सांसदों के निलंबन पर राहुल गांधी बोले- सरकार में लोकतांत्रिक भारत की आवाज दबाना जारी है

राहुल गांधी इस मॉनसून सत्र में शामिल नहीं हो रहे हैं.
राहुल गांधी इस मॉनसून सत्र में शामिल नहीं हो रहे हैं.

राज्यसभा (Rajyasabha) सभापति वैंकेया नायडू ने 8 सांसदों को पूरे मानसून सत्र के लिए सस्पेंड कर दिया है. अब इसी मुद्दे को लेकर कांग्रेस से लोकसभा सांसद राहुल गांधी (Rahuk Gandhi) ने बयान दिया है. राहुल ने कहा कि लोकतांत्रिक भारत की आवाज दबाना जारी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 12:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कृषि विधेयकों (Agriculter Bills 2020) को लेकर संसद (Parliament Monsoon Session) में हंगामा जारी है. सोमवार को राज्‍यसभा (Rajyasbha) की कार्यवाही शुरू होते ही सभापति वैंकेया नायडू ने रविवार को हंगामा करने वाले विपक्ष के 7 सांसदों को एक हफ्ते के लिए निलंबित कर दिया. लेकिन इसके बाद भी ये सांसद सदन में मौजूद रहे और नारेबाजी करने लगे. जिसके बाद सभापति ने 8 सांसदों को पूरे मानसून सत्र के लिए सस्पेंड कर दिया है. अब इसी मुद्दे को लेकर कांग्रेस से लोकसभा सांसद राहुल गांधी (Rahuk Gandhi) ने बयान दिया है. राहुल ने कहा कि लोकतांत्रिक भारत की आवाज दबाना जारी है.

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'लोकतांत्रिक भारत की आवाज को बंद करना जारी है. शुरू में इसे शांत किया गया और अब किसान बिल पर चिंता जाहिर करने पर सांसदों को निलंबित कर दिया गया.' राहुल ने आगे लिखा- 'इस सर्वज्ञ सरकार के अंतहीन अहंकार ने पूरे देश के लिए आर्थिक संकट ला दिया है.'


दरअसल, राज्यसभा में रविवार को किसान बिल पर बेहद नाटकीय ढंग से हंगामा करने वाले सांसदों को आज निलंबित किया गया है. सभापति एम वेंकैया नायडू ने सदन शुरू होते ही एक हफ्ते के निलंबन की घोषणा की. इसके बाद हंगामा हुआ तो सदन सुबह 10 बजे तक स्‍थगित कर दिया गया. दोबारा उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह ने कार्यवाही शुरू कराई तो सस्‍पेंड हुए सांसद फिर नारेबाजी करते हुए वेल तक पहुंच गए. हरिवंश नारायण सिंह ने उनसे सदन से बाहर जाने को कहा, मगर वे नहीं माने. ऐसे में सभापति ने सभी 8 सांसदों को पूरे सत्र के लिए सस्पेंड कर दिया है.



Farm Bills 2020: राज्यसभा में हंगामा करने पर डेरेक ओ ब्रायन और संजय सिंह सहित 8 विपक्षी सांसद सस्पेंड

ये सांसद हुए निलंबित
निलंबित होने वाले सांसदों में डेरेक ओ'ब्रायन (तृणमूल कांग्रेस), संजय सिंह (आम आदमी पार्टी), राजू साटव (कांग्रेस), केके रागेश (सीपीआई-एम), रिपुण बोरा (कांग्रेस), डोला सेन (तृणमूल कांग्रेस), सैयद नासिर हुसैन (कांग्रेस), एलमाराम करीम (सीपीआई-एम). बीजेपी सांसद ने इनकी शिकायत की थी. जिसके बाद सभापति वैंकेया नायडू ने सदन की कार्यवाही शुरू होते ही इन सांसदों के खिलाफ एक्शन लिया.

राज्यसभा के उपसभापति के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव खारिज, वेंकैया नायडू बोले- फॉर्मेट सही नहीं

ममता बनर्जी ने भी किया विरोध
इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सांसदों के निलंबन को लेकर मोदी सरकार की कड़ी आलोचना की. ममता बनर्जी ने ट्विटर पर लिखा-, 'किसानों के हितों की रक्षा के लिए लड़ने वाले आठ सांसदों का निलंबन दुर्भाग्यपूर्ण है. ये इस निरंकुश सरकार की सोच का परिचायक है कि वह लोकतांत्रिक नियमों और सिद्धांतों का सम्मान नहीं करती... हम नहीं झुकेंगे और इस फासीवादी सरकार से संसद में और सड़कों पर लड़ेंगे...'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज