Home /News /nation /

Nagaland Firing: जांच टीम दर्ज कर सकेगी जवानों के बयान, सेना ने दी इजाजत- सूत्र

Nagaland Firing: जांच टीम दर्ज कर सकेगी जवानों के बयान, सेना ने दी इजाजत- सूत्र

नगालैंड में सुरक्षा बलों की गोलीबारी में 14 आम नागरिकों की मौत हो गई थी.

नगालैंड में सुरक्षा बलों की गोलीबारी में 14 आम नागरिकों की मौत हो गई थी.

Nagaland Firing: पुलिस के शीर्ष सूत्रों ने बताया कि नगालैंड एसआईटी (Nagaland SIT) इस सप्ताह पैरा स्पेशल फोर्स के 21 जवानों के बयान दर्ज करने का काम पूरा कर सकती है. हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि एसआईटी जवानों से सीधे पूछताछ करेगी या वे केवल तैयार बयान ही जमा करेगी. पुलिस सूत्रों ने कहा कि जांच में तेजी लाने के लिए नगालैंड एसआईटी को आठ सदस्यों से बढ़ाकर 22 अधिकारियों तक कर दिया गया है, बड़ी टीम में भारतीय पुलिस सेवा के पांच अधिकारी शामिल हैं.

अधिक पढ़ें ...

    कोहिमा. नगालैंड में 4 दिसंबर के हमले (Nagaland Firing) की जांच के लिए पहुंचे विशेष जांच दल को सेना ने उन सैनिकों का बयान रिकॉर्ड करने की मंजूरी दे दी है जो इस ऑपरेशन में शामिल थे. 4 और 5 दिसंबर को हुई गोलीबारी की घटनाओं में 14 आम नागरिक मारे गए थे. इस घटना के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने गुस्‍से में जवानों को घेर लिया था और उनके हमले में एक सैनिक को जांन गंवानी पड़ी थी. इस घटना का कारण गलत पहचान बताया गया था. पुलिस के शीर्ष सूत्रों ने बताया कि नगालैंड एसआईटी (Nagaland SIT) इस सप्ताह पैरा स्पेशल फोर्स के 21 जवानों के बयान दर्ज करने का काम पूरा कर सकती है. हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि एसआईटी जवानों से सीधे पूछताछ करेगी या वे केवल तैयार बयान ही जमा करेगी.

    पुलिस सूत्रों ने कहा कि जांच में तेजी लाने के लिए नगालैंड एसआईटी को आठ सदस्यों से बढ़ाकर 22 अधिकारियों तक कर दिया गया है, बड़ी टीम में भारतीय पुलिस सेवा के पांच अधिकारी शामिल हैं. एसआईटी को आगे सात टीमों में बांटा गया है. फिलहाल यह भी स्पष्ट नहीं है कि राज्य स्तरीय टीम जांच को कैसे आगे बढ़ाएगी क्योंकि नगालैंड में सशस्त्र बल (विशेष) अधिकार अधिनियम, या अफस्पा लागू है, जो केंद्र की मंजूरी के बिना सुरक्षा बलों को उत्पीड़न से बचाता है. सेना की कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी में शामिल सेना की एक अलग टीम पहले से ही नगालैंड में है.

    ये भी पढ़ें- Facebook से लेकर Android तक, ये हैं 2021 के 5 बड़े साइबर सिक्योरिटी ब्रीच, करोड़ों यूज़र के डेटा हुए लीक

    क्या था पूरा मामला?
    गौरतलब है कि इस घटना के बाद ओटिंग ग्रामीणों ने एक बयान में कहा था कि चार दिसंबर को दोपहर करीब साढ़े तीन बजे एक पिक-अप ट्रक से आठ कोयला खनिक वापस आ रहे थे. उसमें कहा गया है कि करीब साढ़े चार बजे सुरक्षा बलों ने किसी भी यात्री के बारे में कुछ जाने बिना उस पिक-अप ट्रक पर घात लगाकर हमला कर दिया.

    ‘ओटिंग सिटिजन्स ऑफिस’ ने दावा किया कि रात करीब आठ बजे ग्रामीण खोज के लिए निकले तो उन्हें पिक-अप ट्रक खाली मिला और इसके सामने वाले शीशे (विंडशील्ड) पर गोली लगने का निशाना था जो सीधा चालक की ओर जाता था और लड़के गाड़ी से लापता थे.

    बयान में आरोप लगाया गया है कि शीशे पर गोली का निशान साफ इशारा करता है कि उन्होंने सबसे पहले गाड़ी को रुकवाने के लिए चालक को गोली मारी है और बाद में अन्य पर हमला किया.

    ये भी पढ़ें- PM की रैली में साजिश पर बड़ा एक्शन, पुलिस ने दर्ज की FIR, 5 सपा नेता गिरफ्तार

    ग्रामीणों ने दावा किया कि उन्होंने बाइकों पर सुरक्षा बलों की तीन गाडियों का पीछा किया और उन्हें रोका. सुरक्षा कर्मियों ने लापता लड़कों की जानकारी होने से इनकार किया. हालांकि खोज में छह लापता खनिक तिरपाल में मिले और वे अर्धनगन थे और मृत पड़े थे.

    ‘ओटिंग सिटिजन्स ऑफिस’ ने आरोप लगाया कि सुरक्षा बलों ने इन लड़कों को उग्रवादी के तौर पर पेश करने की कोशिश की और इसके लिए उन्होंने वहां हथियार रखे और वर्दी और जूते पहनाए.

    ग्रामीणों और सुरक्षा बलों के बीच तीखी बहस के बाद हाथापाई होने लगी. ग्रामीणों का आरोप है कि सैन्य कर्मियों ने अंधाधुंध गोलीबारी कर दी जिसमें कई लोग मर गए और कुछ अन्य जख्मी हो गए.

    Tags: AFSPA, Nagaland

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर