देश की आर्थिक राजधानी में तेज होगा कोरोना वैक्सीनेशन, विदेश से आयात की तैयारी

कोरोना की दूसरी लहर के बीच मुंबई में वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाई जा सकती है. (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना की दूसरी लहर के बीच मुंबई में वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाई जा सकती है. (सांकेतिक तस्वीर)

BMC इस बात को लेकर प्रयास तेज कर रही है कि वैक्सीनेशन (Covid Vaccination) की रफ्तार बढ़ाई जाए. इसी क्रम में अब वैक्सीन विदेशों से आयात करने पर विचार चल रहा है.

  • Share this:

मुंबई. देश में कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र (Maharashtra Covid Cases) में अब नए मामले कम होते दिख रहे हैं. राजधानी मुंबई (Mumbai) में भी नए मामलों की संख्या में कमी आई है और रिकवरी रेट (Recovery Rate) बेहतर हुआ है. इस बीच अब BMC इस बात को लेकर प्रयास तेज कर रही है कि वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाई जाए. इसी क्रम में अब वैक्सीन विदेशों से आयात करने पर विचार चल रहा है.

विदेशों से वैक्सीन आयात करने को लेकर बीएमसी और राज्य सरकार की बातचीत चल रही है. मकसद ये है कि वैक्सीनेशन की रफ्तार तेज कर तीसरी लहर में नुकसान को कम किया जा सके. टाइम्स ऑफ इंडिया पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने कहा है-राज्य सरकार का वैक्सीन टेंडर बहुत बड़ा हो सकता है यानी करीब 4 करोड़ तक. और कोई भी विदेशी सप्लायर इस वक्त इतने बड़े टेंडर को मैच नहीं कर सकता. लेकिन अगर हम मुंबई के लिए 50 लाख वैक्सीन का टेंडर निकालें तो दो-तीन बड़ी कंपनियां आ सकती है. मैं इस पर काम कर रहा हूं. ये कुछ दिनों की बात है. हम इस मामले पर किसी निर्णय पर पहुंचेंगे.

कोई भी अप्रूव वैक्सीन उत्पादक ले सकता है टेंडर में हिस्सा

चहल ने ये भी कहा है कि मुंबई में कोई भी अप्रूव वैक्सीन टेंडर में शामिल हो सकती है जैसे स्पूतनिक, मॉडर्ना, फाइज़र, जॉनसन एंड जॉनसन. बीएमसी इन कंपनियों को कोल्ड चेन तैयार करने के लिए अतिरिक्त पैसे भी अदा करेगी.
आदित्य ठाकरे ने भी ट्वीट कर दी जानकारी

आदित्य ठाकरे ने भी इस मामले पर ट्वीट किया है. उन्होंने कहा है कि वैक्सीन की प्रचुर मात्रा के लिए सीएम उद्धव ठाकरे से बातचीत हुई है. हमने बीएमसी से वैक्सीन मंगाने के लिए वैश्विक तौर पर देखने को कहा है.

कोरोना से बुरी तरह प्रभावित रही है मुंबई



बता दें बीते साल कोरोना की पहली लहर से लेकर अब तक मुंबई और महाराष्ट्र कोरोना से बुरी तरह प्रभावित रहे हैं. अब जबकि तीसरी लहर आने की बात कही जा चुकी है तो सरकार और बीएमसी वैक्सीनेशन की रफ्तार तेज करने के प्रयास कर रहे हैं. भारत ने पिछले महीने ही विदेशी वैक्सीन्स के लिए भी देश में दरवाजा खोल दिया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज