नायडू ने विपक्ष के आरोपों को खारिज किया, कहा- उप सभापति ने हंगामा कर रहे सदस्यों से 13 बार अपील की

राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने विपक्ष के सभी आरोपों को खारिज किया.
राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने विपक्ष के सभी आरोपों को खारिज किया.

सभापति नायडू (Chairman Naidu) ने कहा कि, रविवार को कृषि संबंधी विधेयकों (Agricultural bills) पर विपक्ष के हंगामे के दौरान उप सभापति हरिवंश (Deputy Chairman Harivansh) ने 13 बार सदस्यों से अपनी सीट पर जाने और चर्चा में भाग लेने की अपील की थी.

  • भाषा
  • Last Updated: September 22, 2020, 4:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने मंगलवार को विपक्ष के इन आरोपों को खारिज कर दिया कि, कृषि संबंधी दो विधेयकों को पारित किए जाने के दौरान मत विभाजन की सदस्यों की मांग पर गौर नहीं किया गया. सभापति नायडू ने कहा कि, रविवार को कृषि संबंधी विधेयकों पर विपक्ष के हंगामे के दौरान उप सभापति हरिवंश ने 13 बार सदस्यों से अपनी सीट पर जाने और चर्चा में भाग लेने की अपील की थी.

उन्होंने कहा कि, कार्यवाही के रिकार्ड से स्पष्ट है कि उप सभापति ने हंगामा कर रहे सदस्यों से बार बार कहा कि, वे अपने स्थान पर जाएं. और उसके बाद वह मत विभाजन की अनुमति देंगे. नायडू ने कहा कि वह हंगामा करने वाले सदस्यों के निलंबन से खुश नहीं हैं, लेकिन सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई उनके आचरण को लेकर हुई है. उन्होंने कहा कि यह पहला मौका नहीं है. जब सदन में सदस्य निलंबित किए गए हैं. विगत में ऐसे कई उदाहरण हैं.

उन्होंने हंगामे में कृषि विधेयकों के पारित होने को लेकर विपक्ष की आपत्ति पर कहा कि, यह पहला मौका नहीं था. जब विधेयक हंगामे में पारित किए गए. इससे पहले सदन में 15 विधेयक हंगामे में पारित किए गए थे. नायडू ने उप सभापति हरिवंश के खिलाफ विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव का जिक्र करते हुए एक बार फिर कहा कि, यह उचित प्रारूप में नहीं था. इसके लिए 14 दिनों का जरूरी नोटिस भी नहीं दिया गया था.



आपको बता दें कि सोमवार को राज्यसभा में कृषि विधेयकों को पास कराने के दौरान हंगामा हुआ था. जिसके बाद उप सभापति हरिवंश ने तृणमूल कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, कांग्रेस और सीपीआई के 8 सांसदों को निलंबित कर दिया था. निलंबन के विरोध में 8 विपक्षी सांसद ने पूरी रात संसद परिसर में धरना दिया. इन सभी सांसदों ने आज सुबह करीब 11 बजे अपना धरना खत्म कर दिया. धरना दे रहे सांसदों के लिए राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश आज सुबह की चाय लेकर पहुंचे, लेकिन सांसदों ने उनकी चाय पीने से मना कर दिया.
हंगामा, धरने के जवाब में हरिवंश 24 घंटे का उपवास रखेंगे
राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश ने सभापति वेंकैया नायडू और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को चिट्ठी लिखी है. उन्होंने सदन में विपक्ष के रवैए से हुए अपमान पर दुख जताया है. इसके विरोध में उन्होंने 24 घंटे का उपवास रखने का ऐलान किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज