Assembly Banner 2021

पंजाब कांग्रेस में सब ठीक नहीं? नवजोत सिंह सिद्धू बोले- सियासी लोगों के हाथ में अब भी हैं शकुनि के 'पासे'

नवजोत सिंह सिद्धू ( फाइल)

नवजोत सिंह सिद्धू ( फाइल)

जब से सिद्धू अमरिंदर सिंह सरकार से बाहर हुए हैं, कांग्रेस बातचीत करने की कोशिश कर रही है. सिद्धू के राहुल और प्रियंका के साथ अच्छे संबंध हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 6:24 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. बीते दिनों खबर आई थी कि सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मंत्रिमंडल में अपने पूर्व सहयोगी रहे नवजोत सिंह सिद्धू  (Navjot Singh Sidhu) से मुलाकात की थी. माना जा रहा था कि दोनों के बीच खाई पट गई है, लेकिन बुधवार को सिद्धू के कुछ ट्वीट्स से कांग्रेस की गुटबाजी फिर सतह पर आ गई है.

बीते 24 घंटे में सिद्धू ने दो ट्वीट किए जिसने पंजाब कांग्रेस के भीतर सब कुछ ठीक ना चलने की ओर इशारा किया है. मंगलवार को सिद्धू ने लिखा, 'अर्जुन, भीम, युधिष्ठिर सारे समा गए इतिहास में । पर शकुनि के “ पासे “ अब भी हैं सियासी लोगों के हाथ में !! दांव खेला है पंजाब में .....!!!'

फिर बुधवार सुबह-सुबह सिद्धू ने लिखा- 'एक समय था जब मंत्र काम करते थे , उसके बाद एक समय आया जिसमें तंत्र काम करते थे , फिर समय आया जिसमें यंत्र काम करते थे । आज के समय में षड्यंत्र काम करते हैं ।।'




20 दिन पहले रावत से हुई थी मुलाकात
जब से सिद्धू अमरिंदर सिंह सरकार से बाहर हुए हैं, कांग्रेस बातचीत करने की कोशिश कर रही है. सिद्धू के राहुल और प्रियंका के साथ अच्छे संबंध हैं. यह उनके पक्ष में मजबूत कारक है इसके अलावा उन्हें एक प्रभावी प्रचारक के रूप में देखा जाता है, जो पार्टी की मदद कर सकते हैं. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार सूत्र ने कहा, 'राज्य नेतृत्व को नाराज ना करते हुए सिद्धू को महत्वपूर्ण पद दिया जा सकता है.'

Youtube Video


बता दें सिद्धू ने साल 2019 में स्थानीय निकाय मंत्रालय वापस लिए जाने के बाद मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद से कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व सिद्धू को मनाने की कोशिश कर रहा है. ऐसे में दोनों नेताओं के बीच मुलाकात को महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

कांग्रेस नेता तथा पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत सिद्धू को महत्वपूर्ण पद दिये जाने का समर्थन कर रहे हैं. रावत ने 10 मार्च को सिद्धू से मुलाकात की थी. सिद्धू ने कहा था, 'हरीश रावत जी ने मुझे बुलाया था. मुलाकात सकारात्मक रही.'


जब से सिद्धू अमरिंदर सिंह सरकार से बाहर हुए हैं, कांग्रेस बातचीत करने की कोशिश कर रही है. सिद्धू के राहुल और प्रियंका के साथ अच्छे संबंध हैं. यह उनके पक्ष में मजबूत कारक है इसके अलावा उन्हें एक प्रभावी प्रचारक के रूप में देखा जाता है, जो पार्टी की मदद कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज