राहुल गांधी और अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में कांग्रेस मुख्यालय में फहराया गया तिरंगा

राहुल गांधी और अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में कांग्रेस मुख्यालय में फहराया गया तिरंगा
इस अवसर पर राहुल गांधी और एंटनी के अलावा वरिष्ठ नेता मौजूद थे.

Independence Day 2020: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul gandhi) और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में कांग्रेस मुख्यालय (Congress headquarters) में शनिवार को स्वतंत्रता दिवस (Independence day) के मौके पर तिरंगा फहराया गया.

  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul gandhi) और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में कांग्रेस मुख्यालय (Congress headquarters) में शनिवार को स्वतंत्रता दिवस (Independence day) के मौके पर तिरंगा फहराया गया. पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) की अनुपस्थिति में वरिष्ठ नेता एके एंटनी ने झंडा फहराया. कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि हाल ही में अस्पताल से लौटीं सोनिया गांधी चिकित्सकों के परामर्श के अनुसार इस मौके पर उपस्थित नहीं हो सकीं.

ध्वजारोहण करने के बाद पार्टी नेताओं ने राष्ट्रीय गीत, राष्ट्रगान और 'विजयी विश्व तिरंगा प्यारा...' का गान किया. इस अवसर पर राहुल गांधी और एंटनी के अलावा वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल, अधीर रंजन चौधरी, राजीव शुक्ला, आरपीएन सिंह तथा कई अन्य नेता मौजूद थे.

प्रधानमंत्री मोदी पर कसा तंज
ध्वजारोहण के बाद कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला (Randeep Surjewala) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की ओर से लाल किले (Red Fort) की प्राचीर से 'आत्मनिर्भर भारत' पर जोर दिए जाने को लेकर सरकार पर तंज किया. उन्होंने संवाददाताओं से कहा, 'सबसे पहले देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की कोटि-कोटि बधाई. हर भारतवासी को सोचना है कि आज आजादी के मायने क्या हैं? क्या हमारी सरकार प्रजातंत्र में विश्वास रखती है, जनमत और बहुमत में विश्वास रखती है? इस देश में बोलने, सोचने, कपड़ा पहनने और आजीविका कमाने की आजादी है या कहीं न कहीं इन पर अंकुश लग गया है?'
नेहरू और पटेल ने रखी आत्मनिर्भर भारत की नींव


सुरजेवाला ने कहा, 'आत्मनिर्भर भारत की बुनियाद पंडित जवाहरलाल नेहरू, सरदार पटेल और दूसरे स्वतंत्रता सेनानियों ने रखी थी. अब जब हम आत्मनिर्भर भारत की बात करते हैं तो यह सवाल पूछना पड़ेगा कि जो सरकार सार्वजनिक उपक्रमों को बेच दे और रेलवे एवं हवाई अड्डों का निजीकरण कर रही हो, वो इस देश की आजादी को सुरक्षित रख पाएगी?'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading