Home /News /nation /

Nagaland Violence: कांग्रेस नगालैंड भेजेगी 4 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल, एक सप्ताह में देनी होगी रिपोर्ट

Nagaland Violence: कांग्रेस नगालैंड भेजेगी 4 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल, एक सप्ताह में देनी होगी रिपोर्ट

नागालैंड फायरिंग हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच दल का गठन कर दिया गया है.(फाइल फोटो)

नागालैंड फायरिंग हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच दल का गठन कर दिया गया है.(फाइल फोटो)

Neiphiu Rio, Nagaland Firing Incident, Nagaland Violence: गृह मंत्री ने कहा कि मामले की जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन कर दिया गया है और यह दल एक महीने के अंदर जांच पूरी करके अपनी रिपोर्ट सौंपेगा. गोलीबारी की घटना के बाद अब भारतीय सेना भी एक्शन में आ गई है. सेना ने कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी भी गठित कर दी है. इसकी जांच मेजर जनरल रैंक के अधिकारी करेंगे.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: नगालैंड के मोन जिले में गोलीबारी की हिंसक घटना (Nagaland Violence) पर कांग्रेस ने एक बड़ा फैसला लिया है. पार्टी अपना 4 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल (Delegation) नगालैंड भेजेगी. इसको लेकर पार्टी ने एक प्रेस विज्ञप्ति भी जारी की है. यह प्रतिनिधि मंडल मोन जिले में हुई घटना और हालिया घटनाओं पर पार्टी को रिपोर्ट सौंपेगी. हिंसक घटना के बाद मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो (Nagaland CM Neiphiu Rio) ने केंद्र सरकार से राज्य से सशस्त्र बल विशेषाधिकार अधिनियम (AFSPA) को हटाने की मांग की है.

    प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने नगालैंड में हाल में ही हिंसक घटनाओं को लेकर एक प्रतिनिधि मंडल का गठन किया है. यह 4 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल होगा. कांग्रेस के इस प्रतिनिधि मंडल में ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के जितेंद्र सिंह, डॉ. अजय कुमार, एआईसीसी इंचार्ज नगालैंड, सांसद गौरव गोगोई और सांसद एंटो एंटोनियो रहेंगे. यह प्रतिनिधिमंडल घटनाओं पर एक सप्ताह के अंदर पार्टी को अपनी रिपोर्ट सौंपेगा.

    यह भी पढ़ें- Nagaland Firing Incident: नगालैंड फायरिंग पर संसद में गृह मंत्री अमित शाह बोले- गलत पहचान की वजह से चली गोली

    गौरतलब है कि 4 दिसंबर को नगालैंड के मोन जिले में हुई गोली बारी की घटना में 14 नागरिकों की मौत हो गई थी. इस घटना के बाद से केंद्र राज्य पर अपनी नजर बनाए हुए हैं. घटना को लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने आज लोकसभा में अपना बयान दिया. उन्होंने कहा कि यह हिंसक घटना संदिग्धों की आशंका के चलते हुई. उन्होंने मृतकों के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना भी प्रकट की.

    14 नागरिकों की गोलीबारी में हुई मौत
    मोन जिले में सुरक्षाबलों की गोलियों से 14 लोगों की मौत हुई जबकि वहीं 11 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे. घटना पर पुलिस ने कहा कि गलत पहचान की वजह से यह हुआ. पुलिस को इलाके में उग्रवादियों की गतिविधि की सूचना मिली थी और जब सुरक्षाबल अभियान चला रहे थे तब कुछ खदानकर्मी पिकअप वैन से अपने घर लौट रहे थे. सेना को लगा कि यह प्रतिबंधित संगठन नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नगालैंड के उग्रवादी हैं. इसी गलतफहमी में सैनिकों ने गोलीबारी की.

    गृह मंत्री ने कहा कि मामले की जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन कर दिया गया है और यह दल एक महीने के अंदर जांच पूरी करके अपनी रिपोर्ट सौंपेगा. गोलीबारी की घटना के बाद अब भारतीय सेना भी एक्शन में आ गई है. सेना ने कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी भी गठित कर दी है. इसकी जांच मेजर जनरल रैंक के अधिकारी करेंगे.

    Tags: Amit shah, Nagaland, Violence

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर