देश में ड्रग्स का जंजाल: 140,000 करोड़ का अवैध कारोबार करने वाले 142 सिंडिकेट्स पर NCB की कड़ी नजर

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के महानिदेशक राकेश अस्थाना की फाइल फोटो ((PTI Photo/Atul Yadav))
नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के महानिदेशक राकेश अस्थाना की फाइल फोटो ((PTI Photo/Atul Yadav))

नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की रिपोर्ट ऐसे समय आई है जब केंद्रीय जांच एजेंसी कन्नड़ और बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में फैले ड्रग कार्टेल की जांच कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 6:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के अलग-अलग हिस्सों में ड्रग्स पहुंचाने और उनका व्यापार करने वाले 142 सिंडिकेट्स नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के निशाने पर है. एनसीबी ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि ये 142 सिंडिकेट्स 140,000 करोड़ के हेरोइन का व्यापार करते हैं और करीब 2 करोड़ लोग इनका सेवन करते हैं. एनसीबी के चौंकाने वाले आंकड़े उस वक्त सामने आए हैं जब वह बॉलीवुड और कन्नड़ फिल्म इंडस्ट्री में ड्रग कार्टेल की जांच कर रही है. एनसीबी के एनालिसिस के अनुसार ये सिंडिकेट अरबों रुपयों के व्यापार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. इनके संबंध पश्चिमी यूरोप, कनाडा, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिकी और पश्चिम एशिया के देशों के साथ हैं.

NCB ने अनुमान लगाया है कि खुदरा-गुणवत्ता वाली हेरोइन के 360 मीट्रिक टन (MT) और थोक-गुणवत्ता वाली हेरोइन के लगभग 36 मीट्रिक टन (MT) भारत में हर साल विभिन्न शहरों में तस्करी की जाती है.  2 करोड़ लोग हर दिन लगभग 1,000 किलोग्राम उच्च गुणवत्ता वाली हेरोइन का सेवन करते हैं.

पंजाब बना हुआ है ड्रग का केंद्र
पंजाब अब भी ड्रग स्मगलिंग का केंद्र बना हुआ है. बीते साल 36 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 74,620 लोग गिरफ्तार किए गए जिसमें से 15,449 लोग सिर्फ पंजाब के हैं. साल 2020 में अब तक 18,600 लोग अरेस्ट किए गए हैं जिसमें 5,299 लोग पंजाब के ही हैं. इन सभी के खिलाफ NDPS एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है.
एजेंसी ने हाल ही में गृह मंत्री अमित शाह के पास यह रिपोर्ट सबमिट की जिसके बाद  इन सिंडिकेट्स के खिलाफ कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए गए. एनसीबी प्रमुख राकेश अस्थाना द्वारा बड़े ड्रग सिंडिकेट्स पर कार्रवाई की जा रही है. बता दें केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) में रहे अस्थाना ने वीवीआईपी हेलिकॉप्टर केस, चारा घोटाला और विजय माल्या द्वारा बैंक धोखाधड़ी सहित कई हाई प्रोफाइल मामलों की जांच की है.





अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार देश के शीर्ष 142 सिंडिकेट्स की जानकारी साझा करते हुए एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम ना प्रकाशित करने की शर्त पर कहा कि इनमें से 25 पंजाब, हिमाचल प्रदेश और हरियाणा के कुछ हिस्सों से संचालित होते हैं. अकेले राजस्थान में नौ हैं. वहीं महाराष्ट्र और गोवा इन आंकड़ों में संयुक्त हैं.  रिपोर्ट के अनुसार इस मामले पर अस्थाना की टिप्पणी नहीं मिल सकी.

कुछ सिंडिकेट्स के संबंध अफगानिस्तान की तालिबान और पाकिस्तान की जासूसी एजेंसी आईएसआई के साथ हैं. ये सिंडिकेट्स इनके जरिए हेरोइन खरीदते हैं. वहीं कुछ सिंडिकेट्स कोकीन के लिए यूरोप, कनाडा और मैक्सिको में अपने सहयोगियों के माध्यम से कोलम्बियाई कार्टेल के साथ प्रत्यक्ष / अप्रत्यक्ष व्यापारिक सौदे  करते हैं.

खाड़ी देशों से मिलते हैं ये लालच
NCB एनालिसिस में कहा गया है कि केरल, तमिलनाडु और लक्षद्वीप में लगभग 10 बड़े ड्रग सिंडिकेट हैं, जिनमें कासरगोड और कन्नूर नेटवर्क को सबसे अधिक सफल माना जाता है. खाड़ी इलाके कतर से जुड़ा एक सिंडिकेट कासरगोड, कन्नूर (केरल), कोडागु, मंगलुरु (कर्नाटक), हैदराबाद, बेंगलुरु, मुंबई, गोवा, चेन्नई और दिल्ली में तस्करों के साथ कोकीन, उच्च गुणवत्ता वाले हेरोइन सप्लाई से जुड़ा हुआ है.

कतर नेटवर्क पर  NCB ने पहले ही कम से कम 14 मामले दर्ज किए हैं.  NCB के डिप्टी डायरेक्टर केपीएस मल्होत्रा ने कहा 'इस नेटवर्क के सदस्य कतर सेंट्रल जेल में बंद ग्रुप के लीडर के साथ सीधे बातचीत करते हैं. कार्टेल खाड़ी में नौकरियों की तलाश कर रहे लोगों को सप्लायर के रूप में उपयोग करता है. ये मुफ्त टिकट, होटल या हनीमून पैकेज आदि देकर लालच देते हैं. ड्रग्स चेक-इन या कैरी-ऑन सामान में सूखे या गीले खाद्य पदार्थों , किराने का सामान, कपड़े या कस्टम मेड कंसीलमेंट्स के साथ छुपाए जाते हैं.' कोकीन की सप्लाई चेन के लिए एनसीबी दिल्ली, मुंबई बेंगलुरु और चेन्नई जैसे शहरों में स्थित तस्करों पर नजर रखे हुए है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज