• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • LAC पर 1962 के बाद सबसे ज्यादा गंभीर हालात: विदेश मंत्री एस जयशंकर

LAC पर 1962 के बाद सबसे ज्यादा गंभीर हालात: विदेश मंत्री एस जयशंकर

विदेश मंत्री ने एकसाक्षात्कार के दौरान चीन के साथ संबंधों में सीमा विवाद को बेहद महत्वपूर्ण बताया है.

विदेश मंत्री ने एकसाक्षात्कार के दौरान चीन के साथ संबंधों में सीमा विवाद को बेहद महत्वपूर्ण बताया है.

पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन (India China Face off) के बीच करीब 4 महीने से चल रहे गतिरोध के बीच विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S Jaishankar) ने पूरे घटनाक्रम पर पहली बार खुल कर बोला है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि चीन के साथ सीमा विवाद का समाधान सभी समझौतों एवं सहमतियों का सम्मान करते हुए और एकतरफा ढंग से यथास्थिति में बदलाव का प्रयास किये बिना ही प्रतिपादित किया जाना चाहिए. उन्होंने इस मुद्दे पर भारत का रूख स्पष्ट किया. जयशंकर ने लद्दाख की स्थिति को 1962 के संघर्ष के बाद ‘सबसे गंभीर’ बताया और कहा कि दोनों पक्षों की ओर से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर अभी तैनात सुरक्षा बलों की संख्या भी ‘अभूतपूर्व’ है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सभी सीमा स्थितियों का समाधान कूटनीति के जरिये हुआ.

    अपनी पुस्तक ‘द इंडिया वे : स्ट्रैटजिज फार एन अंसर्टेन वर्ल्ड’ के लोकार्पण से पहले रेडिफ डाट काम को दिये साक्षात्कार में विदेश मंत्री ने कहा, 'जैसा कि आप जानते हैं, हम चीन के साथ राजनयिक और सैन्य दोनों माध्यमों से बातचीत कर रहे हैं. वास्तव में दोनों साथ चल रहे हैं. '

    रणनीति और दृष्टि की जरूरत

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज