जम्मू-कश्मीर के मुस्लिम बहुल इलाकों से सेना भर्ती में जुटी युवाओं की बंपर भीड़

News18Hindi
Updated: September 5, 2019, 10:56 AM IST
जम्मू-कश्मीर के मुस्लिम बहुल इलाकों से सेना भर्ती में जुटी युवाओं की बंपर भीड़
सेना (Indian Army) के अधिकारियों ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में बदले हालात के बाद 5 अगस्त की घोषणाओं के बाद यह सेना की पहली भर्ती रैली है. (फाइल फोटो)

सेना (Indian Army) के अधिकारियों ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में बदले हालात के बाद 5 अगस्त की घोषणाओं के बाद यह सेना की पहली भर्ती रैली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2019, 10:56 AM IST
  • Share this:
जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से अनुच्छेद 370 (Article 370)को हटाने और दो केंद्र शासित प्रदेशों (Union Territories)में इसके विभाजन को लेकर राजनीतिक और कानूनी बहस से दूर, चिनाब घाटी और पीर पंजाल क्षेत्र के मुस्लिम बहुल क्षेत्रों के कम से कम 29,000 युवा भारतीय सेना में शामिल होने के लिए कतार में हैं.

मंगलवार तक 6,000 से अधिक युवाओं ने पहले ही सेना की काउंटर इंसर्जेंसी फोर्स (Counter Insurgency Force यूनिफॉर्म) की एक सप्ताह की भर्ती रैली में भाग लिया है. इनमें रामबन और किश्तवाड़ जिलों के 2,500 युवा शामिल हैं. इसके अलावा डोडा से 3,600 नवयुवक शामिल हैं.

सूत्रों ने बताया कि राजौरी जिले से भर्ती रैली के लिए 8,000 से अधिक युवाओं ने अपना नाम दर्ज कराया है और 4,000 से अधिक पुंछ और रियासी जिलों से हैं. उधमपुर जिले के 8,000 से अधिक युवा भी सेना में शामिल होने के लिए तैयार हो गए हैं.

सेना (Indian Army) के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि यह जम्मू-कश्मीर में बदले हालात के बाद 5 अगस्त की घोषणाओं के बाद सेना की पहली भर्ती रैली है. अधिकारियों ने कहा कि युवाओं में से 40 प्रतिशत मुस्लिम हैं.

रियासी जिले के तलवाड़ा में भर्ती अभियान चल रहा है. रामबन, किश्तवाड़ और डोडा जिलों के आवेदकों के लिए फिक्स होने के साथ अधिकांश अभ्यर्थी रैली शुरू होने से एक दिन पहले तलवाड़ा पहुंच गए.

इन श्रेणियों में होनी है भर्ती

जिन श्रेणियों में भर्ती होनी है उसमें सैनिक सामान्य ड्यूटी, सैनिक तकनीकी, सैनिक तकनीकी नर्सिंग सहायता, सैनिक तकनीकी नर्सिंग सहायता पशु चिकित्सा, सैनिक क्लर्क, स्टोर कीपर तकनीकी और सैनिक ट्रेड्समैन शामिल है.
Loading...

सभी अभ्यर्थियों को पहले फिजिकल परीक्षा देनी होगी और फिर शॉर्टलिस्ट किए गए लोगों को मेडिकल और रिटेन पेपर से गुजरना होगा. अधिकारियों ने कहा, भर्ती प्रक्रिया कम्प्यूटरीकृत और बिल्कुल पारदर्शी है, जिसमें किसी भी तरह की गलती की कोई जगह नहीं है.

सेना ने किया ट्वीट

सेना ने एक ट्वीट में कहा 'जम्मू-कश्मीर के युवाओं को नौकरी के अवसर प्रदान करने के लिए, भारतीय सेना 03 से 09 सितंबर तक रियासी में भर्ती रैली का आयोजन कर रही है. 29000 इच्छुक युवाओं का पंजीकरण और पहले दिन 2500 उम्मीदवार पहुंचे. यह जम्मू और कश्मीर के युवाओं की मुख्यधारा में शामिल होने और राष्ट्र सेवा करने की इच्छा को दर्शाता है.'

यह भी पढ़ें:  2 माह पहले ही जवान ने किया था शादी से इनकार, शहीद को सलाम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 10:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...