• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • बॉम्बे हाईकोर्ट ने पुलिस बर्बरता से मौत मामले में जांच के लिए SIT गठन का दिया निर्देश

बॉम्बे हाईकोर्ट ने पुलिस बर्बरता से मौत मामले में जांच के लिए SIT गठन का दिया निर्देश

पुलिसिया बर्बरता के एक मामले में हाईकोर्ट ने SIT के गठन का निर्देश दिया है (सांकेतिक फोटो)

पुलिसिया बर्बरता के एक मामले में हाईकोर्ट ने SIT के गठन का निर्देश दिया है (सांकेतिक फोटो)

मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने परिवार को बताया था कि देंवेंद्र समीप के एक चौक पर लेटा मिला और जब उसे अस्पताल (Hospital) ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया. शुरू में पुलिस ने दावा किया था कि कुछ लोगों ने डकैती के शक में देवेंद्र के साथ बुरी तरह मार-पीट की और वह मर गया.

  • Share this:
    मुंबई. बॉम्बे हाई कोर्ट (Bmbay High Court) ने मुंबई पुलिस आयुक्त (Mumbai Police Commissioner) को निर्देश दिया है कि वे मुंबई के विले पार्ले इलाके (Ville parle area) में कथित तौर पर पुलिस की बर्बरता के चलते हुई एक व्यक्ति की मौत की जांच और उसकी रिपोर्ट दाखिल करने के लिए एक एसआईटी (SIT) का गठन करें. इससे करीब 3 हफ्ते पहले महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने गुरुवार को बंबई उच्च न्यायालय को बताया था कि इस साल मार्च में विले पार्ले में कोरोना वायरस (Coronavirus) प्रसार के चलते लॉकडाउन (Lockdown) को लागू करने के दौरान 22 साल के एक व्यक्ति पर कथित रूप से हमला करने वाले 4 पुलिसकर्मियों की पहचान कर ली गई है.

    बांद्रा के सहायक पुलिस आयुक्त द्वारा तैयार रिपोर्ट उच्च न्यायालय (High Court) को सौंपी गयी थी. उसमें कहा गया है कि सीसीटीवी फुटेज (CCTV Footage) में 29 मार्च की रात को चार पुलिस कांस्टेबल इस व्यक्ति पर हमला करते हुए नजर आते हैं. जिसके बाद मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति अनुजा प्रभुदेसाई की खंडपीठ वकील फिरदौस ईरानी की याचिका (plea) पर सुनवाई कर रही है. अदालत ने लॉकडाउन के दौरान ईरानी पर और उनके परिवार पर हमला समेत पुलिस की कथित ज्यादतियों पर चिंता प्रकट की है. ईरानी ने शहर के दो मामलों का हवाला दिया है जहां लॉकडाउन (lockdown) लागू कर रहे पुलिसकर्मियों के कथित अत्यधिक बलप्रयोग के चलते दो व्यक्तियों की जान चली गयी.

    अस्पताल ले जाने पर मृत घोषित कर दिया गया
    इस मामले का संबंध 22 वर्षीय राजू देवेंद्र की मौत से जुड़ा है जिसके परिवार ने आरोप लगाया कि 29 मार्च को जब वे लोग अपने रिश्तेदार के यहां जा रहे थे तब पुलिस ने उनका पीछा किया और देवेंद्र को पकड़ लिया. ईरानी ने याचिका में कहा कि पुलिसकर्मियों ने कथित रूप से रिश्तदारों को बताया कि वे देवेंद्र को जुहू थाने ले जा रहे हैं. लेकिन अगले दिन पुलिस ने परिवार को बताया कि देंवेंद्र समीप के एक चौक पर लेटा मिला और जब उसे अस्पताल ले जाया गया तो वहां उसे मृत घोषित कर दिया गया. शुरू में पुलिस ने दावा किया कि कुछ लोगों ने डकैती के शक में देवेंद्र के साथ बुरी तरह मार-पीट की और वह मर गया.

    यह भी पढ़ें: कमला हैरिस ने मौसी से कहा- मेरी अच्छी किस्मत के लिए मंदिर में फोड़ें नारियल

    गुरुवार को रिपोर्ट पर गौर करने के बाद अदालत ने कहा कि चार पुलिस कांस्टेबलों की पहचान की गयी थी जिन्होंने 29 मार्च की रात को देवेंद्र पर कथित रूप से हमला किया और उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई का प्रस्ताव रखा गया था. (भाषा के इनपुट सहित)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज