भारत में भी येल और ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी का कैंपस चाहते हैं PM मोदी, लाएंगे कानून

विदेशी यूनिवर्सिटी भारत में चाहते हैं पीएम मोदी.
विदेशी यूनिवर्सिटी भारत में चाहते हैं पीएम मोदी.

एक ऐसा कानून भी तैयार किया जा रहा है जो जो विदेशी विश्वविद्यालयों के संचालन को विनियमित करेगा. संसद से पारित कराने के लिए इसे तैयार किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2020, 2:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारत की यूनिवर्सिटी (Indian Universities) से पढ़कर निकले बुद्धिजीवी दुनिया की कुछ सबसे बड़ी कंपनियों के शीर्ष पद पर नियुक्‍त हुए. कुछ अभी बड़ी कंपनियों में शीर्ष पद पर काम कर रहे हैं. इनका उदाहरण है माइक्रोसॉफ्ट कॉर्प से लेकर गूगल तक की कंपनियां. अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सोचते हैं कि वे येल, ऑक्सफोर्ड और स्टैनफोर्ड जैसी विश्‍वस्‍तरीय यूनिवर्सिटी का कैंपस भारत में भी होना चाहिए. ताकि भारतीयों को इसका अधिक लाभ मिल सके.

एनडीटीवी के मुताबिक शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने कहा कि पीएम मोदी की सरकार लगभग 750,000 छात्रों को लुभाने के लिए देश के भारी-भरकम शिक्षा क्षेत्र को हर साल 15 अरब डॉलर खर्च करने पर जोर दे रही है. एक ऐसा कानून भी तैयार किया जा रहा है जो जो विदेशी विश्वविद्यालयों के संचालन को विनियमित करेगा. संसद से पारित कराने के लिए इसे तैयार किया जा रहा है. वहां बीजेपी की सरकार का ही बहुमत है.

पोखरियाल ने कहा, 'ऑस्ट्रेलिया की सरकार और कुछ विश्वविद्यालयों ने प्रस्ताव में रुचि दिखाई है, वहां बहुत उत्साह था. बहुत जल्द, भारत में कुछ बेहतरीन, विश्वस्तरीय संस्थान होंगे.' भारत को अपने शिक्षा क्षेत्र को और अधिक प्रतिस्पर्धी बनाने और कॉलेज पाठ्यक्रम और बाजार की मांगों के बीच बढ़ती दूरी को खत्‍म करने की जरूरत है. वर्तमान में भारत का शिक्षा क्षेत्र 2020 के वैश्विक प्रतिभा प्रतिस्पर्धा सूचकांक में 132 देशों में 72 वें स्थान पर है, जो देश की प्रतिभा को विकसित करने, आकर्षित करने और बनाए रखने की क्षमता को मापता है.

कुछ विश्वविद्यालयों ने पहले ही भारतीय संस्थानों के साथ साझेदारी की है, जिससे छात्रों को भारत में आंशिक रूप से अध्ययन करने और विदेश में मुख्य परिसर में अपनी डिग्री पूरी करने की अनुमति मिलती है. वर्तमान कदम इन विदेशी संस्थानों को स्थानीय भागीदारों के बिना परिसरों की स्थापना के लिए प्रोत्साहित करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज