IL&FS पर राहुल गांधी के हमलों से भड़के जेटली, कांग्रेस को बताया 'राष्ट्रीय विध्वंसक'

News18Hindi
Updated: October 1, 2018, 11:25 PM IST
IL&FS पर राहुल गांधी के हमलों से भड़के जेटली, कांग्रेस को बताया 'राष्ट्रीय विध्वंसक'
वित्त मंत्री अरुण जेटली

जेटली ने फेसबुक पोस्ट में लिखा, 'कांग्रेस पिछले कुछ दिनों से प्राइवेट सेक्टर की कंपनी IL&FS को लेकर सरकार के संभावित कदमों के बारे में गलत सूचनाएं फैलाने में मशगूल है. ये पार्टी अब राष्ट्रीय विध्वंसक बन गई है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2018, 11:25 PM IST
  • Share this:
आर्थिक संकट से जूझ रही प्राइवेट कंपनी इंफ्रास्ट्रक्चर लीज़िंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (IL&FS) को रिवाइव करने की केंद्र की कोशिशों पर विपक्ष ने सवाल खड़े किए हैं, जिसके बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस पार्टी और इसके अध्यक्ष राहुल गांधी पर पलटवार किया है. जेटली ने कांग्रेस को 'राष्ट्रीय विध्वंसक' बताते हुए राहुल गांधी को अपनी पार्टी के नेताओं से सीखने की नसीहत भी दी है.

ये हैं भारत के 6 सबसे बड़े घोटाले

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को फेसबुक के जरिये कांग्रेस पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा, 'कांग्रेस पिछले कुछ दिनों से प्राइवेट सेक्टर की कंपनी IL&FS को लेकर सरकार के संभावित कदमों के बारे में गलत सूचनाएं फैलाने में मशगूल है. ये पार्टी अब राष्ट्रीय विध्वंसक बन गई है.'

'Lessons for Rahul Gandhi from his Partyman'शीर्षक से लिए पोस्ट में जेटली ने लिखा, 'कांग्रेस पार्टी एक कंपनी को अपने हाल पर छोड़कर उसकी समस्या बढ़ाना चाहती है. इस तरह इसे पूरी तरह अनियंत्रित करके कांग्रेस भारत की अर्थव्यवस्था को तहस-नहस करना चाहती है. कांग्रेस पार्टी में स्टेटमैनशिप और विजन का अभाव है.'




केवी थॉमस की चिट्ठी का दिया हवाला
वित्त मंत्री ने अपने पोस्ट में कांग्रेस नेता केवी थॉमस की एक चिट्ठी का भी हवाला दिया और इसके आधार पर राहुल गांधी को निशाने पर लिया. कांग्रेस नेता थॉमस ने IL&FS को संकट से निकालने के लिए कुछ उपाय सुझाए थे. यही नहीं, उन्होंने इस कंपनी की उपलब्धियां गिनाते हुए यह भी कहा कि केंद्र सरकार को इस कंपनी को बचाने के लिए हरसंभव कोशिश करनी चाहिए. उन्होंने सरकार को सुझाव दिया था कि IL&FS को संकट से निकालने के लिए एलआईसी, एसबीआई, एचडीएफसी जैसी कंपनियों का सहारा लिया जा सकता है.
Loading...

IL&FS को बचाने के लिए SBI और LIC पर दबाव डाल रहा है केंद्र: कांग्रेस

जेटली ने थॉमस की चिट्ठी का हवाला देते हुए राहुल गांधी के बारे में कहा कि उन्हें अपनी पार्टी के नेता से सीख लेनी चाहिए. जेटली ने पूछा, 'किसी भी कंपनी में वित्तीय संस्थानों का निवेश करना क्या घोटाला है? राहुल गांधी और उनकी मंडली तो यही फैला रहे हैं?'

राफेल की कीमत वाकई कम है तो सरकार क्यों खरीद रही है बस 36 विमान: चिदंबरम

वित्त मंत्री ने आगे लिखा, '1987 में जब सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने 50.5% और यूटीआई ने 30.5% हिस्सेदारी लेकर IL&FS को प्रमोट किया था, तो क्या वो घोटाला था? एलआईसी ने तो 2010 में भी IL&FS का 19.34 फीसदी शेयर लिया था. ऐसे में अब क्या हम 'राहुल गांधी की विकृत सोच' के मुताबिक इन सभी निवेशों को घोटाला कहना शुरू कर दें?'

क्या है IL&FS?
बता दें कि IL&FSएक नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनी है जो बैंकों से लोन लेती है. इस कंपनी में दूसरी कंपनियां निवेश करती हैं और आम जनता इसके शेयर खरीदती है. इस कंपनी को कई रेटिंग एजेंसियों ने अति सुरक्षित रैंक दी हुई है. हाल ही में इस कंपनी ने 250 करोड़ रुपये के इंटरेस्ट पेमेंट का डिफॉल्ट कर दिया. यानी कंपनी अपनी कर्ज की किश्त नहीं चुका पाई.

क्या है इसका संकट?
IL&FS कैश की परेशानी से जूझ रही है. पिछले कुछ महीनों से कंपनी ने तय समय पर अपनी किश्तों का पेमेंट नहीं किया है. सिर्फ IL&FS पर 16,500 करोड़ रुपए का कर्ज है. उसकी सभी कंपनियों को मिलाकर कुल 91 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है. बैंक और इंश्योरेंस कंपनियों का इसमें बड़ा हिस्सा है. सरकार का कार्पोरेट अफेयर्स मंत्रालय ने IL&FS के खिलाफ NCLT में अर्जी दी थी. इस मामले की अगली सुनवाई 31 अक्टूबर को होगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 1, 2018, 9:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...