Home /News /nation /

navjot singh sidhu sentenced to one year in road rage case supreme court has given verdict

रोड रेज केस में नवजोत सिंह सिद्धू को एक साल की सज़ा, सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला

नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो)

नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो)

Navjot Singh Sidhu Case: पीड़ित के परिवार ने इस केस में सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर पुराने आदेश पर दोबारा विचार करने की मांग की थी. परिवार ने कहा था कि ये महज मारपीट या धक्‍का-मुक्‍की का मामला नहीं था.

नई दिल्ली. 1988 के रोड रेज मामले में पंजाब के कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को सुप्रीम कोर्ट ने एक साल की सज़ा सुनाई है. बता दें कि इस केस में सिद्धू को पहले हत्या के आरोपों से बरी कर दिया गया था, लेकिन मृतक को स्वेच्छा से चोट पहुंचाने का दोषी ठहराया गया था. पीड़ित के परिवार ने इस केस में सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर पुराने आदेश पर दोबारा विचार करने की मांग की थी. उस वक्त सिंद्धू को सिर्फ एक हजार जुर्माना देने के बाद बरी कर दिया गया था.

परिवार ने कहा था कि ये महज मारपीट या धक्‍का-मुक्‍की का मामला नहीं था. बल्कि इसे हत्या जैसे गंभीर अपराध समझा जाना चाहिए. आरोप लगा था कि सिद्धू ने झगड़े के दौरान 65 साल के एक बुजुर्ग को मुक्का मार दिया था. गंभीर चोट के चलते इस व्यक्ति की मौत हो गई थी. शुरुआती दौर में उस वक्त सिद्धू पर हत्या का मुकदमा चलाया गया था.  लेकिन निचली अदालत ने सितंबर 1999 में उन्हें इन आरोपों से बरी कर दिया था.

सुप्रीम कोर्ट में सिद्धू की दलील
इस मामले में 22 मार्च को नवजोत सिंह सिद्धू ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि ऐसा कोई ठोस सबूत नहीं है, जिससे पता चलता हो कि एक मुक्का मारने से किसी 65 साल के व्यक्ति की मौत हुई. सिद्धू ने कहा कि परिवार इस पुराने मामले को फिर से खोलने का दुर्भावनापूर्ण प्रयास कर रहा.

कैसे पलटा फैसला?
सितंबर 1999 में उन्हें बरी कर दिया था. इसके बाद में पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने लॉअर कोर्ट के फैसले को पलट दिया था. सिद्धू को गैर इरादतन हत्या का दोषी ठहराया गया . सिद्धू को तीन साल की जेल की सजा सुनाई गई थी. इसके बाद सिद्धू ने इस फैसले को, सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. फैसला सिद्धू के हक में आया. 15 मई, 2018 सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें 1,000 रुपए के जुर्माना देने के बाद छोड़ दिया था.

क्या है पूरा मामला?
ये बाद साल 1988 की है. सिद्धू उन दिनों क्रिकेट के मैदान पर हीरो थे. ये घटना 27 दिसंबर की है. पटियाला में पीड़ित और दो अन्य लोग बैंक से पैसा निकालने जा रहे थे तब सड़क पर जिप्सी देखकर सिद्धू से उसे हटाने को कहा. इसके बाद दोनों में बहस शुरू हो गई. आरोप लगा कि सिद्धू ने पीड़ित के साथ मारपीट की और मौके से फरार हो गए. बाद में पीड़ित की मौत हो गई.

Tags: Navjot singh siddhu

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर