• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • सवा घंटे तक चली राहुल-सिद्धू की मुलाकात, क्या पंजाब कांग्रेस की समस्या का निकलेगा हल?

सवा घंटे तक चली राहुल-सिद्धू की मुलाकात, क्या पंजाब कांग्रेस की समस्या का निकलेगा हल?

नवजोत सिंह सिद्धू. (फाइल फोटो)

नवजोत सिंह सिद्धू. (फाइल फोटो)

माना जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में चल रही समस्या को लेकर बातचीत हुई है. इससे पहले सिद्धू कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी से मिले थे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में विवाद के बीच बुधवार को दिल्ली में नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Siddhu) और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की मुलाकात सवा घंटे तक चली. माना जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच पंजाब कांग्रेस में चल रही समस्या को लेकर बातचीत हुई है. इससे पहले सिद्धू कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी से मिले थे.

    वहीं नवजोत सिंह सिद्धू से मुलाकात के बाद प्रियंका गांधी ने राहुल गांधी के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात की. प्रियंका गांधी वाड्रा इसके बाद कांग्रेस की अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करने उनके घर पहुंचीं. ऐसे में यह माना जा रहा है कि पंजाब कांग्रेस में जारी संकट को सुलझाने का रास्‍ता जल्‍द नजर आ सकता है.

    मंगलवार को पहुंचे थे सिद्धू लेकिन नहीं हुई मुलाकात
    इससे पहले कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू मंगलवार को पार्टी के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात करने के लिए दिल्‍ली पहुंचे थे. लेकिन मंगलवार को उनकी मुलाकात उनसे नहीं हो पाई थी. खुद राहुल गांधी ने मीडिया को जानकारी दी कि उनकी सिद्धू के साथ कोई बैठक प्रस्‍ताव‍ित नहीं है.

    कैप्टन के खिलाफ जारी है सिद्धू का सख्त तेवर
    बता दें कैप्टन अमरिंदर के खिलाफ सिद्धू के तेवर कमजोर नहीं पड़ रहे हैं. कुछ दिनों पहले एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि वो केवल चुनाव जिताने वाले शो पीस नहीं हैं. सिद्धू ने साफ किया था कि उन्होंने पहली कैबिनेट मीटिंग से ही सिस्टम के खिलाफ लड़ाई शुरू कर दी थी. सिद्धू ने कहा-डिप्टी सीएम या राज्य कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने की बात छोड़िए, अगर पंजाब को विकास के एजेंडे पर आगे बढ़ाया जाता तो मैं जिला परिषद का सदस्य बनने को भी तैयार था. मैं मुख्यमंत्री के पीछे-पीछे चलने के लिए भी तैयार था. मैं कोई शो पीस नहीं हूं जिसका इस्तेमाल चुनाव जीतने के लिए कर लिया जाए और फिर दोबारा आलमारी में रख दें. राज्य के हितों पर व्यक्तिगत हितों को बढ़ावा दिया जा रहा है और ये मेरे लिए बर्दाश्त के काबिल नहीं है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज