• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • MYSTERY IN INDIA VACCINATION NUMBERS SERUM INSTITUTE OF INDIA BHARAT BIOTECH CORONA VACCINE PRODUCTION MINIMUM 8 CRORE PER MONTH

सीरम-भारत बायोटेक में हर महीने 8.5 करोड़ कोरोना वैक्‍सीन का उत्‍पादन, लेकिन लग रहीं 5 करोड़ डोज़- रिपोर्ट

मंगलवार को कोविशील्ड की दो लाख 52 हजार और को-वैक्सीन की एक लाख डोज विमाण से पुणे से पटना पहुंची (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Corona Vaccination: भारत हर दिन करीब 27 लाख वैक्‍सीन डोज बना रहा है. लेकिन मई के शुरुआती तीन हफ्तों में रोजाना औसतन 16.2 लाख डोज ही लगीं. इसके बावजूद राज्‍य वैक्‍सीन की कमी की बात कर रहे हैं.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) को हराने के लिए बड़े स्‍तर पर टीकाकरण (Corona Vaccination) का अभियान चल रहा है. लेकिन देश के इस टीकाकरण अभियान के आधिकारिक आंकडों में कुछ संशय की स्थिति दिखती नजर आ रही है. ऐसा सरकारी और वैक्‍सीन बनाने वाली कंपनियों के स्‍तर पर देखने को मिल रहा है. इसके अनुसार भारत हर दिन करीब 27 लाख वैक्‍सीन डोज बना रहा है. इसमें स्‍पूतनिक शामिल नहीं है. लेकिन मई के शुरुआती तीन हफ्तों में रोजाना औसतन 16.2 लाख डोज ही लगीं. इसके बावजूद राज्‍य वैक्‍सीन की कमी की बात कर रहे हैं.

    टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार ने मई की शुरुआत में जानकारी दी थी कि सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute Of India) अपनी वैक्‍सीन कोविशील्‍ड के हर महीने 6.5 करोड़ डोज बना रहा है. वहीं भारत बायोटेक (Bharat Biotech) कोवैक्‍सिन के हर महीने 2 करोड़ डोज बना रहा है. इसे जुलाई के अंत तक 5.5 करोड़ डोज करना है. यह भी जानकारी दी गई थी कि स्‍पूतनिक भी जुलाई तक 30 लाख डोज प्रति महीने से बढ़कर 1.2 करोड़ प्रति महीने हो जाएगी.



    सीरम इंस्‍टीट्यूट खुद भी कई बार कह चुका है कि उसका वैक्‍सीन उत्‍पादन 6 से 7 करोड़ डोज प्रति महीने का है. भारत बायोटेक की सीएमडी भी पहले यह दावा कर चुकी हैं कि कंपनी अप्रैल में 2 करोड़ डोज बना रही है और मई में यह 3 करोड़ डोज बनाएगी.

    अब अगर गणितीय मॉडल पर नजर डालें तो पत चलता है कि सीरम और भारत बायोटेक ने संयुक्‍त रूप से मई में वैक्‍सीन की 8.5 करोड़ डोज बनाईं. 31 दिनों के इस महीने में प्रतिदिन का औसत 27.4 लाख डोज आता है. इससे यह भी पता चलता है कि भारत बायोटेक अब भी 3 करोड़ डोज की बजाये 2 करोड़ डोज ही बना रही है.

    अब अगर कोविन पोर्टल पर मौजूद आंकड़ों पर गौर करें तो पता चलता है कि 1 मई से 22 मई तक भारत में वैक्‍सीन की करीब 3.6 करोड़ डोज लगाई गईं. इसका प्रतिदिन औसत 16.2 लाख डोज है. इसी औसत से देखें तो मई के आखिर तक 5 करोड़ डोज ही हो पाएंगी. अब अगर मई के आखिर तक 5 करोड़ डोज लगेंगी तो सवाल उठता है कि जब 8.5 करोड़ डोज प्रति महीने उत्‍पादन है तो 5 करोड़ डोज ही क्‍यों लग रही हैं.

    ऐसे में एक संभावित जवाब है कि प्राइवेट सेक्‍टर का कोटा. यह कुल उत्‍पादन का एक चौथाई है. यह इस्‍तेमाल ही नहीं हो पा रहा है. ऐसा कई कारणों से है. लोगों को वैक्‍सीन लगवाने के लिए स्‍लॉट खाली नहीं मिल रहे हैं. कई राज्‍यों में वैक्‍सीन की कमी चल रही है. ऐसे में कुछ सवाल अंतिम तक उठते हैं कि जो वैक्‍सीन बन रही हैं उनका क्‍या हो रहा है?