लाइव टीवी

लोकसभा में मुलायम को आई फारूक अब्दुल्ला की याद, पूछा- मेरे साथी सदन में कब लौटेंगे?

News18Hindi
Updated: February 12, 2020, 11:41 AM IST
लोकसभा में मुलायम को आई फारूक अब्दुल्ला की याद, पूछा- मेरे साथी सदन में कब लौटेंगे?
सपा सांसद मुलायम सिंह यादव (PTI)

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में तीन बार मुख्यमंत्री रहे फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला को बीते साल 4 अगस्त को अन्य अलगाववादी नेताओं के साथ हिरासत में लिया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2020, 11:41 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के सांसद मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) ने लोकसभा में फारूक अब्दुल्ला की हिरासत का मामला उठाया है. मुलायम ने मंगलवार को सरकार से जानना चाहा कि जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के सांसद फारूक अब्दुल्ला कब रिहा किए जाएंगे और सदन की कार्यवाही में शामिल होंगे.

मुलायम सिंह यादव ने प्रश्नकाल के दौरान सरकार से ये सवाल किए. सपा सांसद ने पूछा- 'हमारे साथी फारूक अब्दुल्ला बगल में बैठते हैं. वह कब तक सदन में लौटेंगे?'

हालांकि, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने सरकार से इस सवाल का जवाब देने के लिए नहीं कहा और दूसरे मुद्दे की ओर बढ़ गए.

FAROOQ ABDULLA
फारूक अब्दुल्ला बीते साल 4 अगस्त से नजरबंद हैं.


कब से हिरासत में हैं फारूक अब्दुल्ला?
जम्मू-कश्मीर में तीन बार मुख्यमंत्री रहे फारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला को बीते साल 4 अगस्त को अन्य अलगाववादी नेताओं के साथ हिरासत में लिया गया था. इसके एक दिन बाद पांच अगस्त को सरकार ने जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म कर दिया और राज्य के बंटवारे का ऐलान किया था.

फारूक और उमर अब्दुल्ला पर लगा PSAफारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला पर जन सुरक्षा कानून (PSA) भी लगाया गया. दोनों की हिरासत की अवधि बढ़ा दी गई है. फारूक अब्दुल्ला अभी श्रीनगर के गुपकर रोड स्थित अपने घर में नजरबंद हैं. उनको लोगों से मिलने की इजाजत नहीं है. हां, मगर परिवार के लोग मुलाकात कर सकते हैं.

बता दें सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम या पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत प्रावधान है कि इसमें बिना कोई मुकदमा चलाए किसी भी शख्स को दो साल तक के लिए हिरासत में लिया जा सकता है.

सारा ने भाई उमर अब्दुल्ला की रिहाई के लिए दायर की याचिका
उधर, उमर अब्दुल्ला को जन सुरक्षा कानून (PSA)-1978 के तहत हिरासत में रखने के खिलाफ उनकी बहन सारा पायलट ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. इसपर सुनवाई होनी है. सारा अब्दुल्ला पायलट की ओर से दायर याचिका पर जस्टिस एनवी रमण की बेंच सुनवाई करेगी.

सारा ने अपनी याचिका में कहा है कि अब्दुल्ला को हिरासत में रखना स्पष्ट रूप से गैरकानूनी है और उनसे कानून व्यवस्था को किसी खतरे का कोई सवाल ही नहीं है. सारा ने कहा कि प्रशासन ने यह सुनिश्चित करने के लिए कि संविधान के अनुच्छेद-370 को निरस्त करने के खिलाफ विरोध को दबाया जा सके, गलत तरीके से दंड प्रक्रिया संहिता (IPC) का इस्तेमाल कर राजनीतिक नेताओं और लोगों को हिरासत में रखा है.

फारूक अब्दुल्ला के बाद कश्मीर के करीब 350 नेताओं पर लग सकता है PSA

फारूक अब्दुल्ला को सुप्रीम कोर्ट से झटका, हिरासत के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इनकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 11:35 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर