‘जक़ात’ से 18 मुस्लिम लड़के-लड़कियां बने IAS और IPS अफसर, जुनैद को मिली तीसरी रैंक

18 मुस्लिम लड़के-लड़कियों ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर आईएएस और आईपीएस बनने का रास्ता साफ कर लिया है. वहीं ज़कात के सहयोग से यूपीएससी की तैयारी करने वाले जुनैद अहमद ने आल इंडिया में तीसरी रैंक पाई है.

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: April 5, 2019, 10:21 PM IST
‘जक़ात’ से 18 मुस्लिम लड़के-लड़कियां बने IAS और IPS अफसर, जुनैद को मिली तीसरी  रैंक
फाइल फोटो.
नासिर हुसैन
नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: April 5, 2019, 10:21 PM IST
संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) के फाइनल नतीजे शुक्रवार को घोषित कर दिए गए हैं. कुल 1994 उम्मीदवार इंटरव्यू  में शामिल हुए थे. इस बार के नतीजों में एक बार फिर से ज़कात फाउंडेशन का जलवा देखने को मिला है. यहां के 18 मुस्लिम लड़के-लड़कियों ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर आईएएस और आईपीएस बनने का रास्ता साफ कर लिया है. वहीं ज़कात के सहयोग से यूपीएससी की तैयारी करने वाले यूपी के जुनैद अहमद ने आल इंडिया में तीसरी रैंक पाई है.

यूपीएससी के मेन्स एग्जाम में ज़कात के 27 मुस्लिम और दो क्रिश्चियन युवाओं ने कामयाबी हासिल की थी. जिसमे से 18 लड़के और 2 लड़कियों ने ये परीक्षा पास की है. इंटरव्यू पास कर आईएएस बनने वालों में एक क्रिश्चियन युवक भी है.

ये वो 18 लड़के-लड़कियां हैं जिन्होंने ज़कात की मदद से यूपीएससी की तैयारी की थी. गौरतलब  है कि जक़ात फाउंडेशन जक़ात (दान) के पैसों से चलता है. हालांकि पिछली बार ज़कात फाउंडेशन की ओर से कामयाब होने वाले युवाओं की संख्या 26 थी. लेकिन इस बार ये संख्या घटकर 18 पर रह गई है.

ज़कात के सफल उम्मीदवारों की लिस्ट.


इसके पीछे की वजह बताते हुए ज़कात फाउंडेशन के अध्यक्ष डाक्टर सैय्यद जफर महमूद ने बताया, इस बार यूपीएससी ने सीटों की संख्या घटा दी थी. आपको बता दें कि डाक्टर सैय्यद जफर महमूद खुद भी सिविल सर्विस से रिटायर्ड हैं. उन्होंने कई मंत्रालयों में अपनी सेवाएं दी हैं. वहीं सच्चर कमेटी के भी वो सदस्य रहे हैं.

खास बात ये है कि यूपीएससी की परीक्षा की तैयारियों के लिए जक़ात फाउंडेशन की मदद पाना आसान नहीं है. जक़ात की मदद पाने के लिए पहले सिविल सर्विस प्री परीक्षा स्तर की परीक्षा पास करनी होती है. उसके बाद इंटरव्यू भी पास करना होता है. इस परीक्षा का आयोजन जक़ात फाउंडेशन ही करता है.

ये भी पढ़ें-Loksabha Election 2019: मुसलमान लोकसभा में इसलिए सिमट गए सिर्फ 24 सीट पर

Loksabha Election 2019: देश में किस लोकसभा सीट पर किस पार्टी का कौन है उम्मीदवार, एक क्लिक पर यहां मिलेगी पूरी जानकारी

चुनाव 2019: इमाम अहमद बुखारी बोले, नहीं करेंगे कोई ऐलान, मुसलमान खुद लें फैसला’
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार