लाइव टीवी
Elec-widget

लोकसभा में सांसद ने खुद को बताया 'खम्भे' का शिकार, स्पीकर बोले - मुझे भी थी यही समस्‍या

News18Hindi
Updated: November 21, 2019, 6:41 PM IST
लोकसभा में सांसद ने खुद को बताया 'खम्भे' का शिकार, स्पीकर बोले - मुझे भी थी यही समस्‍या
जब बीजेपी सांसद राज बहादुर सिंह ने कहा कि वह खंभे के पीछे बैठते हैं तो लोकसभा अध्‍यक्ष ने कहा, मैं भी पहले खंभे के पीछे ही बैठता था.

शून्यकाल के दौरान कांग्रेस (Congress) के हिबी इडेन ने बीएसएनएल (BSNL) कर्मचारियों को समय पर वेतन नहीं मिलने का मुद्दा उठाया. वहीं, बीजेपी (BJP) की लॉकेट चटर्जी ने पश्चिम बंगाल में पैरा-टीचरों की हड़ताल का मुद्दा उठाया. उन्‍होंने राज्य की ममता बनर्जी सरकार पर शिक्षकों को वेतन नहीं देने का आरोप लगाया. इस पर तृणमूल कांग्रेस (TMC) और बीजेपी सदस्यों में तीखी नोंकझोंक हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 21, 2019, 6:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बीजेपी सांसद राज बहादुर सिंह (Raj Bahadur Singh) ने लोकसभा (Lok Sabha) में अपनी सीट खम्भे (Piller) के पीछे होने का जिक्र करते हुए खुद को 'खम्भे का शिकार' बताया. इस पर लोकसभा अध्‍यक्ष ओम बिरला (Speaker Om Birla) ने कहा कि पहले वह भी खम्भे के पीछे ही बैठते थे. दरअसल, शून्यकाल के दौरान राज बहादुर सिंह जब बोलने खड़े हुए तो सदन में लगी स्क्रीन पर उनका चेहरा नहीं दिखा. इस पर उन्होंने कहा, 'मैं खम्भे का शिकार हूं. दिखता नहीं हूं.' इस पर ओम बिरला ने कहा कि पहले उनके साथ भी यही समस्‍या थी.

लॉकेट चौधरी ने पश्चिम बंगाल सरकार पर टीचरों को वेतन नहीं देने का लगाया आरोप
शून्यकाल के दौरान बीजेपी (BJP) की लॉकेट चटर्जी ने पश्चिम बंगाल में पैरा-टीचरों की हड़ताल का मुद्दा उठाया. उन्‍होंने राज्य की ममता बनर्जी सरकार पर शिक्षकों को वेतन नहीं देने का आरोप लगाया. इस पर तृणमूल कांग्रेस (TMC) और बीजेपी सदस्यों में तीखी नोंकझोंक हुई. वहीं, कांग्रेस के हिबी इडेन ने बीएसएनएल (BSNL) कर्मचारियों को समय पर वेतन नहीं मिलने का मुद्दा उठाया. उन्‍होंने कहा कि सरकार को इस मामले पर ठोस कदम उठाना चाहिए. कांग्रेस के गुरजीत औजला, शिवसेना के गजानन कीर्तिकर व श्रीकांत शिंदे, भाजपा के अर्जुन सिंह, जसकौर मीणा, धर्मवीर सिंह, गणेश सिंह, एम. पटेल और तृणमूल कांग्रेस के प्रसून बनर्जी ने अपने क्षेत्रों से जुड़े कई अन्य मुद्दे उठाए.

प्रदूषण पर हुई संसद में चर्चा, जया बच्‍चन ने पर्यावरण इमरजेंसी घोषित करने की मांग

प्रदूषण (Pollution) पर चर्चा के दौरान यूपी से बीजेपी सांसद सुरेन्द्र सिंह नागर ने कहा कि प्रदूषण पर जब भी चर्चा होती है तो सिर्फ दिवाली और पराली की बात होती है. यह सिर्फ 20 दिन की बात है. बाद के प्रदूषण पर कभी बात नहीं होती है. हमारा खानपान भी अब इससे प्रभावित होने लगा है. जलवायु परिवर्तन (Climate Change) की वजह से धान की खेती एक महीने पीछे हुई है. पहले पराली जलती थी तो धुआं ऊपर चला जाता था, लेकिन अब नमी की वजह से नीचे रह जाता है. वहीं, यूपी से सपा सांसद जया बच्चन (Jaya Bachchan) ने पर्यावरण इमरजेंसी घोषित करने की मांग की और जिम्मेदारों के खिलाफ सख्त कार्यवाही व सजा की मांग की.

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री ने नेशनल एक्‍शन फॉर क्‍लीन एयर प्रोग्राम के बारे में बताया
केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने भी इस बहस में हिस्सा लिया और इस पर तेजी से काम करने की बात दोहराई. उन्‍होंने कहा कि आज कई सुझाव आए. हर शहर की अपनी स्थिति है. देश भर की बात करेंगे तो प्रदूषण के चार ही प्रमुख कारण है. हर शहर के पर्यावरण की अलग तबीयत होती है. इसलिए सब जगह अलग तरीके से काम होना चाहिए. 122 शहरों में पॉल्यूशन थोड़ा ज्यादा है. इसलिए हमने नेशनल एक्शन फॉर क्लीन एयर कार्यक्रम तैयार किया. हर शहर का प्रदूषण देखकर उसका कार्यक्रम बनाना उसका प्लान है.
Loading...

ये भी पढ़ें:

आज राज्‍यसभा में मार्शल्‍स ने नई वर्दी के साथ नहीं पहनी सेना जैसी कैप

कांग्रेस ने कहा-मनी लॉन्ड्रिंग घोटाला है इलेक्‍टोरल बांड, RBI की अनदेखी की गई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 6:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...