जम्मू-कश्मीर में आतंकियों की शामत, अकेले इस साल हुआ 101 का सफ़ाया

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों की शामत, अकेले इस साल हुआ 101 का सफ़ाया
भारतीय सुरक्षाबलों ने इस साल अब तक 100 आतंकियों को मार ​गिराया है. (फाइल फोटो)

जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu Kashmir) में लॉकडाउन (Lockdown) के 80 दिनों में ही सुरक्षाबलों ने 72 आतंकवादियों (Terrorists) को ढेर कर दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 13, 2020, 10:16 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में इस साल आतंकियों (Terrorists) की शामत आ चुकी है. लॉकडाउन (Lockdown) के 80 दिनों में ही जम्‍मू-कश्‍मीर में 72 आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने ढेर कर दिया. वहीं इस पूरे साल की बात करें तो भारतीय सुरक्षाबलों (Indian security force) ने अबतक 101 आतंकियों को मार गिराया है. बताया जाता है कि भारतीय सुरक्षाबलों ने दक्षिण कश्मीर में 125 और आतंकियों को मार गिराने की योजना तैयार की है. इन आतंकवादियों में 25 विदेशी भी शामिल हैं.

जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबलों ने 1 अप्रैल से 13 जून तक ही 72 आतंकी मार गिराए हैं. घाटी में इस साल सबसे अधिक आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन सक्रिय रहा. सुरक्षाबलों ने हिजबुल के 35 स्‍थानीय आतंकियों को मौत के घाट उतारा है. 10 जून तक मारे गए 16 आतंकियों की पहचान अभी नहीं हो पाई है. इनमें से 10 विदेशी आतंकी थे. सुरक्षाबलों ने जम्मू- कश्‍मीर में जनवरी से लेकर जून तक 100 से अधिक आतंकियों को ढेर किया है. ये आतंकी लश्‍कर-ए तैयबा, हिजबुल मुजाहिदीन और जैश-ए मोहम्‍मद समेत अन्‍य आतंकी संगठनों से जुड़े थे.

मई में भारतीय सेना, केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स और जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस के संयुक्‍त अभियान में 15 आतंकी मारे गए थे. मई में कुल 20 आतंकी ढेर किए गए. इनमें से 6 हिजबुल मुजाहिदीन के थे. इस साल जनवरी में 18, फरवरी में 7 और मार्च में 7 आतंकी ढेर किए जा चुके हैं.



इसे भी पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर में आतंकियों पर ट्रिपल अटैक, पुलवामा, कुलगाम और अनंतनाग में मुठभेड़ जारी, 4 आतंकी ढेर
कई आतंकी संगठनों के सरगना ढेर
रियाज नायकू के अलावा इस साल मारे जाने वाले बड़े आतंकी हैं- हैदर (लश्कर-ए-तैयबा), कारी यासिन (जैश-ए-मोह्म्मद कमांडर), बुरहान कोका (अंसार गजवात-उल-हिंद).

गौरतलब है कि इस साल के शुरुआती 6 महीने से पहले 2019 के आखिरी 6 महीने में 29 आतंकी मारे गए थे. एक कश्मीरी पुलिस अधिकारी के मुताबिक अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त किए जाने के बाद लंबे समय तक इंटरनेट और कम्युनिकेशन की अन्य पाबंदियों की वजह से आतंकियों की पनाहगाहों के बारे में जानकारी मिलने में दिक्कत आ रही थी. लेकिन जनवरी महीने से स्थितियां ठीक होने के बाद व्यापक स्तर पर आतंकियों के खिलाफ अभियान चलाया गया.

इसे भी पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर में 'ऑपरेशन ऑलआउट', हिज्बुल की कमर टूटी!

अब तक 29 सुरक्षाकर्मी भी शहीद
पुलिस अधिकारियों ने कहा कि इस साल की शुरुआत से केंद्र शासित प्रदेश में मारे गए आतंकवादियों की कुल संख्या 101 हो गई है, लेकिन सुरक्षा बलों को आतंकवाद-रोधी अभियानों के दौरान शांति बनाए रखने के अपने प्रयासों की भारी कीमत चुकानी पड़ी है. इस दौरान कई अधिकारियों सहित 29 सुरक्षा कर्मी शहीद हो गए.

(भाषा के इनपुट के साथ)

इसे भी पढ़ें :- 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज