अपना शहर चुनें

States

शरद पवार की सचिन तेंदुलकर को सलाह- दूसरे विषयों पर ट्वीट करते समय सावधानी बरतें

पवार ने कहा,
पवार ने कहा, "मेरी सचिन तेंदुलकर को सलाह है कि दूसरे क्षेत्र के विषयों पर ट्वीट करते हुए सतर्कता बरतें."(फाइल फोटो)

Sharad Pawar on Sachin Tendulkar: शरद पवार ने प्रतिक्रिया देते हुए शनिवार को कहा कि भारतीय सेलेब्रिटीज के स्टैंड को लेकर लोगों ने अलग-अलग बातें कही हैं. मेरी सचिन तेंदुलकर को सलाह है कि दूसरे क्षेत्र के विषयों पर ट्वीट करते हुए सतर्कता बरतें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2021, 11:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानून (New Farm Law) के खिलाफ विदेशी हस्तियों के ट्वीट के जवाब में एकता की बात करते हुए ट्वीट करने वाले महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को मिश्रित प्रतिक्रियाओं का सामना करना पड़ा है. इसी क्रम में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने प्रतिक्रिया देते हुए शनिवार को कहा कि भारतीय सेलेब्रिटीज के स्टैंड को लेकर लोगों ने अलग-अलग बातें कही हैं. मेरी सचिन तेंदुलकर को सलाह है कि दूसरे क्षेत्र के विषयों पर ट्वीट करते हुए सतर्कता बरतें.

पवार के अलावा महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे ने शनिवार को आरोप लगाया कि केंद्र सरकार को आंदोलनरत किसानों के समर्थन में ट्वीट करने वाली विदेशी हस्तियों पर पलटवार के लिए चलाए गए अपने अभियान में लता मंगेशकर और सचिन तेंदुलकर को नहीं उतारना चाहिए था. ऐसे में इन हस्तियों को भी सोशल मीडिया पर आलोचना का सामना करना पड़ा.

'सचिन और लता की प्रतिष्ठा को दांव पर ना लगाए केंद्र'
उन्होंने कहा कि अगर अमेरिकी गायिका रिहाना और अन्य हस्तियों का नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों का समर्थन करना भारत के आंतरिक मामलों में दखल देने जैसा था, तो डोनाल्ड ट्रंप के समर्थन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नारा भी परेशानी भरा था. राज ठाकरे ने कहा, ‘‘केंद्र को लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) और सचिन तेंदुलकर को उसके रुख के समर्थन में ट्वीट करने के लिए नहीं कहना चाहिए था और उनकी प्रतिष्ठा को दांव पर नहीं लगाना चाहिए था. अब उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रॉलिंग का सामना करना पड़ेगा.’’ उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार को अपने अभियान के लिए अक्षय कुमार जैसे अभिनेताओं का उपयोग तक ही सीमित रखना चाहिए.
'कृषि कानून की कमियों को दूर करे सरकार'


ठाकरे ने तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल के दौरान मोदी की ह्यूस्टन रैली का हवाला देते हुए कहा, 'इस आधार पर, अमेरिका में ‘अगली बार, ट्रंप सरकार’ जैसी रैली करने की कोई आवश्यकता नहीं थी. यह उस देश का आंतरिक मामला था.'

टूलकिट मामला: जयशंकर बोले- बड़े खुलासे हुए, ज्यादा जानकारी के लिए इंतजार करना होगा

उन्होंने यह भी कहा कि किसान जिन कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, उनमें कुछ कमियां हो सकती हैं, जिन्हें दूर किया जाना चाहिए. बता दें कि दुनिया के महान बल्लेबाजों में शुमार सचिन तेंदुलकर ने पॉप स्टार रिहाना समेत उन सभी हस्तियों को दो टूक जवाब दिया था, जो भारत के आंतरिक मामलों में दखल देने की कोशिश कर रहे हैं.

सिंघू, गाजीपुर और टिकरी बॉर्डर सहित दिल्‍ली से सटे इलाकों में शनिवार रात तक इंटरनेट बंद

सचिन तेंदुलकर ने बुधवार को सोशल मीडिया पर लिखा कि भारतीय संप्रभुता से किसी भी तरह का समझौता नहीं होगा और विदेशी ताकतें इससे दूर रहें. तेंदुलकर ने कहा कि भारत के आंतरिक मामलों में विदेशी ताकतों की भूमिका दर्शक तक ही सीमित है न कि हिस्सेदार की. उन्होंने देशवासियों से एकजुट रहने की भी अपील की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज