लाइव टीवी

हिन्द महासागर में घुसा संदिग्ध चीनी जहाज, भारतीय नौसेना ने खदेड़ा

News18Hindi
Updated: December 3, 2019, 3:28 PM IST
हिन्द महासागर में घुसा संदिग्ध चीनी जहाज, भारतीय नौसेना ने खदेड़ा
4 दिसंबर को नौसेना का स्थापना दिवस है.

चीनी नौसेना के व्यापक विस्तार के बारे में पूछे जाने पर एडमिरल करमबीर सिंह ने कहा कि वे अपनी क्षमता के अनुकूल बढ़ रहे हैं और हम अपनी क्षमता के हिसाब से चल रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 3, 2019, 3:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय जल क्षेत्र में चीन का एक संदिग्ध जहाज घुसने के बाद नौसेना (indian navy ) ने उसे खदेड़ दिया. यह जानकारी नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने दी. उन्होंने कहा कि भारत किसी भी खतरे को नाकाम करने में सक्षम है. उन्होंने यह भी कहा कि भारत, हिन्द महासागर क्षेत्र में चीन की बढ़ती मौजूदगी पर लगातार ध्यान दे रहा है. 4 दिसंबर को नौसेना दिवस समारोह से पहले सिंह ने कहा- 'चीन ने साल 2008 से हिन्द महासागर में उपस्थिति बढ़ाई है. हमारी उन पर नजर है.' उन्होंने कहा, 'शी यान 1 नाम के एक जहाज को नौसेना ने उस वक्त खदेड़ दिया जब वह बिना अनुमति के भारतीय क्षेत्र में था.'

एडमिरल करमबीर सिंह ने जोर देकर कहा कि हिन्द महासागर क्षेत्र में पाकिस्तान की मंशा के बारे में भारत नौसेना पूरी तरह से अवगत है. सिंह ने कहा, 'विशेष आर्थिक क्षेत्र में चीनी महासागरीय अनुसंधान पोत हैं. इस क्षेत्र के पास औसतन सात से आठ जहाज मौजूद हैं. वे कभी-कभी खनन के लिए आते हैं तो कभी एंटी पाइरेसी स्क्वाड के रूप में. जिस भी त्वरित कार्रवाई की जरूरत है, भारतीय नौसेना वह कर रही है.'

पाकिस्तान की मंशा के बारे में हमें है पता- एडमिरल सिंह
करमबीर सिंह ने कहा कि हमें खुफिया इनपुट के बारे में भी पता है कि आतंकी समूह समुद्री रास्तों से भारत में आने की योजना बना रहे हैं. हमने किसी भी खतरे को कम करने के लिए पर्याप्त सुरक्षा तंत्र लगाया है.

नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने मंगलवार को कहा कि नौसेना की दीर्घकालीन योजना है कि उसके पास तीन विमानवाहक पोत हों. साथ ही कहा कि स्वदेश में विकसित पहला विमानवाहक पोत 2022 तक पूरी तरह परिचालन में आ जाएगा.

एडमिरल सिंह ने वार्षिक प्रेस वार्ता में देश को भी आश्वस्त किया कि नौसेना राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी चुनौतियों से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है. उन्होंने कहा कि नौसेना की दीर्घकालिक योजना है कि उसके पास तीन विमानवाहक पोत हों.

महासागर क्षेत्र में सात से आठ चीनी पोत आम तौर पर मौजूद रहते हैं
Loading...

उन्होंने ध्यान दिलाया कि पिछले पांच वर्षों में नौसेना का वार्षिक बजट आवंटन 18 प्रतिशत से घटकर 12 प्रतिशत पर आ गया है. पड़ोसी देशों से मिल रही चुनौतियों पर उन्होंने कहा कि क्षेत्र में किसी और देश की नौसैन्य गतिविधि का हम पर कोई प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए. उन्होंने कहा, 'हम समान विचार वाले देशों के साथ क्षेत्र में काम करने के लिए तैयार हैं.'

एडमिरल सिंह ने कहा कि हिन्द महासागर क्षेत्र में सात से आठ चीनी पोत आम तौर पर मौजूद रहते हैं. नौसेना प्रमुख ने कहा कि भारत हिंद-प्रशांत क्षेत्र में स्थिर भूमिका निभा रहा है.

यह भी पढ़ें:  हांगकांग मानवाधिकार उल्लंघन कानून पर चीन ने किया अमेरिकी नेवी का दौरा स्थगित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 3, 2019, 2:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...