लाइव टीवी

MP : सियासी उठापटक के बीच कांग्रेस ने राज्यसभा चुनाव के लिए जारी किया व्हिप

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 17, 2020, 11:12 AM IST
MP : सियासी उठापटक के बीच कांग्रेस ने राज्यसभा चुनाव के लिए जारी किया व्हिप
राज्यसभा चुनाव के लिए एमपी में कांग्रेस ने व्हिप जारी किया

ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में जाने के बाद उनके तमाम समर्थक विधायकों ने इस्तीफे दे दिए हैं और वो लंबे समय से बेंगलुरु में रुके हुए हैं. सीएम कमननाथ की सिफारिश पर 6 मंत्रियों की सदस्यता बर्खास्त कर दी गयी है

  • Share this:
भोपाल.मध्यप्रदेश (Madhya pradesh) में चल रहे सियासी उठापटक के बीच कांग्रेस (congress) ने राज्यसभा चुनाव (rajya sabha elections) के लिए व्हिप जारी कर दी है. 26 मार्च को होने वाले चुनाव के लिए तमाम दिशा निर्देश कांग्रेस ने अपने विधायक को दिए हैं. इस चुनाव से पहले 25 मार्च को मॉक पोल होगा.

कांग्रेस विधायक दल की सोमवार को बैठक में तमाम दिशा निर्देश संसदीय कार्य मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह ने विधायकों को दिए. विधायकों को बताया गया कि उन्हें चुनाव के दौरान उपस्थित रहना ही है. साथ में चुनाव की प्रक्रिया को भी समझाया गया.

फ्लोर टेस्ट पर नज़र
मध्यप्रदेश में सरकार बचाने को लेकर कांग्रेस तमाम रणनीतियों पर काम कर रही है तो बीजेपी सत्ता हासिल करने के लिए लगातार फ्लोर टेस्ट की मांग कर रही है. विधानसभा में फ्लोर टेस्ट को लेकर बीजेपी और कांग्रेस पहले ही अपने-अपने बयान जारी कर चुकी है. हालांकि राज्यपाल के आदेश के बावजूद भी सोमवार को फ्लोर टेस्ट नहीं हो सका. स्पीकर ने कोरोना का हवाला देकर विधानसभा को 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया. हालांकि इस पूरे सियासी घटनाक्रम के बाद बीजेपी के तमाम विधायक राजभवन पहुंचे थे और वहां पर राज्यपाल के सामने उनकी परेड हुई. इसके बाद राज्यपाल ने सीएम कमलनाथ को मंगलवार को फ्लोर टेस्ट कराने के लिए फिर से आदेश दिए.



बीजेपी के सामने विकल्प
हालांकि बीजेपी दूसरे विकल्प पर भी काम कर रही है. बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट में फ्लोर टेस्ट की मांग को लेकर याचिका लगाई. कांग्रेस की तरफ से कहा जा रहा है कि जब तक उनके बंधक बनाए गए, कांग्रेसी विधायकों को भोपाल नहीं लाया जाता तब तक वह फ्लोर टेस्ट नहीं कराएंगे. कांग्रेस के इन आरोपों को लेकर बीजेपी का दावा है कि उन्होंने कांग्रेस विधायकों को कभी बंधक नहीं बनाया. वह अपनी स्वेच्छा से बेंगलुरु में रुके हुए हैं. इस पूरे घटनाक्रम से उनका कोई लेना-देना नहीं है.

16 पर सस्पेंस

ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में जाने के बाद उनके तमाम समर्थक विधायकों ने इस्तीफे दे दिए हैं और वो लंबे समय से बेंगलुरु में रुके हुए हैं. सीएम कमननाथ की सिफारिश पर 6 मंत्रियों की सदस्यता बर्खास्त कर दी गयी है. हालांकि अभी भी 16 विधायक हैं जिनकी सदस्यता को लेकर स्पीकर फैसला लेंगे. सभी विधायकों ने बेंगलुरु से स्पीकर और राज्यपाल को ई-मेल पर अपने इस्तीफेर भेजे थे. बीजेपी नेता भूपेन्द्र सिंह भी इस्तीफे लेकर आए थे.

ये भी पढ़ें-

MP में सियासी संकट : आज नहीं होगा फ्लोर टेस्‍ट, SC में होगी सुनवाई

Coronavirus का खौफ : महाकाल की भस्मारती के दौरान खाली रहा पूरा मंदिर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 17, 2020, 11:10 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर