5 राज्यों में कोरोना वायरस के एक्टिव केस 60% से ज्यादा, ठीक होने की दर 78%: केंद्र

5 राज्यों में कोरोना वायरस के एक्टिव केस 60% से ज्यादा, ठीक होने की दर 78%: केंद्र
देश में इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 9,86,598 है.

Coronavirus Cases in India: भारत में सोमवार को कोविड-19 (Covid-19) के 92,071 नए मामले सामने आने के बाद कुल मामलों की संख्या बढ़कर 48.46 लाख हो गई है, जबकि 37.80 लाख लोग बीमारी से ठीक हो चुके हैं.

  • भाषा
  • Last Updated: September 14, 2020, 9:56 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने सोमवार को बताया कि देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के उपचाराधीन मरीजों में से 60 फीसदी से ज्यादा महाराष्ट्र (Maharashtra), कर्नाटक (Karnataka), आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) और तमिलनाडु (Tamilnadu) में हैं. वहीं देश में संक्रमण से ठीक होने की दर 78 प्रतिशत हो गई है. मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, भारत में कोविड-19 (Covid-19) के 92,071 नए मामले सामने आने के बाद कुल मामलों की संख्या बढ़कर 48.46 लाख हो गई है, जबकि 37.80 लाख लोग बीमारी से ठीक हो चुके हैं.

संक्रमण से 1,136 और मरीजों की मौत होने के साथ ही मृतक संख्या बढ़कर 79,722 हो गई है. मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि भारत में संक्रमण से ठीक होने की तेज़ी से बढ़ती दर ने सोमवार को एक मील का पत्थर पार कर लिया. ठीक होने की दर 78 प्रतिशत हो गई. मंत्रालय के मुताबिक, एक दिन में 77,512 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गई और ठीक हुए मामलों और उपचाराधीन मामलों के बीच अंतर लगातार बढ़ रहा है और यह अब 27,93,509 हो गया है.

ये भी पढ़ें- केंद्र ने SC में कहा- रेलवे लाइन के किनारे से नहीं हटाएंगे 48 हजार झुग्गियां




देश में इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 9,86,598 है. बयान में कहा गया है कि संक्रमण का इलाज करा रहे कुल मरीजों में से 60 फीसदी से अधिक मरीज पांच राज्यों --महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में हैं. ठीक होने वाले कुल मरीजों में 60 फीसदी भी इन्हीं राज्य से हैं.

महाराष्ट्र में 21 फीसदी से ज्यादा केस
मंत्रालय ने बताया कि कुल मामलों में से 60 फीसदी मामले पांच राज्यों - महाराष्ट्र से 21.9%, आंध्र प्रदेश से 11.7%, तमिलनाडु से 10.4%, कर्नाटक से 9.5% और उत्तर प्रदेश से 6.4 % है. उसने कहा कि 92,071 नए मामलों में से महाराष्ट्र में एक दिन में सामने आये 22,000 से अधिक नए मामले शामिल हैं जबकि आंध्र प्रदेश के 9,800 से अधिक नए मरीज सोमवार को सामने आए मामलों में शामिल हैं.

ये भी पढ़ें- लॉकडाउन में कितने प्रवासी मजदूरों की जान गई? सरकार बोली-हमारे पास रिकॉर्ड नहीं

सोमवार को रिपोर्ट हुई 1,136 मौतों में से करीब 53 फीसदी की मृत्यु तीन राज्यों- महाराष्ट्र, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश में हुई हैं. इसके बाद तमिलनाडु, पंजाब और आंध्र प्रदेश हैं. आईसीएमआर ने बताया कि 13 सितंबर तक 5,72,39,428 नमूनों की जांच की गई है. रविवार को 9,78,500 नमूनों की जांच की गई.

भारत में दस लाख लोगों पर 3,328 लोग संक्रमित
वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सोमवार को कहा कि पूरी सरकार और संपूर्ण समाज के सहयोग से कोरोना वायरस से निपटने के प्रयासों के कारण भारत संक्रमण के मामलों और उससे जान गंवाने वाले रोगियों की संख्या को प्रति दस लाख आबादी पर 3,328 मामले और 55 लोगों की मौत तक सीमित रखने में सफल रहा है जो यह इसी तरह प्रभावित अन्य देशों की तुलना में दुनिया में सबसे कम दरों में से एक है.

ये भी पढ़ें- संसद में नदारद राहुल, नाखुश कांग्रेसी बोले- सरकार को घेरने का चांस खो दिया

उन्होंने कहा कि संक्रमण के माध्यम और बिना लक्षण वाले संक्रमण जैसे महामारी के अनेक मानकों पर अब भी अनुसंधान किया जा रहा है. एक बार संक्रमण होने के बाद व्यक्ति को पहले दिन से लेकर 14 दिन के बीच कभी भी बीमारी के लक्षण दिखाई दे सकते हैं.

मंत्री ने कहा कि कोविड-19 के मुख्य लक्षणों में बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई होना है. भारत में करीब 92 प्रतिशत मामले हल्के लक्षण वाले हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज