लाइव टीवी

पूर्व PM मनमोहन सिंह बोले- राष्ट्रवाद और भारत माता की जय के नारे का हो रहा गलत इस्तेमाल

भाषा
Updated: February 22, 2020, 11:17 PM IST
पूर्व PM मनमोहन सिंह बोले- राष्ट्रवाद और भारत माता की जय के नारे का हो रहा गलत इस्तेमाल
मनमोहन सिंह ने नेहरू को लेकर कही ये बात

मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने कहा कि नेहरू ने अशांत और विषम स्थितियों में भारत का नेतृत्व किया जब देश ने जीवन के लोकतांत्रिक तरीके को अपनाया था.

  • भाषा
  • Last Updated: February 22, 2020, 11:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. बीजेपी पर परोक्ष रूप प्रहार करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शनिवार को कहा कि भारत के ‘उग्रवादी एवं विशुद्ध भावनात्मक’ विचार के निर्माण के लिए राष्ट्रवाद और ‘भारत माता की जय’ नारे का दुरूपयोग किया जा रहा है.

मनमोहन सिंह ने नेहरू को लेकर कही ये बात
सिंह ने जवाहरलाल नेहरू के कृतित्व एवं भाषण पर आधारित एक पुस्तक के लोकार्पण के मौके पर अपने संबोधन में कहा कि अगर भारत की राष्ट्रों के समूह में उज्ज्वल लोकतंत्र के रूप में पहचान है, अगर उसे महत्वपूर्ण वैश्विक शक्तियों में एक समझा जाता है तो ये तो प्रथम प्रधानमंत्री ही थे जिन्हें इसके मुख्य शिल्पी होने का श्रेय दिया जाना चाहिए.

नेहरू ने कठिन समय में भारत का नेतृत्‍व किया: मनमोहन सिंह



सिंह ने कहा कि नेहरू ने अशांत और विषम स्थितियों में भारत का नेतृत्व किया जब देश ने जीवन के लोकतांत्रिक तरीके को अपनाया था. जिसमें विभिन्न सामाजिक एवं राजनीतिक विचारों का समायोजन किया था. उन्होंने कहा कि भारत की धरोहर पर गर्व महसूस करने वाले देश के प्रथम प्रधानमंत्री ने उसे आत्मसात किया एवं नये आधुनिक भारत की जरूरतों के साथ उसका तारतम्य बैठाया.



मनमोहन सिंह ने कहा- एक ऐसा वर्ग है जो नेहरू की गलत छवि पेश कर रहा
पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, 'एक अनोखी शैली वाले और बहुभाषी नेहरू ने आधुनिक भारत के विश्वविद्यालयों, कादमियों, सांस्कृतिक संस्थानों की नींव डाली. लेकिन नेहरू के नेतृत्व के लिहाज से आधुनिक भारत वैसा नहीं बना पाया जैसा कि आज है.' उन्होंने कहा, 'दुर्भाग्य से, एक ऐसा वर्ग है जिसमें या तो इतिहास पढ़ने का धैर्य नहीं है या जो जानबूझकर अपने पूर्वाग्रहों से संचालित व दिशानिर्देशित होना चाहता है, वह नेहरू की गलत छवि पेश करने की यथासंभव कोशिश करता है. लेकिन मुझे यकीन है कि इतिहास में फर्जी और झूठे आक्षेपों को खारिज करने तथा सभी चीजों को उपयुक्त परिप्रेक्ष्य में रखने की क्षमता है.'

पुरुषोत्तम अग्रवाल और राधा कृष्ण द्वारा लिखित 'हू इज भारत माता' नामक इस पुस्तक में नेहरू की क्लासिक पुस्तकें: ऑटोबायोग्राफी, ग्लिम्पसेज ऑफ वर्ल्ड हिस्ट्री और डिस्कवरी ऑफ इंडिया, आजादी से पहले और बाद के उनके भाषण , लेख, पत्र तथा कुछ सनसनीखेज कुछ साक्षात्कार हैं.

भारत माता की जय के नारे का दुरूपयोग किया जा रहा: मनमोह‍न सिंह
सिंह ने कहा, 'ऐसे समय में इस पुस्तक की खास प्रासंगिकता है जब राष्ट्रवाद और भारत माता की जय के नारे का भारत के उग्रवादी एवं विशुद्ध भावनात्मक विचार के निर्माण के लिए दुरूपयोग किया जा रहा है, एक ऐसा विचार जिसमें लाखों बाशिंदे और नागरिक शामिल नहीं हैं.'

ये भी पढ़े: मोदी सरकार 'मंदी' शब्द को स्वीकार नहीं करती है: मनमोहन

ये भी पढ़े: मोदी सरकार को घेरने की कोशिश करते राहुल गांधी ने लगा दिया मनमोहन सरकार पर आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 22, 2020, 11:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading