पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश सीमा पर फंसे 500 से ज्यादा ट्रक, निर्यातकों ने जताई चिंता

कई सारे ट्रकों में जल्द खराब होने वाला सामान भी है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

निर्यातकों का कहना है कि यदि ये गतिरोध जारी रहता है तो यह दोनों देशों के द्विपक्षीय व्यापार (Bilateral Trade) को प्रभावित करेगा. कहा जा रहा है कि सीमा पर 500 से ज्यादा ट्रक (More than 500 Trucks) फंसे हुए हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के बीच सीमा (West Bengal-Bangladesh Border) पर ट्रकों के फंसने पर निर्यातकों ने शुक्रवार को गहरी चिंता व्यक्त की. उन्होंने मामले में वाणिज्य मंत्रालय से हस्तक्षेप करने की अपील की है. निर्यातकों का कहना है कि यदि ये गतिरोध जारी रहता है तो यह दोनों देशों के द्विपक्षीय व्यापार को प्रभावित करेगा. कहा जा रहा है कि सीमा पर 500 से ज्यादा ट्रक फंसे हुए हैं.

    निर्यातक संगठनों के महासंघ ‘फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन’ (फियो) के अध्यक्ष एस. के. सर्राफ ने इस मुद्दे पर वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बातचीत की और अपनी चिंताओं से उन्हें अवगत कराया. इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में सभी निर्यात संवर्द्धन परिषदों ने भी भाग लिया.

    पश्चिम बंगाल सरकार का निर्देश
    बैठक के बाद सर्राफ ने कहा कि कोविड-19 संकट के चलते पश्चिम बंगाल सरकार बांग्लादेश से सामान लेकर आने वाले सभी ट्रक ड्राइवरों को 14 दिन के क्वारंटीन में रखने के लिए कह रही है. उन्हें राज्य में सामान लेकर प्रवेश करने से पहले ऐसा करने के लिए कहा जा रहा है जिससे दोनों देशों की जमीनी सीमा पर ट्रकों की कतार लग गई है.

    ये भी पढ़ें-कानपुर एनकाउंटर मामलाः दुबे की मां ने कहा- अगर पकड़ लो तो जान से मार देना

    जल्द समाधान निकालने की अपील
    सर्राफ के मुताबिक इस वजह से बांग्लादेश से आयात किए जाने वाले माल की खेप भारत-बांग्लादेश के पेट्रापोल और घोजादंगा (भारत) एवं बेनापोल और भोमरा (बांग्लादेश) के बंदरगाहों पर फंस गए हैं. हमने पीयूष गोयल से इस मामले में दखल देकर जल्द से जल्द समाधान निकालने की अपील की है. इस पूरी घटना की वजह से बांग्लादेश ने भी हमारे माल को अपने यहां अनुमति देने से रोक दिया है. इस तरह के कदमों से दोनों देशों के रिश्ते प्रभावित होते हैं.

    500-550 ट्रक सीमा पर अटके 
    फियो के महानिदेशक अजय सहाय ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में जमीनी हालात और बिगड़े हैं. मौजूदा समय में करीब 500-550 ट्रक सीमा पर अटके हैं. इसमें कई सारे ट्रकों में जल्द खराब होने वाला सामान भी है. यदि इस तरह का गतिरोध जारी रहता है तो दोनों देशों के द्विपक्षीय व्यापारिक रिश्ते खराब होंगे. रोजगार और आजीविका के नुकसान के अलावा यह भारतीय निर्यातकों और आयातकों के समक्ष उनकी अंतरराष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं को पूरा करने की असफलता के तौर पर भी देखा जाएगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.