Home /News /nation /

'हां हमने देखा, लड़कियों और महिलाओं को खेतों में ले जाकर उन्होंने गलत काम किया'

'हां हमने देखा, लड़कियों और महिलाओं को खेतों में ले जाकर उन्होंने गलत काम किया'

मुरथल का सच जानने के लिए IBN7 ग्राउंड जीरो पहुंचा। वो जगह जहां महिलाओं के साथ दरिंदगी की बात कही जा रही थी। IBN7 के कैमरे पर लोगों ने मुरथल का वो घिनौना सच बयां किया, जिसे सुनकर ही सिर शर्म से झुक जाए। दरिंदगी और बर्बरता जो उन्होने वहां देखी।

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली। सोनीपत के मुरथल में एक ढाबे के पास महिलाओं के कपड़ों का पाया जाना सवाल खड़े कर रहा था। घटनास्थल की तस्वीरें दहशत के उन पलों की कहानी बयान कर रही थीं। हालांकि पहले दिन से ही पुलिस गैंगरेप की घटना से इनकार कर रही थी। जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान 22 फरवरी को सोनीपत के मुरथल में क्या हुआ था? सच सारा देश जानना चाहता है। मुरथल का सच जानने के लिए IBN7 ग्राउंड जीरो पहुंचा। वो जगह जहां महिलाओं के साथ दरिंदगी की बात कही जा रही थी। IBN7 के कैमरे पर लोगों ने मुरथल का वो घिनौना सच बयां किया, जिसे सुनकर ही सिर शर्म से झुक जाए। दरिंदगी और बर्बरता जो उन्होने वहां देखी।

    ट्रक ड्राइवर निरंजन ने बताया कि हमने देखा कि लड़कियों-औरतों को खेतों में ले जाकर उल्टा सीधा काम किया। बहुत ज्यादा हुआ है। हमने अपनी आंखों से देखा है। उनके कपड़े फाड़ दिए गए। चश्मदीद ड्राइवर सोनी ने बताया कि मेरे सामने तीन लड़कियों के कपड़े फाड़े। महिलाओं के साथ बदतमीजी हुई।

    हरियाणा पुलिस इस मामले को ये कहकर दबाने की कोशिश कर रही थी कि इसमें ना तो कोई शिकायतकर्ता है और ना ही प्रत्यक्षदर्शी। तो किस चीज की जांच की जाए? हालांकि खानापूर्ति के नाम पर एसआईटी जांच भी चल रही है। अब चश्मदीद सामने आ गए हैं और वो बता रहे हैं कि किस तरह आरक्षण की मांग के नाम पर निकली भीड़ अस्मत लूटने लगी। किस तरह 22 फरवरी को मुरथल में इंसानियत शर्मसार हुई। चश्मदीदों के सामने आने से हरियाणा पुलिस सवालों के घेरे में आ गई है।

    एक और प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि दूर वहां खेतों मे ले गए थे, 4-5 लड़के घूम रहे थे। लड़कियों के कपड़े फाड़ दिये। वो भाग रही थीं, वो अपनी जान बचा कर भाग रहे थीं। दूसरे प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि हमने देखा खेतों में लड़कियों को ले जाकर उल्टा सीधा काम किया। बहुत ज्यादा हुआ। हमने अपनी आंखों से देखा। कपड़े फाड़ दिए गए। तीसरे प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि गाड़ियों से बच्चों को ऐसे फेंका के जैसे कागजों को बाहर फेंकते हैं। औरतो को खेतों में ले जाते देखा। बाद में क्या किया उनके साथ, ये नहीं देखा। तकरीबन 50 के करीब औरतों को तो देखा।

    मुरथल में मचे तांडव के बाद अब डरे सहमे लोग सामने आ रहे हैं। इनका दावा है कि इन्होंने मुरथल का कलंक देखा है। इन्होंने देखा है कि कैसे आंदोलन की आड़ में गुंडों ने महिलाओं के साथ खुलेआम दरिंदगी की थी। इनमें से ज्यादातर वो ट्रक ड्राइवर हैं जो हिंसा के दौरान मुरथल में फंस गए थे। आरक्षण के नाम पर इनके ट्रक जला दिए गए। अब ये पुलिस और थाने के चक्कर लगा रहे हैं। चश्मदीदों की जुबानी मुरथल का जो सच सामने आ रहा है वो बेहद खौफनाक और शर्मिंदा करने वाला है। आरक्षण की आड़ में गुंडों ने महिलाओं के साथ दरिंदगी के लिए जो तरीका अपनाया वो सुनकर आप हैरान रह जाएंगे।

    प्रत्यक्षदर्शी निरंजन ने बताया कि 20 से 26 साल के लड़के थे। लड़कियों को कहते थे आपको पीटेंगे। आप इधर से भाग जाओ। जब वे नीचे जाती थीं तो लड़कियों की वहां इज्जत लूटते थे। जब उनसे सवाल किया गया कि क्या आप पहचान पाएंगे? तो निरंजन ने कहा कि हां पहचान लेंगे। प्रत्यक्षदर्शी सोनी ने बताया कि महिलाओं के साथ बदतमीजी हुई थी। 100 नम्बर को फोन किया था। महिलाएं जान बचाकर भाग रही थीं।

    इससे ज्यादा बेबसी क्या हो सकती है कि सबको पता था कि वहां क्या हुआ था, लेकिन जुबान चुप है। ये सच एक शहर की बेबसी की कहानी है, जहां हर कोई जानता है कि क्या हुआ। लेकिन जुबान सिली हुई है और वर्दी वाले इस खामोशी को हथियार बनाकर अपनी गर्दन बचा रहे हैं।

    Tags: हरियाणा

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर