मन की बात में बोले PM मोदी- किसानों के नाम पर अपनी रोटियां सेंकने वाले दलों को उनकी स्‍वतंत्रता हजम नहीं हो रही

पीएम मोदी ने साधा विपक्ष पर निशाना.
पीएम मोदी ने साधा विपक्ष पर निशाना.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने रविवार को अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात (Mann Ki baat) के जरिये देशवासियों को संबोधित किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2020, 12:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने रविवार को अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात (Mann Ki baat) के जरिये देशवासियों को संबोधित किया. उन्‍होंने इस दौरान सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिल (Farm bills) पर किसानों और विपक्षी दलों के विरोध पर भी बात की. पीएम मोदी ने इस दौरान विपक्षी दलों पर निशाना साधा. उन्‍होंने कहा, 'वर्षों तक किसानों के नाम पर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने वाली और बिचौलियों को राजनीतिक संरक्षण देने वाली पार्टियों को किसानों को मिली स्वतंत्रता हजम नहीं हो रही है. कृषि सुधार विधेयकों के पारित होने से देश का किसान खुश है और आत्‍मनिर्भर कृषि की दिशा में आगे बढ़ रहा है.'

पीएम मोदी ने कहा, 'हमारे यहां कहा जाता है, जो जमीन से जितना जुड़ा होता है, वो बड़े से बड़े तूफानों में भी अडिग रहता है. कोरोना के इस कठिन समय में हमारा कृषि क्षेत्र, हमारा किसान इसका जीवंत उदाहरण है.' उन्‍होंने कहा, 'देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, हमारे गांव, आत्मनिर्भर भारत का आधार हैं. ये मजबूत होंगे तो आत्मनिर्भर भारत की नींव मजबूत होगी. बीते कुछ समय में इन क्षेत्रों ने खुद को अनेक बंदिशों से आजाद किया है, अनेक मिथकों को तोड़ने का प्रयास किया है.'






यह भी पढ़ें: Mann Ki Baat Highlight: मन की बात में पीएम मोदी बोले- हमारे किसान आत्मनिर्भर भारत का आधार हैं

मन की बात में पीएम मोदी ने कहा, 'हरियाणा के एक किसान भाई में मुझे बताया कि कैसे एक समय था जब उन्हें मंडी से बाहर अपने फल और सब्जियां बेचने में दिक्कत आती थी. लेकिन 2014 में फल और सब्जियों को एपीएमसी एक्‍ट से बाहर कर दिया गया, इसका उन्हें और आसपास के साथी किसानों को बहुत फायदा हुआ.'

पीएम मोदी ने कहा, 'आज, गांव के किसान स्‍वीट कॉर्न और बेबी कॉर्न की खेती से, ढाई से तीन लाख प्रति एकड़ सालाना कमाई कर रहे हैं. इन किसानों के अपने फल-सब्जियों को कहीं पर भी, किसी को भी बेचने की ताकत है और ये ताकत ही उनकी इस प्रगति का आधार है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज