Home /News /nation /

Black Fungus: ब्लैक फंगस से कर्नाटक में अब तक 303 लोगों की गई जान, बेंगलुरु में हुई 34% मौत

Black Fungus: ब्लैक फंगस से कर्नाटक में अब तक 303 लोगों की गई जान, बेंगलुरु में हुई 34% मौत

 मई और जून की शुरुआत के बीच हुई मौतों की वजह एंटी-फंगल दवा, लिपोसोमल एम्फोटेरिसिन बी दवा की भारी कमी थी.

मई और जून की शुरुआत के बीच हुई मौतों की वजह एंटी-फंगल दवा, लिपोसोमल एम्फोटेरिसिन बी दवा की भारी कमी थी.

Black Fungus: कर्नाटक में 9 जुलाई तक 3491 मरीजों में म्यूकोरमायसिस यानी ब्लैक फंगस होने का पता चला, जिसमें से 8.6 फीसदी की मौत हो गई. सबसे ज्यादा 1109 केस बेंगलुरु के शहरी ज़िलों में मिली.

    बेंगलुरु. कर्नाटक में म्यूकोरमायसिस (Mucormycosis) यानी ब्लैक फंगस से अब तक 303 लोगों की मौत हो गई है. इसमें से 34 फीसदी यानी 104 लोग बेंगलुरु से हैं. बता दें कि म्यूकोरमायसिस एक तरह का फंगल संक्रमण है जो कोरोना से ठीक होने के बाद मरीजों में होता है. कोरोना के संक्रमण के दौरान देशभर में बड़ी संख्या में लोग इस फंगस से संक्रमित हो गए थे. भारत में इसे महामारी रोग अधिनियम के तहत महामारी घोषित किया गया था.

    अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक कर्नाटक में 9 जुलाई तक 3491 मरीजों में म्यूकोरमायसिस होने का पता चला, जिसमें से 8.6 फीसदी की मौत हो गई. सबसे ज्यादा 1109 केस बेंगलुरु के शहरी ज़िलों में मिली. इसके बाद धाड़वाड़ में 279, विजयपुरा में 208 और कालबुर्गी में 196 मरीज मिले. बेंगलुरु के बाद सबसे ज्यादा मौतें कालबुर्गी में हुई, यहां कुल 23 लोगों की जान गई.

    क्या थी वजह?
    देशभर में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान मरीजों में ब्लैक फंगस की कई शिकायतें आई थी. ये संक्रमण कैसे हुआ इसको लेकर फिलहाल साफ तौर पर कुछ भी नहीं कहा जा सकता है. हालांकि कहा जा रहा है कि कोरोना के वो मरीज़ इस फंगस के सबसे ज्यादा शिकार हुए, जिन्हें डायबिटीज थी. इसके अलावा स्टेरॉयड के ज्यादा इस्तेमाल से भी मरीज़ म्यूकोरमायसिस के शिकार हुए.

    ये सभी पढ़ें:- सेल्फी ले रहे लोगों पर गिरी बिजली, 11 की मौत; पीएम मोदी ने जताया दुख

    दवा की कमी
    रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि मई से लेकर जून के शुरुआती दिनों के बीच हुई मौतों की वजह एंटी-फंगल दवा, लिपोसोमल एम्फोटेरिसिन बी दवा की भारी कमी थी. दवा की अत्यधिक कमी के कारण म्यूकोर्मिकोसिस के रोगियों को दवा की एक खुराक 2-3 दिनों में एक बार दी जाती थी, जबकि दिन में 5-7 खुराक की आवश्यकता होती थी. एक डॉक्टर के हवाले अखबार ने बताया कि, 'दवा उपलब्ध नहीं थी. ये मानकर कि सरकारी अस्पतालों में दवा बेहतर उपलब्ध है, कई मरीजों को निजी से सरकारी अस्पतालों में भेज दिया गया. दवा की स्थिति जून के मध्य में ही ठीक हुई.'



    कर्नाटक में कोरोना
    इस बीच, कर्नाटक में बीते 24 घंटे के दौरान कोविड-19 के 2,162 नये मामले सामने आने के साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 28,69,320 हो गयी जबकि 48 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की तादाद 35,779 पहुंच गयी. कर्नाटक के स्वास्थ्य विभाग की ओर से शनिवार को जारी किए गए बुलेटिन के मुताबिक इस दौरान कोविड-19 के 2,879 मरीज संक्रमण मुक्त भी हुए, जिससे राज्य में इस जानलेवा वायरस को मात देने वालों की संख्या बढ़कर 27,96,377 हो गयी.

    Tags: Black Fungs, Karnataka, Mucormycosis

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर