सियासी बिसात पर शरद पवार की बड़ी चाल, कांग्रेस छोड़ बाकी विपक्ष संग कल दिल्ली में करेंगे बैठक

माना जा रहा है एनसीपी के सुप्रीमो 2024 की तैयारियों में लगे हुए हैं. फाइल फोटो

Sharad Pawar-Yashwant Sinha Meeting: मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ 2018 में यशवंत सिन्हा ने राष्ट्रमंच का गठन किया था. सिन्हा अब टीएमसी के उपाध्यक्ष हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. सियासी बिसात पर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार ने बड़ी चाल चली है. एनसीपी नेता मंगलवार को दिल्ली में गैर कांग्रेस विपक्ष के नेताओं के साथ बैठक (Sharad Pawar meeting in Delhi) करेंगे. दरअसल मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ 2018 में यशवंत सिन्हा ने राष्ट्रमंच का गठन किया था. सिन्हा अब टीएमसी के उपाध्यक्ष हैं. दिल्ली में शाम 4 बजे एनसीपी नेता के आवास पर होने वाली बैठक में शरद पवार और यशवंत सिन्हा (Sharad Pawar-Yashwant Sinha meeting) के अलावा कुछ और नेता भी शामिल होंगे. बैठक से जुड़े एक नेता ने कहा कि शरद पवार राष्ट्रमंच (Rashtra Munch) को सुझाव देंगे.

पवार के घर राष्ट्रमंच की बैठक के मायने!
हालांकि राष्ट्रमंच कोई राजनीतिक मंच नहीं है, लेकिन भविष्य में इसके माध्यम से किसी तीसरे विकल्प की संभावना से इनकार भी नहीं किया जा सकता, क्योंकि राष्ट्र मंच में सरकार के खिलाफ राजनीतिक समेत अन्य मसलों पर चर्चा होती है. शरद पवार पहली बार राष्ट्र मंच की बैठक में शिरकत करेंगे, ऐसे में राष्ट्र मंच के फैसले और गतिविधियां महत्वपूर्ण हो जाती हैं. राजनीतिक रूप से कुछ और पहलुओं को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए. मसलन, हाल ही में एनसीपी प्रमुख शरद पवार की मुलाकात चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर से लंबे वक्त तक चली और उसके बाद राष्ट्र मंच की बैठक हो रही है.



हालांकि इस बैठक में पवार-प्रशांत के बीच राष्ट्रमंच पर बातचीत की कोई पुष्टि नही हुई हैं. दूसरा, राष्ट्रमंच की स्थापना करने वाले यशवंत सिन्हा अब टीएमसी के उपाध्यक्ष हैं और बंगाल में टीएमसी की जीत हुई जिसमें प्रशांत किशोर की भूमिका भी अहम रही है. पहले और दूसरे पहलू को एक साथ देखें तो पर्दे के पीछे कुछ होने से इनकार भी नहीं किया जा सकता.

राष्ट्र मंच पर ममता बनर्जी की मुहर पहले से है. पूर्व की बैठकों में टीएमसी से दिनेश त्रिवेदी हिस्सा लेते रहे हैं, लेकिन अब वे टीएमसी का दामन छोड़ चुके हैं और यशवंत सिन्हा अब टीएमसी में हैं. ऐसे में टीएमसी के प्रतिनिधि के तौर पर और राष्ट्रमंच के संस्थापक के तौर पर वो बैठक में मौजूद रहेंगे.

ये भी पढ़ेंः शरद पवार से प्रशांत किशोर ने फिर की मुलाकात, दिल्ली में बढ़ीं सियासी अटकलें

2018 में यशवंत सिन्हा ने शुरू किया था राष्ट्र मंच!
साल 2018 में यशवंत सिन्हा ने देश की आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक स्थिति पर चर्चा के लिये राष्ट्र मंच शुरू किया था. इसमें विपक्षी दलों के विभिन्न नेताओं के अलावा गैर राजनीतिक लोग भी हिस्सा लेते रहे हैं. राष्ट्र मंच का मकसद केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ आवाज उठाना है.

पूर्व में बतौर तृणमूल कांग्रेस सदस्य दिनेश त्रिवेदी, कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी, सांसद माजिद मेमन, आम आदमी पार्टी सांसद संजय सिंह, गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री सुरेश मेहता और जेडीयू नेता पवन वर्मा राष्ट्र मंच की बैठक में शामिल हो चुके हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.