अगले हफ्ते तक बाजार में मिलेगी घर पर कोरोना टेस्ट करने वाली किट, जानें कैसे करेगी काम

रैपिड एंटीजेन टेस्ट करने वाली टेस्ट किट 'कोविसेल्फ' (फोटो- एएनआई)

रैपिड एंटीजेन टेस्ट करने वाली टेस्ट किट 'कोविसेल्फ' (फोटो- एएनआई)

How to use coviself testing kit at home: आईसीएमआर ने रैपिड एंटीजन टेस्ट का उपयोग करके अंधाधुंध घरेलू परीक्षण के खिलाफ चेतावनी दी है, और कहा कि केवल कोरोना के लक्षण वाले लोग और लैब द्वारा कंफर्म कोविड संक्रमित लोगो के तत्काल संपर्क में आए लोग ही इसके जरिए टेस्ट कर सकते हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. घर पर ही कोरोना टेस्ट करने वाली कोविड-19 टेस्ट किट (Covid-19 Test Kit) कोविसेल्फ (Coviself) को आईसीएमआर की मंजूरी मिलने के बाद पुणे की माइलैब (MyLab) के अधिकारियों ने कहा कि इस टेस्ट को करने में दो मिनट लगेंगे और इसका परिणाम 15 मिनट में मिल जाएगा. उन्होंने कहा कि कोई भी वयस्क इस किट की मदद से आसानी से टेस्ट कर सकता है. एएनआई में माइलैब डिस्कवरी सोल्यूशन के सुजीत जैन के हवाले से लिखा, "टेस्ट करने में 2 मिनट का समय लगता है और 15 मिनट में नतीजा सामने आ जाता है. अगले हफ्ते के आखिर तक ये भारत की 7 लाख से ज्यादा फार्मेसी और हमारी ऑनलाइन फार्मेसी पार्टनर्स के पास उपलब्ध हो जाएगी. हमारा लक्ष्य भारत के 90 प्रतिशत पिन कोड तक पहुंचना है."

जैन ने यह भी कहा, "यह टेस्ट खुद इस्तेमाल के लिए है. अगर आप इसमें संक्रमित पाए जाते हैं तो आईसीएमआर के आरटी-पीसीआर टेस्ट की कोई जरूरत नहीं है. कोई भी वयस्क मैन्युअल के आधार पर इसका इस्तेमाल कर सकता है." जैन का ये बयान आईसीएमआर की उस घोषणा के एक दिन बाद आया है जब आईसीएमआर ने पुणे की लैब की टेस्ट किट को मंजूरी दी थी.

Youtube Video

ये भी पढ़ें- बंगाल में विधान परिषद की कोशिशों से केंद्र-राज्य के बीच गहरा सकता है विवाद
टेस्ट किट पर दी गई ये चेतावनी

किट पर एक सलाह में, आईसीएमआर ने रैपिड एंटीजन टेस्ट का उपयोग करके अंधाधुंध घरेलू परीक्षण के खिलाफ चेतावनी दी है और कहा कि केवल कोरोना के लक्षण वाले लोग और लैब द्वारा कंफर्म कोविड संक्रमित लोगो के तत्काल संपर्क में आए लोग ही इसके जरिए टेस्ट कर सकते हैं.

आईसीएमआर ने कहा, “सभी सिंप्टोमैटिक लोग जो रैपिड एंटीजेन टेस्ट द्वारा नेगेटिव पाए जाते हैं, उन्हें तुरंत आरटी-पीसीआर द्वारा परीक्षण करवाना चाहिए. यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि आरएटी में कम वायरल लोड वाले कुछ मामलों का परीक्षण करने में चूक हो सकती है.



एडवाइजरी में यह भी कहा गया है कि इस घरेलू परीक्षण में नेगेटिव पाए जाने वाले सिम्प्टोमैटिक लोगों को संदिग्ध कोविड -19 मामलों के रूप में माना जा सकता है. एडवाइजरी में कहा गया है कि घर पर होने वाली जांच को उत्पादनकर्ता की ओर से बताए गए मैन्युअल के हिसाब से ही करना चाहिए.

ये भी पढ़ें- हवा में 10 मीटर तक जा सकता है कोरोना, मास्क-पंखों को लेकर नई गाइडलाइंस जारी

प्ले स्टोर से डाउनलोड करना होगा ऐप

आईसीएमआर ने कहा कि होम टेस्टिंग मोबाइल ऐप गूगल प्ले स्टोर और एपल स्टोर पर उपलब्ध है और इसे सभी यूजर्स को डाउनलोड करना चाहिए. इसके जरिए टेस्टिंग के तरीके के बारे में पता चलता है और ये मरीज को पॉजिटिव और नेगेटिव रिजल्ट देती है.


सभी यूजर्स को यह सलाह दी जाती है कि वह टेस्ट की प्रक्रिया पूरी करने के बाद उसी फोन से टेस्ट स्ट्रिप की तस्वीर खींचें जिस पर ऐप डाउनलोड की है और यूजर रजिस्ट्रेशन किया है.

आपके मोबाइल फोन की ऐप का डाटा सिर्फ आईसीएमआर कोविड-19 टेस्टिंग पोर्टल से जुड़े सुरक्षित सर्वर द्वारा ही देखा जा सकता है जिसमें कि मरीज की निजता पूरी तरह से बरकरार रहेगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज