मुकुल रॉय की TMC में वापसी की खबरें तेज! सांसद ने कहा- दो हिस्सों में बटेंगे दल-बदलू

कभी ममता बनर्जी के करीबी रहे मुकुल रॉय पार्टी छोड़ने वाले पहले नेता थे. (फाइल फोटो)

West Bengal Poltics: मुकुल रॉय की टीएमसी (TMC) में वापसी की अटकलें तब से शुरू हो गई थीं, जब अभिषेक बनर्जी अस्पताल में भर्ती रॉय की पत्नी का हाल जानने पहुंचे थे. रिपोर्ट के अनुसार, ऐसा कहा जा रहा है कि अगले ही दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी खुद रॉय से फोन पर बातचीत की थी.

  • Share this:
    कोलकाता. पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधायकों का तृणमूल कांग्रेस में वापसी का मुद्दा गरमाया हुआ है. इस बीच मुकुल रॉय (Mukul Roy) को लेकर चर्चा सबसे ज्यादा है. टीएमसी और बीजेपी दोनों ही मुद्दे पर अभी कुछ भी कहने से बच रही हैं. साथ ही रॉय ने भी अभी तक खुलकर मामले पर प्रतिक्रिया नहीं दी है. हालांकि, बुधवार शाम टीएमसी सांसद सौगत रॉय (Saugata Roy) ने बयान में बदलाव के संकेत दिए हैं.

    एनडीटीवी से बातचीत में सौगत रॉय ने कहा, 'कई लोग हैं और अभिषेक बनर्जी के साथ संपर्क में हैं और वापसी करना चाहते हैं. मुझे लगता है उन्होंने जरूरत के समय में पार्टी को धोखा दिया है.' टीएमसी सांसद ने साफ कर दिया है, 'आखिरी फैसला ममता दी लेंगी, लेकिन मुझे लगता है कि दल बदलने वालों को दो हिस्सों सॉफ्टलाइनर और हार्डलाइनर में बांटा जाएगा.'

    उन्होंने समझाया कि सॉफ्टलाइनर में वे नेता शामिल होंगे, जिन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का कभी अपमान नहीं किया. जबकि, हार्डलाइनर्स ने सार्वजनिक रूप से उन्हें अपमानित किया है. रॉय ने कहा, 'दल बदलने के बाद सुवेंदु अधिकारी ने ममता बनर्जी के बारे में काफी गलत कहा. मुकुल रॉय ने खुलकर मुख्यमंत्री के लिए कोई गलत बात नहीं की.'

    यह भी पढ़ें: नुसरत जहां ने पति निखिल जैन से खटपट के बाद सोशल मीडिया से हटाई शादी की PICS

    टीएमसी छोड़ने वाले पहले नेता थे मुकुल रॉय
    कभी ममता बनर्जी के करीबी रहे मुकुल रॉय पार्टी छोड़ने वाले पहले नेता थे. उन्होंने 2017 में दल बदल लिया था. रिपोर्ट के मुताबिक, इसके बाद के सालों में उन्होंने कई टीएमसी विधायकों और नेताओं को वफादारी बदलने पर राजी किया. खबर है कि करीब 35 नेता सत्ताधारी दल के साथ वापस आना चाहते हैं.

    मुकुल रॉय की टीएमसी में वापसी की अटकलें तब से शुरू हो गई थीं, जब अभिषेक बनर्जी अस्पताल में भर्ती मुकुल रॉय की पत्नी कृष्णा रॉय का हाल जानने पहुंचे थे. रिपोर्ट के अनुसार, ऐसा कहा जा रहा है कि अगले ही दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी खुद रॉय से फोन पर बातचीत की थी. बीजेपी नेताओं का कहना है कि कृष्णा रॉय की पत्नी के जल्दी स्वस्थ होने को लेकर यह कॉल किया गया था. जबकि, टीएमसी नेताओं का मानना है कि यह बीजेपी की नेताओं को एक साथ रखने की कोशिश है.



    बीजेपी ने बुलाई बैठक
    हाल ही में कई बीजेपी नेताओं को दिल्ली बुलाया गया था. इन नेताओं में अधिकारी का नाम भी शामिल था. मंगलवार को अधिकारी ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी. बाद में वे पीएम मोदी से भी मिले. बीजेपी की समीक्षा बैठक में मुकुल रॉय की गैर-मौजूदगी ने अधिकारी के साथ दरार की खबरों को मजबूती मिली है.