कोरोना वैक्सीन की बर्बादी को 1% से कम रखने की जरूरत, केंद्र ने राज्यों और UTs से कहा

केंद्र सरकार कोरोना वैक्‍सीन के टीकाकरण को चरणबद्ध तरीके से चला रही है.

केंद्र सरकार कोरोना वैक्‍सीन के टीकाकरण को चरणबद्ध तरीके से चला रही है.

Coronavirus Vaccination: देश में अब तक 6.30 करोड़ से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं. इनमें से 82,16,239 स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों को टीके की पहली खुराक, 52,19,525 कर्मियों को दूसरी खुराक दी जा चुकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 7:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बुधवार को इस बात पर जोर दिया कि राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों को चाहिए कि वह कोरोना वायरस की वैक्सीन की बर्बादी को एक फीसद से कम रखें. उनका यह बयान ऐसे समय में आया है जबकि देश में चल रहे टीकाकरण की प्रक्रिया में एक अप्रैल से वे लोग भी शामिल हो सकेंगे जिनकी उम्र 45 साल से ऊपर है.

देश में कोरोना वायरस के खिलाफ चल रहे टीकाकरण की तैयारियों की समीक्षा के साथ ही एक अप्रैल से शुरू हो रहे 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण की तैयारियों को लेकर बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई गई थी, जिसमें सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के स्वास्थ्य सचिव, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के राज्य निदेशक और राज्य बचाव अधिकारी शामिल थे.

बैठक के दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने अधिकारियों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि उपलब्ध कोरोना वैक्सीन का समय से इस्तेमाल हो जाए. उन्होंने अधिकारियों से इस बात पर भी जोर देने को कहा कि वे वैक्सीन की बर्बादी को एक प्रतिशत से कम पर कायम रखें और सभी स्तरों पर वैक्सीन की बर्बादी की लगातार समीक्षा करते रहें. वर्तमान समय में देश में 6 प्रतिशत कोरोना वैक्सीन की बर्बादी हो रही है.

वहीं, टीकाकरण पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि बुधवार सुबह सात बजे तक मिली रिपोर्ट के अनुसार 6.30 करोड़ से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं. इनमें से 82,16,239 स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों को टीके की पहली खुराक, 52,19,525 कर्मियों को दूसरी खुराक, 90,48,417 अग्रिम मोर्चे के कर्मचारियों को पहली खुराक और अग्रिम मोर्चे के 37,90,467 कर्मचारियों को दूसरी खुराक, 45 साल से अधिक आयु वाले 73,52,957 लोगों को पहली खुराक और 6,824 को दूसरी खुराक दी जा चुकी है. साथ ही 60 वर्ष से अधिक आयु वाले 2,93,71,422 लोगों को पहली खुराक और 48,502 को दूसरी खुराक दी जा चुकी है. मंत्रालय ने बताया, ‘‘टीकाकरण अभियान के 74वें दिन (30 मार्च) तक कुल 19,40,999 टीके लगाए गए.’’
कोविड-19 : देश में संक्रमित लोगों में से 79 प्रतिशत से अधिक मामले पांच राज्यों में

इस बीच, मंत्रालय ने बताया कि देश में कोविड-19 का अब भी इलाज करा रहे लोगों में से 79 प्रतिशत से अधिक मामले पांच राज्यों में हैं जिनमें से 61 प्रतिशत से अधिक संक्रमित लोग अकेले महाराष्ट्र में हैं. महाराष्ट्र के अलावा कर्नाटक, केरल, पंजाब और छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के अधिक मामले हैं. मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "देश में कोविड-19 का इलाज करा रहे मरीजों में से 79.30 प्रतिशत मरीज पांच राज्यों महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, पंजाब और छत्तीसगढ़ में हैं. महाराष्ट्र में सबसे अधिक 61 प्रतिशत से अधिक मरीज उपचाराधीन हैं." केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि आठ राज्यों महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, गुजरात, पंजाब और मध्य प्रदेश में कोविड-19 के नए मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. वैश्विक महामारी के नए मामलों में से 84.73 प्रतिशत मामले इन राज्यों से ही हैं.

इस साल एक दिन में कोरोना से सबसे अधिक मौत



दूसरी ओर, भारत में एक दिन में कोरोना वायरस के 53,480 नए मामले सामने आए जिसके बाद संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1,21,49,335 हो गई. वहीं, संक्रमण से 354 और लोगों की मौत हो गई जो इस साल एक दिन में सर्वाधिक मृतक संख्या है. इसी के साथ देश में मृतकों की कुल संख्या बढ़कर 1,62,468 हो गई. देश में 17 दिसंबर को इस महामारी से 355 लोगों की मौत हुई थी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा बुधवार को सुबह आठ बजे तक जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में अब भी 5,52,566 मरीज उपचाराधीन हैं जो संक्रमण के कुल मामलों का 4.55 प्रतिशत है. स्वस्थ होने वाले लोगों की दर गिरकर 94.11 प्रतिशत रह गई है. आंकड़ों के मुताबिक 1,14,34,301 लोग इस बीमारी से उबर चुके हैं, जबकि मृत्यु दर 1.34 प्रतिशत है. (इनपुट भाषा से भी)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज