पुलिस और सीबीआई ने ऐसे खोला एनडी तिवारी के बेटे रोहित की मौत का राज़

रोहित शेखर तिवारी (फ़ाइल फोटो)
रोहित शेखर तिवारी (फ़ाइल फोटो)

पुलिस और सीबीआई ने मिलकर केस को सॉल्व कर लिया है. चौंकाने वाली बात ये हे कि पुलिस और सीबीआई ने रोहित के कमरे से मिले टिशू पेपर से मौत का राज़ खोला है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2019, 10:13 AM IST
  • Share this:
5 दिन पहले हुई पूर्व सीएम एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की मौत का संस्पेंस खत्म हो गया है. पुलिस और सीबीआई ने मिलकर केस को सॉल्व कर लिया है. चौंकाने वाली बात ये हे कि पुलिस और सीबीआई ने रोहित के कमरे से मिले एक टिशू पेपर से मौत का राज़ खोला है.

ये भी पढ़ें- रोहित शेखर की वकील पत्नी अपूर्वा के एक बयान से रखे रह गए पुलिस-CBI के सुबूत

जानकारों की मानें तो शुरुआत में जैसा कहा जा रहा था कि रोहित की मौत हार्ट अटैक से हुई है. लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने इस दावे को झुठला दिया था. पोस्टमार्टम में खुलासा हुआ था कि रोहित का हार्ट सिकुड़ा हुआ है. हथेली और तलवे नीले पड़ रहे थे. नाक से खून निकल रहा था. जानकारों की मानें तो पुलिस ने इसी थ्योरी पर काम करना शुरु किया.



ये भी पढ़ें- ये थी रोहित शेखर की मौत की वजह, पुलिस बोली पहले से प्लॉन्ड नहीं था मर्डर!
फॉरेंसिक एक्सपर्ट बताते हैं कि हॉर्ट अटैक आने पर कभी नाक से खून नहीं आता है. शरीर में जब ऑक्सीजन की कमी होती है तो कान के ऊपर से जाने वाली नस फट जाती है. रोहित के मामले में भी ऐसा ही हुआ. उसकी कान के पास वाली नस फटी हुई थी. इसीलिए नाक से खून आया. शरीर में ऑक्सीजन की कमी हुई थी इसीलिए हाथ की हथली और पैर के तलवे नीले पड़ गए थे.

लेकिन सवाल ये था कि इन कड़ियों को जोड़कर आरोपी तक कैसे पहुंचा जाए. हालांकि रोहित की मौत के बाद भी उसी रात उसके मोबाइल को खोला गया था. उससे कुछ कॉल भी की गईं थी. ये सब सबूत भी पुलिस के पास थे. हालांकि पुलिस घर के सीसीटीवी की जांच कर ये तसल्ली कर चुकी थी कि उस रात बाहर से घर के अंदर कोई नहीं आया था.

टिशू पेपर से रोहित की पत्नी अपूर्वा तक पहुंची पुलिस और फॉरेंसिक टीम

सूत्र बताते हैं कि इसी बीच पुलिस ने सीबीआई की फॉरेंसिक टीम की मदद मांगी. गौरतलब रहे कि सीबीआई की फॉरेंसिक टीम खासी अच्छी मानी जाती है. जबकि अभी तक दिल्ली की एफएसएल फॉरेंसिक साइंस लैबोट्ररी इस केस में पुलिस की मदद कर रही थी.

सीबीआई की फॉरेंसिक टीम आने के बाद पुलिस ने 3 दिन बाद एक बार फिर रोहित के घर और खासतौर से उसके कमरे की तलाशी ली. कमरे की तलाशी के दौरान पुलिस को वहां से एक-दो टिशू पेपर मिले. पेपर पर खून लगा हुआ था. बस इसी को आधार बनाकर पुलिस ने एक-एक कर रोहित के सौतेले भाई सिद्धार्थ, नौकर और पत्नी अपूर्वा से गहन पूछताछ शुरु कर दी.

मार्कंडेय काटजू ने कहा- ‘हिन्दी कविता में नहीं उर्दू जैसा दम’, कुमार विश्वास ने दिया करारा जवाब

सूत्र बताते हैं कि ये वो ही टिशू पेपर हैं जिनसे रोहित की नाक से निकलते हुए खून को पोछा गया था. इसी के बाद जांच में ये साफ हुआ कि रोहित का गला दबाया गया था.

ये भी पढ़ें-

पहले बढ़ती जनसंख्या पर जताई परेशानी, फिर बीवी और तीन बच्चों का किया कत्ल

Neet Exam: बुर्का और पगड़ी पहनने वालों के लिए एनटीए ने जारी किए ये जरूरी निर्देश

कश्मीर: CRPF जवान ने दिया खून तो बची गर्भवती महिला और बच्चे की जान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज