होम /न्यूज /राष्ट्र /भारत में पक्षियों की तस्करी का नया रूट बने म्‍यांमार, मिजोरम और केरल, करोड़ों का है अवैध कारोबार

भारत में पक्षियों की तस्करी का नया रूट बने म्‍यांमार, मिजोरम और केरल, करोड़ों का है अवैध कारोबार

हाल ही में दो करोड़ की कीमत के पक्षी पकड़े गए हैं.

हाल ही में दो करोड़ की कीमत के पक्षी पकड़े गए हैं.

बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (Border Security Force), डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (Directorate of Revenue Intelligenc ...अधिक पढ़ें

    वैसे तो हर साल भारत में कई सौ करोड़ की कीमत के दुर्लभ पक्षियों की तस्करी की जाती है. जी हां, इनको पड़ोस के देशों से लाकर भारत बेचा जाता है. जबकि भारत से इन पक्षियों को बाहर के देशों में बेचा जाता है, जिसमें बांग्‍लादेश, नेपाल, श्रीलंका, चीन, मलेशिया और इंडोनेशिया प्रमुख देश हैं. भारत में ये अवैध कारोबार असम, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम जैसे राज्यों से संचालित होता है, लेकिन अब भारत में म्‍यांमार, मिजोरम और केरल पक्षियों की तस्करी का नया रूट बनकर उभर रहा है. पिछले तीन महीनों में दो बार सुरक्षा एजेंसियों ने दुर्लभ पक्षियों की अवैध खेप इस रूट पर जब्त की है.

    दो करोड़ की कीमत के पक्षी पकड़े
    बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (Border Security Force), डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (Directorate of Revenue Intelligence) और मिजोरम पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में पकड़ी गई दुर्लभ पक्षियों की दो अवैध खेप की कीमत ही अंतर्राष्ट्रीय बाजार में करीब दो करोड़ है. ताजा खेप जो पकड़ी गई है, उसमें 26 दुर्लभ पक्षी थे, जिन्हें केरल ले जाना था. इनमें से सफेद कुकेटू 23, क्रॉउन हेड पिजन 2 और ईएमयू दुर्लभ पक्षियों की तादात एक थी. जबकि 2 महीने पहले इसी रूट पर 13 दुर्लभ पक्षियों की खेप को पकड़ा गया था. ये दोनों खेप मिजोरम की राजधानी आइजवाल के पास खामरांग इलाके से पकड़ी गई हैं और इन दुर्लभ पक्षियों को मिजोरम से केरल ले जाना था.

    पक्षियों की ब्रीडिंग के बाद होता है ऐसा
    सुरक्षा एजेंसियों के सूत्रों के मुताबिक केरल में इन दुर्लभ पक्षियों की ब्रीडिंग की जाती है, जिसके बाद इन्हें श्रीलंका और खाड़ी के देशों में अवैध तरीके से बेचा और भेजा जाता है. विदेशों में इन पक्षियों की मांग दवा के लिए, जादू टोने के लिए की जाती है.

    News18 Hindi
    सुरक्षा एजेंसियों के सूत्रों के मुताबिक केरल में इन दुर्लभ पक्षियों की ब्रीडिंग की जाती है.


    बहरहाल, जिन चार आरोपियों को इस ताजा खेप के साथ पकड़ा गया है, उनमें से चार आरोपी केरल के रहने वाले हैं. सुरक्षा एजेंसी अब इस बात का पता लगा रही है कि आखिरकार यह लोग केरल से मिजोरम कितनी बार आए थे. इस बात की भी जांच की जा रही है कि केरल में किन-किन जगहों पर इन दुर्लभ पक्षियों की ब्रीडिंग की जा रही है, जिनको अवैध तरीके से म्यांमार से भारत में लाया गया है.

    ये भी पढ़ें- बस हादसा: यूपी रोडवेज की इस बड़ी लापरवाही से हुई 29 यात्रियों की मौत

    6 साल की बच्ची से दुष्कर्म, आंत फटने के बाद दोनों प्राइवेट पॉर्टस किए बंद

    Tags: Kerala, Mizoram, National Bird, Smuggling

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें