.4 फीसदी संक्रमित हुई हैं. वहीं कुल मरीजों में 64.6 फीसदी पुरुष हैं. एक्सपर्ट्स का कहना है कि महिलाओं में संक्रमण दर बढ़ने का मतलब है कि वायरस के स्वभाव में अंतर आया है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि सामान्य तौर पर महिलाएं कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करती हैं. अक्सर पुरुष ही काम या अन्य सिलसिले में घर से बाहर ज्यादा निकलते हैं. लेकिन अब महिलाएं और कम उम्र के लोग भी वायरस के दायरे में आ रहे हैं.

    क्या था बीते साल अन्य राज्यों में महिलाओं के संक्रमण का आंकड़ा
    अगर अन्य राज्यों की बात करें तो महाराष्ट्र, तमिलनाडु, बिहार और झारखंड के आंकड़ों से पता चलता है कि बीते साल सबसे ज्यादा महिलाएं संक्रमित बिहार में हुईं. बिहार में 42 प्रतिशत महिलाएं संक्रमित हुईं. वहीं महाराष्ट्र में ये आंकड़ा 38 प्रतिशत है तो कर्नाटक में 36 प्रतिशत और तमिलनाडु में 32 फीसदी.



    ऑक्सीजन की किल्लत ने कई राज्यों को किया परेशान
    बता दें कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमण की संख्या बीते महीने के दौरान इतनी तेज बढ़ी है कि कई राज्यों से अफरातफरी की खबरें सामने आई हैं. सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना ऑक्सीजन की कमी और रेमिडिविजर इंजेक्शन को लेकर करना पड़ा है. हालांकि केंद्र सरकार कोशिशों के बाद अब ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था पहले से बेहतर हुई है. इसी बीच 1 मई से देश में 18+ से ऊपर के सभी लोगों के वैक्सीनेशन की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है.