12 से 18 एज ग्रुप में कोवैक्सीन के ट्रायल की BMC ने केंद्र से मांगी मंजूरी

कोवैक्सीन भारत की स्वदेशी वैक्सीन है. (सांकेतिक तस्वीर)

कोवैक्सीन भारत की स्वदेशी वैक्सीन है. (सांकेतिक तस्वीर)

बह्नमुंबई महानगरपालिका (BMC) ने कोवैक्सीन के 12 से 18 एज ग्रुप में ट्रायल के लिए केंद्र सरकार से अनुमति मांगी है. न्यूज़18 से बातचीत में बीएमसी के अडिशनल कमिश्नर सुरेश काकानी ने कहा है- हमने 12-18 एज ग्रुप में ट्रायल करने की अपनी इच्छा केंद्र सरकार तक पहुंचा दी है. हम अनुमति का इंतजार कर रहे हैं.

  • Share this:

मुंबई. देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर (Covid Third Wave) की आशंकाओं के बीच 18 से कम उम्र वालों में वैक्सीनेशन की कोशिश जा रही है. इसी क्रम में बह्नमुंबई महानगरपालिका (BMC) ने कोवैक्सीन के 12 से 18 एज ग्रुप में ट्रायल के लिए केंद्र सरकार से अनुमति मांगी है. न्यूज़18 से बातचीत में बीएमसी के अडिशनल कमिश्नर सुरेश काकानी ने कहा है- हमने 12-18 एज ग्रुप में ट्रायल करने की अपनी इच्छा केंद्र सरकार तक पहुंचा दी है. हम अनुमति का इंतजार कर रहे हैं. एक बार अनुमति मिल जाने के बाद हमें एथिक्स कमेटी से इजाजत लेनी होगी.

उन्होंने कहा है कि ये कदम वैक्सीन कंपनियों द्वारा ट्रायल के लिए लिखे जाने के बाद उठाया गया है. ट्रायल कहां किए जाएंगे के सवाल पर उन्होंने कहा-अब तक दो मेडिकल कॉलेज हैं जिनमें ट्रायल किया जा सकता है. लेकिन अभी हमें सैंपल साइज नहीं मालूम है. लेकिन हम सभी ट्रायल आईसीएमआर की गाइडलाइंस के हिसाब से ही करेंगे.

कुछ समय पहले भारत बायोटेक के बिजनेस डेवलपमेंट और इंटरनेशनल एडवोकेसी हेड डॉक्टर राचेस ऐल्ला ने कहा था कि कंपनी अपनी एंटी कोविड वैक्सीन कोवैक्सीन का पीडियाट्रिक ट्रायल जून से शुरू करेगी. कंपनी को उम्मीद है कि साल के तीसरे क्वार्टर तक उसे वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन से मंजूरी मिल जाएगी.

बीते महीने भारत बायोटेक को मिली थी मंजूरी
भारत बायोटेक को मई महीने में ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की तरफ से 2-18 साल उम्र के बच्चों के क्लिनिकल ट्रायल्स की मंजूरी मिली थी. कंपनी का कहना है कि इस उसका पूरा फोकस उत्पादन की क्षमता बढ़ाने पर है. उनका कहना है कि वे साल के अंदर तक 700 मिलियन वैक्सीन की खुराक के उत्पादन का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज