मुंबई हाईकोर्ट की NRI महिला को इजाजत, स्काइप से दायर कर सकती है तलाक याचिका

NRI महिला की तलाक याचिका फैमिली कोर्ट ने इसीलिए खारिज कर दी क्योंकि वो कोर्ट में पेश नहीं हो सकती थी, महिला ने फैमिली कोर्ट के आदेश को हाई कोर्ट में चुनौती दी और बंबई हाईकोर्ट ने महिला को स्काइप से मामला दर्ज करने की इजाजत दे दी.

भाषा
Updated: April 17, 2018, 5:23 PM IST
मुंबई हाईकोर्ट की NRI महिला को इजाजत, स्काइप से दायर कर सकती है तलाक याचिका
प्रतीकात्मक चित्र
भाषा
Updated: April 17, 2018, 5:23 PM IST
मुंबई हाई कोर्ट ने NRI महिला को अपने पति से तलाक के मामले में स्काइप या किसी दूसरे वीडियो कॉलिंग तकनीक से अपनी सहमति दर्ज कराने की इजाजत दे दी है. वह अपने पति से अलग रह रही है.

शहर के एक फैमिली कोर्ट के आदेश को खारिज कर दिया जिसने अमेरिका में रहने वाली महिला की तलाक याचिका को दर्ज करने से इस आधार पर इनकार कर दिया था कि वह व्यक्तिगत रूप से इसे दायर करने के लिए पेश नहीं हुई थी.

महिला ने हाई कोर्ट में फैमिली कोर्ट के आदेश को चुनौती दी थी. जज भारती ने अपने आदेश में महिला के पिता को पावर ऑफ अटॉर्नी रखने वाले शख्स के तौर पर इस मामले में पेश होने की इजाजत दी है.

हाईकोर्ट के जज ने परिवार अदालत से कहा कि वह तलाक के लिए महिला की सहमति स्काइप जैसी ऑनलाइन वीडियो कॉलिंग तकनीक के जरिए दर्ज करे. हाईकोर्ट ने कहा कि ग्लोबलाइज़ेशन और शिक्षित युवाओं के भारत के बाहर जाने की वजह से यह मुमकिन नहीं है कि वह याचिका दायर करने के लिए मौजूद रहें.

दंपति ने 2002 में शादी की थी और वह 2016 से अलग रह रहे हैं. इसके बाद महिला अमेरिका में बस गई थी. पिछले साल उन्होंने परस्पर तलाक के लिए परिवार अदालत का रुख किया था.

ये भी पढ़ें:

रामपुरः तीन तलाक पीड़िता से दोबारा शादी करने से पति ने किया इनकार
Loading...

रामपुर: तीन तलाक के बाद दोबारा शादी के लिए पति ने मांगे 10 लाख
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर