कृषि मंत्री ने फिर की किसानों से आंदोलन खत्म करने की अपील, कोविड प्रोटोकॉल का दिया हवाला

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि कई किसान संगठन और अर्थशास्त्री इन कृषि बिलों को सपोर्ट कर रहे हैं.  (File pic)

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि कई किसान संगठन और अर्थशास्त्री इन कृषि बिलों को सपोर्ट कर रहे हैं. (File pic)

Farmer Protest: कृषि मंत्री ने कहा, 'मैं किसान संगठनों से आग्रह करूंगा कि वे अपना आंदोलन स्थगित करें, अगर वे बातचीत के लिए आएंगे तो सरकार उनसे बातचीत के लिए तैयार है. मैंने कई बार संघ नेताओं से बच्चों और वृद्धों को कोरोना वायरस के मद्देनजर घर वापस जाने के लिए कहने का आग्रह किया था.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 5:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कई महीनों से दिल्ली बॉर्डर पर कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों (Farmer Protest) से एक बार फिर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने आंदोलन खत्म करने की अपील की है. शनिवार को कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह ने कहा, 'किसानों के मन में असंतोष नहीं है. जो किसान संगठन इन बिलों के विरोध में है उनसे सरकार बातचीत के लिए तैयार है.'

कृषि मंत्री ने कहा, 'मैं किसान संगठनों से आग्रह करूंगा कि वे अपना आंदोलन स्थगित करे अगर वे बातचीत के लिए आएंगे तो सरकार उनसे बातचीत के लिए तैयार है. मैंने कई बार संघ नेताओं से बच्चों और वृद्धों को कोरोना वायरस के मद्देनजर घर वापस जाने के लिए कहने का आग्रह किया था. अब दूसरी लहर शुरू हो गई है, किसानों और उनकी यूनियनों को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए. उन्हें विरोध स्थगित करना चाहिए और हमारे साथ विचार-विमर्श करना चाहिए.'

किसानों ने नहीं स्वीकार किया सरकार का प्रस्ताव!

न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत करते हुए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, हमने समस्याग्रस्त क्षेत्रों पर चर्चा करने और उनमें परिवर्तन करने की पेशकश की है. हालांकि किसान यूनियनों ने उसे स्वीकार नहीं किया और न ही कोई कारण नहीं दिया. जब सरकार बातचीत के लिए तैयार नहीं होती है या जब संघ को अनुकूल प्रतिक्रिया नहीं मिलती है तो आंदोलन जारी रहता है. यहां यूनियनों ने इसे वैसे भी जारी रखने का फैसला किया है.
ये भी पढ़ेंः- PM मोदी का ममता पर वार- दीदी ने चुनाव आयोग को गाली दी, TMC की हार तय दिख रही



किसानों को कोरोना का भय नहीं



दिल्ली में कोविड-19 के मामलों (Delhi Covid-19 Updates) में तेजी से बढ़ोतरी के बावजूद किसान नेताओं ने कहा कि कोरोना वायरस का डर भी उन्हें केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों (Farmer Protest) के खिलाफ प्रदर्शन करने से नहीं रोक सकता. किसानों ने कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर से निपटना भी उनके लिए मुश्किल नहीं होगा. वे प्रदर्शन स्थलों पर बुनियादी सावधानियों के साथ इसके लिए भी तैयार हैं.

देशभर से और खासतौर पर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से आये हजारों किसान पिछले साल नवंबर के आखिर से तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं. भारतीय किसान यूनियन (लाखोवाल) पंजाब के महासचिव परमजीत सिंह के अनुसार अगर किसान उस बीमारी से डरते भी हैं जो देश में पहले ही 1.6 लाख से अधिक लोगों की जान ले चुकी है तो उनके पास विकल्प भी क्या है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज