नौसेना प्रमुख ने कहा - खाड़ी देशों से भारतीयों को निकालने के लिए हम तैयार, सिर्फ आदेश का इंतजार

नौसेना प्रमुख ने कहा - खाड़ी देशों से भारतीयों को निकालने के लिए हम तैयार, सिर्फ आदेश का इंतजार
नेवी चीफ ने भारतीय नौसेना के खाड़ी देशों से लोगों को निकालने के लिए तैयार होने की जानकारी दी है (फाइल फोटो)

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने 22 मार्च से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों (International flights) पर रोक लगा दी थी. इसके बाद कई देशों में भारतीय नागरिक (Indian Citizens) फंस गए थे, जिसमें खाड़ी देशों (Gulf Countries) में सबसे अधिक भारतीय नागरिक शामिल हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय नौसेना प्रमुख (Indian Navy) एडमिरल करमबीर सिंह (Admiral Karambir Singh) ने कहा है कि खाड़ी देशों में बड़ी संख्या में भारतीय प्रवासी (Indian Diaspora) रहते हैं. हमसे उन्हें (हमारे नागरिकों को खाड़ी देशों से निकालने के लिए) निकालने के लिए तैयार रहने को कहा गया है. इसलिए हमने अपने पोत (Ships) तैयार कर लिए हैं और जैसे ही हमें उन्हें निकालने के आदेश मिलते हैं, हम निकल पड़ेंगे.

बता दें कि कोरोना के संक्रमण (Coronavirus Infection) को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने 22 मार्च से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों (International Flights) पर रोक लगा दी थी. इसके बाद कई देशों में भारतीय नागरिक फंस गए थे. खाड़ी देशों में फंसे लोगों में सबसे अधिक भारतीय नागरिक शामिल हैं. अब मोदी सरकार (Modi Government) सभी फंसे भारतीयों को युद्ध-स्तर पर वापस लाने की तैयारी कर रही है जिसके लिए एक विस्तृत प्लान तैयार किया जा रहा है.

भारतीयों की वापसी के प्लान के तीन बिंदु:



1. केंद्र ने सभी राज्यों से कहा है कि वो प्रवासी भारतीयों की वापसी के लिए सुविधाएं तैयार करें
प्रोटोकॉल के मुताबिक विदेश से लौटने पर 14 दिन का क्वारंटाइन (Quarantine) ज़रूरी होगा, कुछ राज्यों ने हाल ही में इसको लेकर केंद्र से इसे लागू करने का सुझाव भी दिया है. ऐसे में विदेश से आने वाले भारतीयों के लिए उनके गंतव्य राज्यों में ही ऐसी सुविधाओं की तैयारी की जा रही है. सोमवार को पीएम मोदी और मुख्यमंत्रियों की बैठक के दौरान भी इस मामले पर चर्चा हुई थी. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि यह ध्यान रखना होगा कि उन्हें किसी तरह की असुविधा न हो और उनकी वापसी पर उनके परिवार के सामने कोई खतरा पैदा न हो. वहीं इस मामले पर कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की सभी राज्यों के मुख्य सचिवों और पुलिस महानिदेशकों से भी चर्चा हुई थी, जिसमें महाराष्ट्र और गुजरात ने अनिवार्य क्वारंटाइन की मांग की थी. वहीं इस मामले पर विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर देश लौट रहे भारतीय नागरिकों के लिए सुविधाएं और स्वास्थ्य व्यवस्थाएं तैयार करने को कहा था.

2. विदेश मंत्रालय का भारतीय मिशनों को निर्देश- विदेश में फंसे भारतीयों के लिए कदम उठाए
अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक के बाद से ही भारतीय दूतावास विदेश में फंसे भारतीयों की मदद के लिए प्रयास कर रहे हैं. कई देशों में भारतीयों की मदद के लिए हॉटलाइन (Hotline) शुरू की गई हैं. वहीं बहुत से देशों में फंसे भारतीयों का पंजीकरण भी किया जा रहा है. वहीं विदेश में बसेाभारतीय समुदाय भी आगे आकर वहां फंसे भारतीय नागरिकों की मदद कर रहा है. सूत्र बताते हैं कि खाड़ी देशों में भी तैयारियां चल रही हैं. UAE ने हाल ही में कहा है कि अपनी मर्ज़ी से जो विदेशी नागरिक लौटना चाहते हैं, उनके देश उनकी सहायता करें.

3. Lockdown खुलने के बाद शुरू होगा ऑपरेशन
सूत्र बताते हैं कि लॉकडाउन खुलने के बाद युद्ध-स्तर पर विदेश में फंसे भारतीयों को भारत लाने के लिए अभी तक का सबसे बड़ा अभियान चलाया जाएगा. लेकिन लॉकडाउन 3 मई से बढ़ाकर 17 मई तक कर दिया गया है. ऐसे में इस रेस्क्यू ऑपरेशन (Rescue Operation) की शुरुआत कब होगी, इसकी कोई तय तारीख नहीं है.

यह भी पढ़ें:- ट्रेन नहीं चलेंगी, विशेष ट्रेन फंसे लोगों के लिए, यात्रा के लिए अनुमति जरूरी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading