होम /न्यूज /राष्ट्र /लोकसभा का ऐतिहासिक सत्र खत्‍म, पारित हुए रिकॉर्ड 35 विधेयक

लोकसभा का ऐतिहासिक सत्र खत्‍म, पारित हुए रिकॉर्ड 35 विधेयक

इस सत्र में जो बिल पास हुए उसमें जम्मू-कश्मीर पुनर्गठित संसोधन बिल महत्वपूर्ण है.

इस सत्र में जो बिल पास हुए उसमें जम्मू-कश्मीर पुनर्गठित संसोधन बिल महत्वपूर्ण है.

इस सत्र में 37 दिन की कार्यवाही चली, जिसमें कुल 280 घंटे काम हुआ. जबकि इस दौरान रिकॉर्ड बिल पारित हुए.

    जम्‍मू कश्‍मीर में आर्टिकल 370 और 35A को पास करने के साथ ही 17वीं लोकसभा का पहला सत्र अनिश्चित काल के किये स्थगित हो गया. कामकाज को लेकर इस सत्र ने कई रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. देश के इतिहास में ये सत्र अब तक सबसे अधिक काम करने वाला बन गया है.

    पारित हुए इतने विधेयक
    इस लोकसभा सत्र में कुल 35 बिल पारित हुए है जो अपने आप एक रिकॉर्ड है, जो 1952 से अब तक का सबसे ज्यादा हैं. आपको बता दें कि उस वक्‍त (1952) में 24 विधेयक पारित किए गए थे.

    बहरहाल, इस सत्र में जो बिल पास हुए उसमें जम्मू-कश्मीर पुनर्गठित संसोधन बिल महत्वपूर्ण है. इसके लिए इसी सत्र में तीन तलाक़ बिल भी पास किये गए. इसके अलावा इस सत्र में कई महत्वपूर्ण विधेयक पारित हुए हैं.

    >>तीन तलाक़ बिल
    >>जम्मू-कश्मीर पुनर्गठित संसोधन बिल
    >>मोटर व्हीकल संसोधन विधेयक
    >>मानवाधिकार संसोधन विधेयक
    >>उपभोक्ता सरक्षण विधेयक
    >>राष्ट्रीय आयुर्वज्ञान आयोग विधेयक
    >>पोस्को विधेयक


    37 दिन में हुआ इतने घंटे काम
    इस सत्र में 37 दिन की कार्यवाही चली, जिसमें कुल 280 घंटे काम हुए. इस सत्र में सांसदों ने 1066 अविलंब लोक महत्व के मामले उठाये. जबकि 377 के तहत 488 मामले उठाये गए.

    News18 Hindi
    इस लोकसभा सत्र में कुल 35 बिल पारित हुए है जो अपने आप एक रिकॉर्ड है.


    बना एक और धांसू रिकॉर्ड
    लोकसभा में इस बार एक और रिकॉर्ड बना है. इस बार के सत्र में ज्यादा से ज्यादा सांसदों को बोलने का मौका दिया गया है. शून्यकाल में 265 नए सांसदों में से 229 सांसदों को विभिन्न विषय पर बोलने का मौका दिया गया. जबकि 46 नई महिला सांसदों में से 42 को शून्य काल में बोलने का मौका दिया गया.

    इन सत्र में एक और रिकॉर्ड बना. 18 जुलाई की कार्यवाही यानि एक दिन में ही 161 सांसदों सदस्यों को शून्यकाल में बोलने का मौका दिया गया, जो अब तक का रिकॉर्ड है. वहीं, 17 जून से शुरू होकर 6 अगस्त तक चली इस सत्र की उत्पादकता 125 फीसदी की रही है.
    " isDesktop="true" id="2297740" >

    ये भी पढ़ेंभारत ने बांग्‍लादेश की तरक्‍की के लिए उठाया बड़ा कदम, अब मैत्री और बंधन एक्सप्रेस को लेकर होगा ये बदलाव
    मंत्रियों को भी नहीं थी पीएम मोदी-अमित शाह की रणनीति की खबर, यूं खत्‍म किया आर्टिकल 370-35A

    Tags: Amit shah, BJP, Congress, Lok sabha, Om Birla, PM Modi, Rahul gandhi

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें