Home /News /nation /

आतंकवाद को मजहब या धर्म के चश्मे से न देखें: नकवी

आतंकवाद को मजहब या धर्म के चश्मे से न देखें: नकवी

पेरिस, अंकारा, माली में आतंकी हमलों की पृष्ठभूमि में नकवी ने कहा कि मजबूत सांस्कृतिक और सामाजिक एकजुटता, जीवंत और सुदृढ़ प्रजातंत्र होने के कारण भारत में आतंकवाद अपनी जड़ें नहीं जमा पाया है।

पेरिस, अंकारा, माली में आतंकी हमलों की पृष्ठभूमि में नकवी ने कहा कि मजबूत सांस्कृतिक और सामाजिक एकजुटता, जीवंत और सुदृढ़ प्रजातंत्र होने के कारण भारत में आतंकवाद अपनी जड़ें नहीं जमा पाया है।

पेरिस, अंकारा, माली में आतंकी हमलों की पृष्ठभूमि में नकवी ने कहा कि मजबूत सांस्कृतिक और सामाजिक एकजुटता, जीवंत और सुदृढ़ प्रजातंत्र होने के कारण भारत में आतंकवाद अपनी जड़ें नहीं जमा पाया है।

    नई दिल्ली। आतंकवाद को दुनिया के समक्ष साझा और सबसे बड़ा खतरा करार देते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि इसके खिलाफ लड़ाई में यह सावधानी बरतनी होगी कि हम अपने सियासी स्वार्थ के लिए आतंकवाद को मजहब या धर्म के चश्मे से न देखें क्योंकि तभी धर्म का दुरूपयोग करने वाले तत्वों को पराजित किया जा सकेगा।

    पेरिस, अंकारा, माली में आतंकी हमलों की पृष्ठभूमि में नकवी ने कहा कि मजबूत सांस्कृतिक और सामाजिक एकजुटता, जीवंत और सुदृढ़ प्रजातंत्र होने के कारण भारत में आतंकवाद अपनी जड़ें नहीं जमा पाया है। कट्टरवाद पर लगाम लगाने की भारत की नीति कारगर रही है। विभिन्न भाषाओं, धर्मों, जातियां होने के बावजूद भारत की सांस्कृतिक और सामाजिक एकता और आपसी सौहार्द के कारण आतंकवादी गुट देश के युवाओं को भ्रमित करने में असफल रहे हैं और समाज, धर्म गुरुओं, मीडिया ने इसमें एक अहम भूमिका निभाई है।

    उन्होंने कहा कि इस्लाम शान्ति और भाईचारे का संदेश देने वाला धर्म है और मुस्लिम शांति प्रिय हैं जो हिंसा और आतंकवाद का विरोध करते हैं। हमें यह याद रखना चाहिए कि इस्लाम में सामाजिक न्याय, आर्थिक समानता, लैंगिक समानता और जनतांत्रिक मूल्यों को तवज्जो दी गई है और शांति और स्थिरता का संदेश दिया। इन्हें और मजबूत और प्रभावशाली बनाने की जरुरत है जिससे अपने स्वार्थ के लिए धर्म का दुरूपयोग करने वाले तत्वों को पराजित और अलग थलग किया जा सके।

    अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री ने कहा कि आईएसआईएस जैसे आतंकी संगठन मजहब को सुरक्षा कवच बना कर आतंक का शैतानी खेल खेल रहे हैं। इन्हें एकजुटता के साथ परास्त करने की जरूरत है। नकवी ने कहा कि भारत को आईएसआईएस, अल कायदा और पाकिस्तान की धरती पर फल-फूल रहे आतंकवादी संगठनों से सतर्क रहने की जरुरत है। अब समय आ गया है कि आतंकवाद के समर्थकों, प्रायोजकों के खिलाफ भी एकजुट हो कर कार्रवाई की जाए। 2008 के मुंबई हमलों के गुनाहगार हाफिज सईद और अन्य आतंकवादी अभी भी पाकिस्तार्न म खुले आम घूम रहे हैं।

    उन्होंने कहा कि भारत पिछले कई दशकों से पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकवाद का सामना कर रहा है, और एकता, सौहार्द भारत की सबसे बड़ी ताकत है। आतंकवाद के खिलाफ आम राय बनाने में भारत और प्रधानमंत्री मोदी की भूमिका को रेखांकित करते हुए नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय मंचों से आतंकवाद के वित्तपोषण को खत्म करने का आह्वान किया है, इससे आतंकवादियों की क्षमताएं सीमित होंगी, आतंकवाद की कमर तोड़ी जा सकेगी।

     

    Tags: Mukhtar abbas naqvi, NDA, Paris Attack, Terrorism

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर