संसद भवन में दिखा पूर्व फुटबॉलर का जलवा, सरकार से की ये खास गुजारिश

प्रसून बनर्जी पूर्व अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल खिलाड़ी रह चुके हैं. 1974, 1978 और 1982 के एशियाड, 1980 के मॉस्को ओलंपिक और 1984 में ब्राजील के खिलाफ एशियन टीम का वह हिस्सा रह चुके हैं.

अमित पांडेय | News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 3:53 PM IST
संसद भवन में दिखा पूर्व फुटबॉलर का जलवा, सरकार से की ये खास गुजारिश
सांसद प्रसून बनर्जी ने संसद भवन में खेली फुटबॉल.
अमित पांडेय
अमित पांडेय | News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 3:53 PM IST
देश में पिछले काफी समय से क्रिकेट वर्ल्ड कप का फीवर चल रहा है और टीम इंडिया ने क्रिकेट के इस महाकुंभ के सेमीफाइनल में जगह बनाकर अपना दम दिखाया. हालांकि सेमीफाइनल में न्‍यूजीलैंड के हाथों टीम इंडिया को मिली हार से भारतीय प्रशंसक खासे निराश हैं. जबकि इसी दौरान दिल्ली के संसद भवन में एक सांसद फुटबॉल को लेकर जोश में दिखाई पड़े. उन्‍होंने न केवल फुटबॉल को पांव से बार-बार उछाला बल्कि कुछ देर ड्रिबलिंग भी की. यह सांसद पश्चिम बंगाल से तृणमूल कांग्रेस के प्रसून बनर्जी हैं और इनकी मांग थी कि क्रिकेट की तरह फुटबॉल को भी पूरे देश में बढ़ावा मिले.

बनर्जी को मिला सरकार का साथ
प्रसून बनर्जी के साथ भारतीय फुटबॉल टीम के एक और पूर्व कप्तान गौतम सरकार भी थे. करीब आधे घंटे तक इन दोनों पूर्व फुटबॉल खिलाड़ियों ने संसद भवन में गांधी प्रतिमा के सामने अपना जौहर दिखाकर खेल भावना जाहिर की. जब न्यूज़18 इंडिया ने प्रसून बनर्जी से बात की तो उनका कहना था, 'हम फुटबॉल खेलकर यही जाहिर करना चाहते हैं कि हर संभव समर्थन इस खेल को मिले. यही नहीं, इसको सरकार इसे प्रमोट करने का काम करें. फुटबॉल हर जगह ट्रैवल करे और देश का झंडा उसके साथ ट्रैवल करे. यकीनन इससे देश का मान और सम्मान बढ़ेगा.

साथ ही उन्‍होंने कहा, ' मोहन बागान जिस क्लब का मैंने 20 साल तक प्रतिनिधित्व किया उसको भी मदद मुहैया करवाई जा सके. मैं प्रफुल्ल पटेल से भी अग्राह करना चाहूंगा कि वह मदद करें.'

भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान गौतम सरकार ने कहा, 'शुरुआत से ही इस खेल को बढ़ावा देना चाहिए, ताकि बच्चों में क्रिकेट की तरह इसकी भी लोकप्रियता बढ़े.'

प्रसून बनर्जी का दिखा है दम
प्रसून बनर्जी पूर्व अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल खिलाड़ी रह चुके हैं. 1974, 1978 और 1982 के एशियाड, 1980 के मॉस्को ओलंपिक और 1984 में ब्राजील के खिलाफ एशियन टीम का वह हिस्सा रह चुके हैं. फुटबॉल में उनके योगदान को देखते हुए भारत सरकार ने उनको अर्जुन अवॉर्ड से भी सम्मानित किया है. जहां तक उनके राजनीतिक सफर का सवाल है तो वह तीसरी बार सांसद बने हैं. वह पहली बार 2013 के लोकसभा उपचुनाव में जीते थे और इसके बाद 2014 और 2019 में सांसद बने हैं.
Loading...

बहरहाल, फुटबॉल को लेकर संसद भवन में इस तरीके से लेकर सांसद का उतरना, यह जाहिर करता है कि एक ओर तो सरकार को शुरुआती स्तर से ही फुटबॉल को लोकप्रिय करने के प्रयास करने चाहिए तो दूसरी ओर क्लब स्तर का फुटबॉल जो कि पश्चिम बंगाल, गोवा और केरल में काफी लोकप्रिय है उसे बढ़ावा देना चाहिए.

ये भी पढ़ें: रेलवे स्टेशनों पर मिलेगी एयरपोर्ट जैसी सुविधा, जानें यहां!

ट्रेनों में नकली पानी बेचने वालों पर रेलवे की बड़ी कार्रवाई
First published: July 11, 2019, 3:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...